Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

राकेश चतुर्वेदी, भोपाल। मध्यप्रदेश की बहूचर्चित नेमावर हत्याकांड के पीडि़तों को न्याय दिलाने की मांग को लेकर न्याययात्रा मंगलवार को भोपाल पहुंची। राज्यपाल से सीबीआई की जांच मांग को लेकर राजभवन में प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और पूर्व मंत्री पीसी शर्मा सहित कांग्रेस कार्यकर्ताओं को पुलिस हिरासत में लिया है।

बता दें कि नेमावर हत्याकांड की पीडि़तों को न्याय दिलाने प्रदेश में न्याय यात्रा निकाली गई है। न्याय याक्षा आज भोपाल पहुंची। यहां कांग्रेस भवन के सामने कार्यकर्ता एकत्र हुए और राजभवन को ओर कूच किया। कार्यकर्ता जारभवन जाना चाह रहे थे जिसे पुलिस ने बेरिकेडिंग कर रोक दिया।

इस दौरान पुलिस और कार्यकर्ता के बीच राजभवन में प्रवेश को लेकर जमकर नोकझोंक भी हुई। न्याय यात्रा में शामिल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह और पूर्व मंत्री पीसी शर्मा को पुलिस ने हिरासत में लिया है। वे लोग सीबीआई जांच की मांग को लेकर राज्यपाल से मिलने जा रहे थे।

यह है मामला
मध्यप्रदेश के देवास जिले में एक ही परिवार के 5 लोगों की हत्या कर दी गई थी। सभी लोग 13 मई 2021 से लापता थे। जिले के अंतिम छोर पर बसे नेमावर में यह जघन्य वारदात हुई। पुलिस के अनुसार नेमावर में रहने वाले कास्ते परिवार के पांच सदस्य ममताबाई पति मोहनलाल कास्ते (45) उनकी दो बेटी रूपाली (21), दीपाली (14) व परिवार के दो अन्य सदस्य ममताबाई की देवरानी के बच्चे पूजा पिता रवि ओसवाल (15) व भाई पवन ओसवाल (14) एकसाथ 13 मई को लापता हो गए थे। मोबाइल कॉल डिटेल के आधार पर कुछ युवकों को पुलिस ने पकड़ा और पूछताछ की गई।ॉ

इस हत्याकांड के पीछे प्रेम प्रसंग की बात सामने आई थी। पुलिस ने बताया था कि सुरेंद्र और रूपाली के प्रेम संबंध थे। इधर सुरेंद्र की शादी तय हो गई, जिसपर रूपाली से उसका विवाद भी हुआ। इसके बाद सुरेंद्र ने रूपाली को रास्ते से हटाने का फैसला ले लिया। सुरेंद्र ने अपने साथियों से मिलकर रूपाली सहित परिवार के 5 सदस्यों को मार डाला।
सुरेंद्र और उसके साथियों ने 13 मई को ही हत्याकांड को अंजाम दे दिया था। इन लोगों ने रस्सी से सभी का गला दबाया। फिर मौत की पुष्टि करने के लिए सिर पर रॉड से वार किए। पांचों की हत्या करने के बाद जब शव ठिकाने लगाने की बारी आई तो खेत में ट्रांसफॉर्मर लगाने के लिए खोद गए गड्ढा में सभी को दफना दिया।

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus