Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

समीर शेख, बड़वानी। मध्यप्रदेश में शिवराज सरकार माफियाओं पर लगाम लगाने और जेल में डालने की बात कहती है, लेकिन इन सबसे से भी माफिया को कोई फर्क नहीं पड़ता है. यही वजह है कि बड़वानी जिले के मंत्री के क्षेत्र ग्राम छोटी कसरावद में नर्मदा नदी के किनारे खुलेआम भट्टियां लगाकर शराब बनाई जा रही है. शराब माफिया का अवैध कारोबार चल रहा है. जीवनदायनी नर्मदा नदी तार-तार हो रही और जिम्मेदार इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं.

प्रदेश के पशुपालन मंत्री प्रेमसिंह पटेल के विधानसभा क्षेत्र में अवैध कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है. बड़वानी थाना क्षेत्र के ग्राम छोटी कसरावद में नर्मदा नदी किनारे सहित नर्मदा क्षेत्र के किनारे बसे गांवों में अवैध शराब का व्यापार फिर फलने फूलने लगा है. नर्मदा का जलस्तर बढ़ने के कारण कुछ समय अवैध शराब का व्यापार बंद जरूर हुआ था, लेकिन नर्मदा का जलस्तर जैसे ही कम होना शुरू हुआ, तो शराब माफिया फिर सक्रिय हो गए है.

‘जय श्री राम’ लिखने पर मुस्लिम युवक की पिटाई: BJP MLA शर्मा ने कहा- ये हरकत बर्दाश्त नहीं की जाएगी, डीएसपी को सौंपी गई जांच की जिम्मेदारी

पशुपालन मंत्री प्रेमसिंह पटेल की विधानसभा क्षेत्र के ग्राम छोटी कसरावद में माफियाओं ने नर्मदा किनारे ही शराब की भट्टियां लगा ली है. वह भी एक या दो नहीं कई शराब की भट्टियां यहां कुछ-कुछ दूरी पर लगी हुई है. इतना ही नहीं शराब बनाने के लिए महुआ लहान हो या बनकर तैयार शराब की बात हो, शराब माफिया बड़े-बड़े केन में भरकर उसे नर्मदा में ही छोड़ देते है. इसके साथ ही नावों के माध्यम से शराब माफिया शराब नर्मदा के इस पार से उस पार सप्लाई भी करते आसानी से देखें जा सकते हैं.

दिल दहला देने वाली घटना: हादसे के बाद रात भर शव के ऊपर से गुजरते रहे वाहन, मांस और हड्डियां चूरे में हुई तब्दील, फावड़े से उठाई गई लाश

हैरत की बात यह है कि इसकी प्रशासन को जानकारी नहीं है. आबकारी विभाग सुस्त है, तो पुलिस भी खुद को अनभिज्ञ मान अब कार्रवाई करने की बात कर रही है. कहा जा सकता है कि आबकारी विभाग और पुलिस से ज्यादा शराब माफिया का खुफिया तंत्र मजबूत है. कार्रवाई से पहले ही इन माफिया तक सूचना पहुंच जाती है या आबकारी विभाग ही करवाई से पहले इन्हें सचेत कर देती है. इस मामले में जिला आबकारी अधिकारी दीपक अवस्थी से बात की गई, लेकिन वो कुछ भी नहीं बोल पाए. छुट्टी का बहाना बनाते हुए मीडिया से दूरी बना ली.

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus