Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की दशकों पुरानी एक तस्वीर काफी वायरल हो रही है. जिसमें वो पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के साथ बातचीत करते हुए दिखाई दे रहे हैं. इस तस्वीर को लेकर लोग अपनी-अपनी भावनाएं भी व्यक्त कर रहे हैं. बताया जा रहा है कि ये तस्वीर 1988 की है, जब वो तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी से किसी मुद्दे पर बात कर रहे हैं.

तस्वीर में पूर्व IB डायरेक्टर भी दिखाई दे रहे हैं. इस तस्वीर के बारे कई तरह की चर्चाए हैं. कहा जा रहा है कि उस वक्त अजीत डोभाल इंटेलीजेंस ब्यूरो (IB) में ऑपरेशनल डायरेक्टर के पद पर थे और एम.के. नारायणन IB में डायरेक्टर हुआ करते थे. बताया ये भी जा रहा है कि ये तस्वीर उस वक्त अमृतसर में हुए ऑपरेशन ब्लैक थंडर के समय की है.

स्वर्ण मंदिर में घुसकर इकट्ठा की थी जानकारी

अजीत डोभाल ने एक दशक तक IB के संचालन विंग का नेतृत्व किया है. इसके अलावा वो मल्टी एजेंसी सेंटर के संस्थापक अध्यक्ष भी थे. भारत के तीसरे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एम.के. नारायणन के द्वारा उन्हें आतंक निरोधी कार्यों के लिए ट्रेनिंग दी गई है. बताया जाता है कि, ये तस्वीर उसी वक्त की है, जब ऑपरेशन ब्लैक थंडर को अंजाम देने की प्लानिंग की जा रही थी. साल 1988 में अजीत डोभाल ने ऑपरेशन ब्लैक थंडर के पहले स्वर्ण मंदिर में घुसकर कई महत्वपूर्ण जानकारियां इकट्ठा की थी.

रिक्शा चालक बनकर नक्सलियों के बीच डोभाल

ऑपरेशन ब्लैक थंडर में कुछ आतंकियों ने स्वर्ण मंदिर पर कब्जा कर लिया था. तब अजीत डोभाल रिक्शा चालक बनकर अंदर घुसे थे और आतंकियों को गुमराह कर कई जानकारियां जुटाई थी. इसी जानकारी के आधार पर बाद में कमांडो ऑपरेशन हुआ और आतंकवादियों को मारा गिराया गया. अजीत डोभाल 1968 में भारतीय पुलिस सेवा में भर्ती हुए. उसके बाद से उन्होंने पंजाब और मिजोरम में उग्रवादी विरोधी अभियानों में सक्रिय रूप से भाग लिया. इसी के बाद अजीत डोभाल को भारत का जेम्स बांड कहा जाने लगा.

इसे भी पढ़ें : Har Ghar Tiranga : देश समेत विदेशों में भी छाया तिरंगे का जादू, इजरायली दूतावास ने भी अपडेट की अपनी प्रोफाइल पिक