Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

नई दिल्ली। पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव से पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भगवान राम का नाम लेना शुरू कर दिया है. इस हफ्ते की शुरुआत में आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने सरयू नदी में आरती, हनुमानगढ़ी में पूजा-अर्चना की और 25 और 26 अक्टूबर को पवित्र शहर की अपनी दो दिवसीय यात्रा के दौरान अयोध्या में रामलला के दर्शन किए. इतना ही नहीं, उन्होंने दिल्ली के त्यागराज स्टेडियम में दिवाली पूजा में भाग लेने की घोषणा की है, जहां शाम के कार्यक्रम के लिए भगवान राम की 30 फुट ऊंची प्रतिकृति स्थापित करने की तैयारी चल रही है.

दिल्ली में ‘पेरेंट्स संवाद’ कार्यक्रम हुआ लॉन्च, डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने बताए पेरेंटिंग के असल मायने

 

अयोध्या से लौटने के बाद और दिवाली से करीब एक हफ्ते पहले केजरीवाल ने लोगों से अपने टेलीविजन के माध्यम से ‘दिवाली पूजा’ में शामिल होने के लिए कहा है. उन्होंने पृष्ठभूमि में बज रहे ‘ओम जय जगदीश’ की धुन के साथ एक संबोधन में कहा कि “मैं 4 नवंबर को शाम 7 बजे अपने कैबिनेट मंत्रियों के साथ दिवाली पूजा करूंगा. मैं चाहूंगा कि राजधानी के दो करोड़ लोग मेरे साथ जुड़ें.” 2020 में उन्होंने अक्षरधाम मंदिर में दिवाली पूजा की थी.

दिल्ली पुलिस ने अब गाजीपुर बॉर्डर से हटाए बैरिकेड, नोएडा से दिल्ली सफर अब होगा आसान

27 अक्टूबर को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अयोध्या को मुख्यमंत्री तीर्थ कल्याण योजना में भी जोड़ा. ये एक ऐसी योजना है, जिसके तहत दिल्लीवासियों को एसी ट्रेनों से मुफ्त यात्रा और एसी होटलों में ठहरने की सुविधा दी जाएगी. मुख्यमंत्री ने घोषणा करते हुए कहा कि “अयोध्या ने जगन्नाथ पुरी, उज्जैन, शिरडी, अमृतसर, जम्मू, द्वारका, मथुरा, तिरुपति, रामेश्वरम, हरिद्वार, बोधगया जैसे अन्य तीर्थ स्थलों के अलावा मुख्यमंत्री तीर्थ कल्याण योजना की सूची में जगह बनाई है. दिल्ली सरकार उनकी सहायता करेगी, जो लोग अयोध्या में रामलला के नि:शुल्क दर्शन करना चाहते हैं.”

भाजपा फिलहाल कहीं नहीं जा रही, मगर राहुल को इस बात का अहसास नहीं : प्रशांत किशोर

उन्होंने कहा कि “मैं भाग्यशाली था कि मुझे रामलला के दर्शन करने का मौका मिला और मैं चाहता हूं कि सभी को यह मौका मिले. मेरे पास जो भी क्षमता है, मैं उसका उपयोग कर अधिक से अधिक लोगों को यहां ‘दर्शन’ कराऊंगा.” दिल्ली के मुख्यमंत्री का राम को लेकर जिक्र यहीं खत्म नहीं होता.
केजरीवाल ने इससे पहले मार्च में एक विधानसभा सत्र के दौरान कहा था कि वह शहर में ‘राम राज्य’ की स्थापना करना चाहते हैं. उन्होंने दिल्ली में अपने लोगों के लिए सभी बुनियादी सुविधाओं का वादा किया था.

10 महीने से बंद टिकरी बॉर्डर की खुलेंगी सड़कें, दिल्ली पुलिस बैरिकेड्स, कंक्रीट दीवार हटाने में जुटी

केजरीवाल की अयोध्या यात्रा पर प्रतिक्रिया देते हुए यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि “पहले जो लोग भगवान राम के प्रति उदासीन थे, वे अब भगवान को नमन कर रहे हैं, यह अच्छा है. कम से कम उन्होंने श्री राम के महत्व और अस्तित्व को महसूस किया है.” योगी आदित्यनाथ के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए आप के एक नेता ने कहा कि “राम अकेले किसी एक व्यक्ति या पार्टी के नहीं हैं, वह सभी के हैं. अगर योगीजी सोचते हैं कि भगवान राम केवल उनके या भाजपा के हैं, तो मुझे यह कहते हुए खेद है कि लेकिन उनका दिमाग बहुत संकीर्ण है.” बता दें कि उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, गोवा और गुजरात राज्यों में 2022 में चुनाव होंगे.