प्रतिबंधित जय स्तंभ चौक में रैली की अनुमति देकर फंसा प्रशासन, छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना सिविल लाईन थाने का किया घेराव, 15 दिनों की भीतर कार्रवाई करने की दी चेतावनी

रायपुर। प्रतिबंधित क्षेत्र जय स्तंभ चौक में सिंधी समाज को रैली की इजाजत देकर पुलिस और जिला प्रशासन विवादों में घिर आया है. छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना अब इसी को आधार बनाकर पुराने मामले में प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया. छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना ने शहीद वीरनारायण सिंह के शहादत दिवस में रैली करने से रोकने और 6 अप्रेल को सिंधी समाज को रैली की इजाजत देने से नाराज हो गया है. क्रांति सेना के पदाधिकारियों ने इसी मुद्दे को उठाते हुए आज सिविल लाईन थाने का घेराव कर दिया है.

विवाद इस वजह से भी बड़ गया को प्रतिबंधित क्षेत्र में रैली 6 अप्रेल को रैली निकालने का विरोध करने पर क्रांति सेना के एक पदाधिकारी की गिरफ्तारी सिविल लाईन पुलिस ने की है. क्रांति सेना के पदाधिकारियों सिविल लाईन का घेराव करते हुए प्रशासन को चेतावनी दी है कि धारा 144 का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करे. कार्रवाई करने के लिए 15 दिन का अल्टीमेटम क्रांति सेना ने दिया है. छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना के अध्यक्ष अमित बघेल ने कहा कि जब एक समाज को प्रशासन रैली की अनुमति दे सकता है तो फिर हमें क्यों नहीं ? और अगर अनुमति नहीं है तो फिर रैली की अनुमति देने वाले अधिकारी और रैली निकालने वालों के खिलाफ कार्रवाई जाए. क्रांति सेना ने मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन देते हुए सिविल लाईन में थाने में प्रतिबंधित क्षेत्र जय स्तंभ में रैली निकालने वाले के खिलाफ नामजद शिकायत भी की है. पुलिस जांच के बाद कार्रवाई का आश्वसन देते हुए फिलहाल मामले को शांत करा दिया है.

विज्ञापन

Close Button
Close Button
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।