दूसरे चरण के लिए आज शाम थम जाएगा प्रचार प्रसार, तीनों लोकसभा में उम्मीदवार घर-घर जाकर कर सकेंगे प्रचार

रायपुर. लोकसभा चुनाव 2019 के दूसरे चरण में प्रदेश के तीन लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए प्रचार प्रसार आज मंगलवार शाम पाँच बजे समाप्त हो जाएगा. राजनांदगांव, महासमुंद और कांकेर लोकसभा क्षेत्रों के लिए हो रहे निर्वाचन के लिए 18 अप्रैल को मतदान होगा. इस चरण में नाम वापसी के बाद कुल 36 अभ्यर्थी निर्वाचन के लिए शेष बचे हैं. तीनों लोकसभा क्षेत्रों में प्रचार थम जाएगा. इस दौरान अभ्यर्थी अथवा राजनीतिक दल रैली, जुलूस ,सभा और सार्वजनिक आयोजन कर प्रचार नहीं कर सकेंगे, लेकिन अभ्यर्थी घर-घर जाकर और व्यक्तिगत संपर्क कर अपना प्रचार कर सकेंगे.

लोकसभा निर्वाचन के दूसरे चरण में 36 अभ्यर्थियों (राजनांदगाँव में 14, महासमुंद में 13 और कांकेर में 9) के लिए 49 लाख 7 हजार 489 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे. कुल मतदाताओं में 24 लाख 69 हज़ार 110 महिलाएं, 24 लाख 38 हज़ार 320 पुरुष तथा 59 तृतीय लिंग के मतदाता हैं. शतप्रतिशत मतदान सुनिश्चित करने के लिए तीन लोकसभा क्षेत्रों में छह हजार 484 मतदान केन्द्र बनाए गए हैं.

निर्वाचन के दौरान मीडिया के गलत उपयोग को रोकने भारत निर्वाचन आयोग ने व्यापक तैयारियाँ की हैं. आयोग ने कहा है कि मतदान दिवस तथा उसके पहले दिन कोई भी प्रत्याशी, राजनीतिक दल अथवा अन्य कोई संगठन राजनीतिक विज्ञापन प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित करने के पूर्व मीडिया प्रमाणन समिति से पूर्व प्रमाणन सुनिश्चित करेंगे. इसके लिए भारत निर्वाचन आयोग ने जिला तथा राज्य मीडिया प्रमाणन समिति को प्रमाणन के लिए प्राप्त आवेदन पर त्वरित निर्णय लेने के निर्देश पहल ही दे दिए हैं.

भारत निर्वाचन आयोग के परिपत्र के अनुसार प्रदेश में द्वितीय चरण के निर्वाचन के लिए 18 अप्रैल और उसके एक दिन पहले 17 अप्रैल को प्रिंट मीडिया में राजनीतिक विज्ञापन जारी करने से पहले मीडिया प्रमाणन समिति से विज्ञापन का पूर्व प्रमाणन कराना आवश्यक है.

इसी प्रकार लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 के प्रावधानों के तहत लोकसभा निर्वाचन के लिए पहले चरण का मतदान शुरू होने के 48 घंटे पहले से लेकर विधानसभा निर्वाचन वाले सभी राज्यों में मतदान की समाप्ति के आधा घंटा बाद तक मीडिया द्वारा एक्जिट पोल और इसके परिणाम का प्रकाशन-प्रसारण प्रतिबंधित किया गया है. इस अवधि में कोई भी व्यक्ति किसी भी निर्वाचन क्षेत्र में एक्जिट पोल सर्वेक्षण नहीं कर सकेगा और प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, चलचित्र, टेलीविजन या किसी अन्य माध्यम पर इसके परिणाम का प्रकाशन-प्रसारण नहीं कर सकेगा. इसके अतिरिक्त इस अवधि में किसी भी प्रकार के जनमत सर्वेक्षण की रिपोर्ट का प्रकाशन अथवा प्रसारण भी प्रतिबंधित होगा.

मतदान से पहले तीन राज्यों की सीमाएं सील, महाराष्ट्र, ओडिसा, और मध्यप्रदेश की सीमाओं पर 28 से अधिक चेकपोस्ट, दूसरे चरण के चुनाव के लिए की तैयारी गई है. बड़ी संख्या में राज्य पुलिस और केंद्रीय सुरक्षा बल के जवान 24 घंटे तैनात हैं. वाहनों की जांच साथ ही संदिग्धों पर भी नजर है. कांकेर और राजनांदगांव लोकसभा क्षेत्र की सीमा महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश की सीमा से जुड़ी है.

विज्ञापन

Close Button
Close Button
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।