देखिए वीडियो- आखिर विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत ने पत्रकारों को कार्यक्रम से क्यों चले जाने को कहा, और पत्रकारों ने कार्यक्रम का क्यों किया बहिष्कार?…

रवि गोयल, जांजगीर-चांपा. जांजगीर चांपा जिले के पत्रकारों ने विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत के कार्यक्रमों का बहिष्कार कर दिया है. महंत ने भी गुस्से होते हुए पत्रकारों को चले जाने के लिए कह दिया. दरअसल जिला मुख्यालय के शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला में सोमवार को जाज्वल्य देव लोक महोत्सव का आयोजन किया गया, जिसमें चरणदास महंत पहुंचे थे. महंत के मंच पर पहुंचते ही स्थानीय पत्रकारों ने जिला पंचायत सीईओ अजीत वसंत को हटाने की मांग करने लगे. पत्रकारों का कहना था कि सीईओ का व्यवहार मीडियाकर्मियों के साथ अच्छा नहीं है, जिसके चलते सीईओ को हटाने की मांग कर रहे हैं. महंत ने पत्रकारों को शांत हो जाने की समझाइश दी. इसके बाद अचानक पत्रकारों ने नारेबाजी शुरू कर दी.

महंत ने सभी पत्रकारों को शांत कराते हुए कहा कि आप हमारी बात सुन नहीं रहे. आपकी आवाज कल मुख्यमंत्री आएंगे वे सुन लेंगे. आप सुन लीजिए. आज आप हमारी बात सुन लीजिए, अगर आप हमारी बात नहीं सुनेंगे तो हम भी आपकी बात नहीं सुनेंगे. जिसको-जिसको यहां रहना है रहे, जिसको नहीं रहना चले जाए. कार्यक्रम शांति से होगा. आप कार्यक्रम में योगदान देना चाहते हैं तो दीजिए नहीं तो हमें जरूरत नहीं चले जाएं.

विधानसभा अध्यक्ष महंत द्वारा चले जाने की बात कहने पर पत्रकारों ने कार्यक्रम का बहिष्कार कर दिया. इसके साथ ही पत्रकारों ने महंत के किसी भी कार्यक्रम का कवरेज नहीं करने की बात कही है. इस घटना को लेकर पत्रकारों में काफी गुस्सा है. जिला प्रशासन हाय-हाय के नारे लगे. चरणदास महंत के भी हाय हाय के नारे लगे. जिला पंचायत सीईओ के खिलाफ पत्रकारों का गुस्सा चरम पर था. लेकिन उनके लिए सबसे बड़ी असमंजस की बात है कि प्रदेश के दोनों ही राजनीतिक पार्टियों द्वारा उनकी गरिमा पर चोट पहुंचाई है. वह भी मात्र 3 दिनों के अंदर. राजधानी में भी भाजपा कार्यालय में पत्रकार के साथ मारपीट की गई है. इसके विरोध में पत्रकार प्रेस क्लब मोतीबाग के पास अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं.

देखिए वीडियो-

विज्ञापन

Close Button
Close Button
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।