Big News: PFI के ठिकानों पर NIA की देशभर सहित MP में रेड, एमपी के PFI प्रमुख अब्दुल करीम सहित 4 गिरफ्तार, इसमें 3 उज्जैन और एक इंदौर से शामिल

शब्बीर अहमद, भोपाल। पीएफआई (PFI) के ठिकानों पर एनआईए की देशभर में छापेमार कार्रवाई की है। मध्यप्रदेश के इंदौर और उज्जैन में हुई एनआईए ने रेड की कार्रवाई की है। एनआईए ने पीएफआई के मध्यप्रदेश के स्टेट लीडर्स को हिरासत में लिया है। 4 लीडर्स को मध्यप्रदेश के उज्जैन और इंदौर से एनआईए ने हिरासत में लिया है।

जानकारी के अनुसार PFI के आतंकवादी संगठनों से कनेक्शन को लेकर नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) ने बड़े पैमाने पर छापामार कार्रवाई की है। टेरर फंडिंग को लेकर रेड की गई है। मध्यप्रदेश के ठिकानों से टेरर फंडिंग का हिसाब किताब और साहित्य भी बरामद किया गया है।

मध्यप्रदेश से पकड़े गए आरोपी

एनआईए ने मध्यप्रदेश के PFI प्रमुख अब्दुल करीम को गिरफ्तार कर लिया है। उसके अलावा मोहम्मद खालिद छीपा को भी गिरफ्तार किया गया है।इंदौर से अब तक 2 गिरफ्तारी हुई है। सुबह 4 बजे दोनों को घर से उठाया गया है। तीसरी गिरफ्तारी इंदौर से जावेद नाम के शख्स की और चौथी गिरफ्तारी मोहम्मद जमील उज्जैन से हुई है। कुल तीन गिरफ्तारी इंदौर और एक उज्जैन से हुई है।

मुख्य आरोपी अब्दुल करीम

बता दें कि NIA ने इससे पहले 18 सितंबर को आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में 23 जगहों पर रेड मारी थी। ये छापेमारी भी कराटे प्रशिक्षण केंद्र के नाम पर प्रतिबंधित संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) का ट्रेनिंग कैंप चलाए जाने के मामले में की गई थी। NIA ने निजामाबाद, कुरनूल, गुंटूर और नेल्लोर जिले में रेड की थी। सूत्रों की मानें तो NIA ने उन्हीं स्थानों पर रेड की, जहां से आतंकी गतिविधियों के संचालन की जानकारी मिली थी।

हेमंत शर्मा, इंदौर। इंदौर पहुंचे नरोत्तम मिश्रा ने एनआईए द्वारा पीएफआई पर हुई कार्रवाई के मामले में कहा कि देश में कई जगह एनआईए ने कार्रवाई की है, उसमें एक मध्यप्रदेश भी है। मध्यप्रदेश में भी राज्य के पुलिस के सहयोग से इंदौर पुलिस के सहयोग से यहां पर भी कार्रवाई की है। आप लोगों से जानकारी आ रही है, हमें विस्तार से जानकारी देना नहीं चाहिए। यह मेरा मानना है, विषय गंभीर है, इसलिए अपनी मर्यादा रखनी चाहिए, यह संगठन जो है प्रांतव्यापी नहीं राष्ट्रव्यापी है। इसलिए राष्ट्र में कई जगह एक साथ दबिश दी गई है। राष्ट्रीय स्तर पर इस पर विचार चल रहा है। निश्चित रूप से पूरी जानकारी गृह मंत्रालय के पास है पुलिस के पास है, पर ये जानकारी देना ठीक नहीं है। इस संगठन की गतिविधियां कई बार ध्यान में आई है, वह सिर्फ मध्यप्रदेश के स्तर पर नहीं राष्ट्रीय स्तर पर सामने आई है।

पैसों के लिए मां की हत्या: जमीन मुआवजा के मिलने थे करोड़ों रुपए, मां भाइयों में बंटवारा न कर दे, इसलिए गला घोंट कर छोटे बेटे ने मार डाला

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus

Related Articles

Back to top button