‘दिग्गी’ के हिंदू-मुस्लिम के आबादी वाले बयान पर रामेश्वर शर्मा ने किया पलटवार, कहा- 4 बीवी से 40 बच्चों के धंधे को आगे बढ़ाना चाहते हैं ‘चचा’

भोपाल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने हिंदू मुस्लिम आबादी के गणित को समझाते हुए एक बयान दिया है. जिससे सूबे की सियासत गरमा गई है. उनके इस बयान पर बीजेपी के फायर ब्रांड नेता एवं विधायक रामेश्वर शर्मा ने पलटवार किया है. उन्होंने कहा कि दिग्विजय चचा के मंसूबे, चचा 4 बीवी उनसे 40 बच्चों के धंधे को आगे बढ़ाना चाहते हैं.

बीजेपी विधायक रामेश्वर शर्मा ने कहा कि चचा चाहते हैं कि मुस्लिम आबादी हिंदुओं से बढ़ जाए. चचा हिन्दुस्तान को इस्लामिक देश घोषित कराना चाहते हैं. चचा जाकिर नाईक के मंसूबे को आगे बढ़ा रहे हैं. उन्होंने नसीहत देते हुए कहा कि दिग्विजय मौलाना न बनें.

इसे भी पढ़ेः EXCLUSIVE: ‘सदन’ में BJP से अधिक युवा है कांग्रेस, भाजपा से दोगुना कांग्रेस में हैं युवा विधायक, जानिए कांग्रेस से कितनी बूढ़ी है बीजेपी

आपको बता दें कि दिग्विजय सिंह ने ट्वीट करते हुए एक रिपोर्ट के हवाले से कहा, ”रिपोर्ट से यह साबित होता है कि मुसलमानों की जन्म दर हिंदुओं से अधिक तेज़ी से गिर रही है. यह अनुमान लगाया जा रहा है कि यदि इसी प्रकार से हिंदुओं और मुसलमानों की जन्म दर घटती है तो वर्ष २०२८ तक दोनों की जन्म दर स्थाई हो कर भारत की जनसंख्या स्थिर हो जाएगी.”

इसे भी पढ़ेः MP: कुछ देर में शुरु होगी BJP कोर ग्रुप की बैठक, चुनावी रणनीति और विषयों पर होगी चर्चा

दिग्विजय सिंह ने अपने दूसरे ट्वीट में कहा, ”जनता में एक और भ्रम फैलाया जा रहा है कि मुसलमानों की जनसंख्या बढ़ती जा रही है और हिंदुओं की घटती जा रही है जिसकी वजह से २०३०-२०४० तक मुसलमान बहुसंख्यक हो जाएँगे!”

इसे भी पढ़ेः सिमी के 4 आतंकियों को मिली सुप्रीम कोर्ट से ज़मानत, ATS नहीं पेश कर पाई चार्जशीट

गौरतलब है कि दिग्विजय सिंह ने सीहोर में किसान पदयात्रा कार्यक्रम के दौरान दिग्विजय सिंह ने एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए दावा किया कि 2028 तक हिंदू और मुस्लिमों की जन्मदर बराबर हो जाएगी. उन्होंने टाउन हॉल में कहा, ‘ये कहते हैं कि मुसलमान 4-4 बीवी कर लेते हैं. दर्जनों बच्चे पैदा कर लेते हैं. और 10-20 साल बाद मुसलमान बहुसंख्यक हो जाएंगे और हिंदू अल्पसंख्यक हो जाएंगे. मैं चुनौती देता हूं जो भी मुझसे चर्चा करना चाहें कर लें.’

इसे भी पढ़ेः हाईकोर्ट ने उप चुनाव टालने से किया इनकार, कहा- इलेक्शन कमीशन संवैधानिक संस्था, चुनाव कराना उसका अधिकार

Related Articles

Back to top button