Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

नई दिल्ली-बेशक टीम इंडिया साउथ अफ्रीका दौरे के लिए रवाना हो चुकी है, लेकिन दौरे के शुरुआत से पहले ही विराट कोहली की परेशानी इस खिलाड़ी ने बढ़ा दी है। दरअसल टीम इंडिया के धाकड़ सलामी बल्लेबाज शिखर धवन का सीरीज के पहले टेस्ट मैच में खेल पाना मुश्किल लग रहा है। भारत-साउथ अफ्रीका के बीच सीरीज के पहले टेस्ट मैच की शुरुआत 5 जनवरी से है। सलामी बल्लेबाज शिखर धवन के टखने में चोट है। भारतीय टीम की रवानगी से पहले धवन को लंगड़ाते हुए टीम होटल में जाते हुए देखा गया।

खबर ये भी है कि उनके बाएं टखने में पट्टी बंधी थी। उनके साथ टीम इंडिया के फिजियो भी थे। सूत्रों के हवाले से खबर ये है की उनका एमआरआई स्कैन भी कराया गया है। धवन के इस तरह से चोटिल होने के बाद उनके पहले टेस्ट मैच में खेलने पर सस्पेंस बन गया है। शिखर धवन सीरीज के पहले टेस्ट मैच के लिए फिट नहीं रहते हैं तो फिर लोकेश राहुल को मुरली विजय के साथ पारी की शुरुआत करने का मौका मिल सकता है। लेकिन धवन का सीरीज से पहले इस तरह चोटिल होना टीम इंडिया के लिए बड़ा झटका हो सकता साबित हो सकता है। क्योंकि शिखर धवन अपने शानदार फॉर्म में चल रहे हैं और पिछले कुछ समय से टीम इंडिया के लिए मजबूत सलामी बल्लेबाज की भूमिका भी अदा कर रहे हैं।

रहाणे भी फॉर्म में नहीं
विदेशी सरजमीं पर जब टीम इंडिया खेलती है। तो बल्लेबाजों का रोल बड़ा होता है क्योंकि वहां के गेंदबाज बल्लेबाजों की कड़ी परीक्षा लेते हैं। ऐसे में धवन के अनफिट होने पर कोहली की टेंशन इस बात पर भी बढ़ सकती है कि अजिंक्या रहाणे का फॉर्म इस समय सही नहीं चल रहा है। और विदेशी सरजमीं पर हमेशा ही रहाणे के बल्ले से रन निकले हैं। ऐसे में रहाणे के आउटऑफ फॉर्म होने के बाद अब धवन का चोटिल होना कप्तान की परेशानी बढ़ा सकता है।
जानिए धवन क्यों हैं दमदार ?
शिखर धवन टीम इंडिया के मजबूत और सीनियर खिलाड़ियों में से एक हैं। शिखर धवन ने 28 टेस्ट मैच में अबतक 43.78 की औसत से 2 हजार 14 रन बनाए हैं। जिसमें से 6 शतक लगाए हैं। ये तो रहा धवन का टोटल टेस्ट करियर, उनके मौजूदा फॉर्म की बात करें तो शिखर धवन ने पिछले 12 महीने में टोटल 5 टेस्ट मैच खेले हैं। जिसमें से 68.75 के मजबूत औसत से 550 रन बनाए हैं। जिसमें 2 शतक भी शामिल हैं।
ऐसे में इस तरह दौरे के शुरुआत से पहले ही ऐसे धाकड़ खिलाड़ी का चोटिल रहना और एक स्किल्ड खिलाड़ी का आउट ऑफ फॉर्म रहना किसी भी कप्तान की टेंशन को बढ़ा सकता है।