विधानसभा से सीएम भूपेश का जवाब: जेटली-झीरम-नान-अंतागढ़ से लेकर किराये के हेलीकॉप्टर और डीएमएफ से लेकर लोकसभा चुनाव तक….पूरी खबर

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने विरोधी दल के नेताओं को एक साथ कई झटके दिए हैं. इसकी गूँज छत्तीसगढ़ विधानसभा के साथ केन्द्रीय सत्ता में सुनाई पड़ रही है. लिहाजा केन्द्रीय मंत्री जेटली के टिप्पणियों पर पलटवार जहां बघेल ट्विटर कर रहे हैं तो सदन के भीतर विपक्ष के सवालों का सामना भी मजबूती से कर रहे हैं. फिर चाहे सदन में गूंजने वाला झीरम-नान-अंतागढ़ का मसला हो या फिर विकास कार्यों के ठप होने से लेकर पूर्व सरकारी करोडों खर्च किराये पर लिए गए हेलीकॉप्टर का मसला. और जिला खनिज निधि के मसले पर सीधे और सख्त प्रहार. इन तमाम मुद्दों के साथ भूपेश बघेल ने पत्रकारों के सामने लोकसभा चुनाव से जुड़े सवालों पर भी जवाब दिए.

अरुण जेटली पर पलटवार
अरुण जेटली के आरोपों पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का पलटवार करते हुए कहा कि बहुत सतही बात केंद्रीय मंत्री कह रहे है. ये बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है. यदि कांग्रेस का नक्सलियों से संबंध था तो 15 साल बीजेपी की सरकार थी, आखिर तब क्या कर ही थी सरकार?  हमने अपने नेताओं को खोया है वहाँ. पूर्व केन्द्रीय मंत्री विद्याचरण शुक्ला, नंदकुमार पटेल, बस्तर टाइगर महेंद्र कर्मा समेत 29 लोगों की जाने गई थी. हमारे संबंध नहीं उनके संबंध रहे होंगे नक्सलियों से. जेटली जी को कांग्रेस पार्टी से माफी माँगनी चाहिए. झीरम घाटी की घटना सुपारी किलिंग है. इसलिए हमने केस वापस लिया है. एनआईए केस वापस नहीं कर रहा. इसका मतलब है कि दाल में कुछ काला है.

विपक्ष को ये सब याद रहे
राजनीतिक नेताओं और कार्यकर्ताओं पर आपराधिक मामले दर्ज करने के मामले में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि अभी तो फाइल की कुछ धूल ही हटी है. तात्कालिक घटना पर ही स्थगन लाया जाता है. ये बात कर रहे है अंतागढ़ की, नान की. इस मामले में अलग-अलग जगह जहां एफआईआर हुई है उसे एक जगह लाया जा रहा है. ये लोग किसे बचाने में लगे हैं. आतंक का माहौल उनके कार्यकाल में था. झीरम घाटी कब हुई, नान घोटाला कब हुआ. धमकी चमकी उनके कार्यकाल में होती थी.

जिनता किराया उतने में दो-तीन हेलीकॉप्टर आ जाते
हेलीकॉप्टर मामले में बोले सीएम भूपेश बघेल- पिछली ने 29 करोड़ और पुलिस प्रशासन ने 49 करोड़ रुपये हेलीकॉप्टर के लिए खर्च किया था. इतने में तो दी-तीन हेलीकॉप्टर आ जाते, लेकिन पिछली सरकार ने तय किया कि किराए में ही लेना है. अब हम परीक्षण करेंगे कि हेलीकॉप्टर किराए पर लेना है या नहीं. नये हेलिकॉप्टर खरीदने पर परीक्षण के बाद विचार करेंगे. डीएमएफ की गाइडलाइन से बाहर जाकर यदि कोई अधिकारी काम किया है तो इसकी जांच होनी ही चाहिए.

लोकसभा चुनाव टिकट पर फैसला हाईकमान का
लोकसभा चुनाव में बड़े नेताओं के बेटे को टिकट देने के मामले में कहा कि हाईकमान का फैसला है तो इस पर मैं क्या कहूँ. कार्यकर्ताओं की इच्छाओं को ही मैं आगे बढ़ाऊंगा. अंतिम फैसला हाईकमान का होगा. राहुल गांधी ने कहा था, बड़े नेताओं को चुनाव लड़ना है तो लड़ लें परिवार के सदस्यों के लिए न मांगे टिकट.

विज्ञापन

Close Button
Close Button
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।