कुपोषण मुक्ति अभियान में कोताही बर्दाश्त नहीं, करेंगे सख्त कार्रवाई- कलेक्टर

कलेक्टर भीम सिंह ने ली महिला एंव बाल विकास विभाग की समीक्षा बैठक

रायगढ़। कलेक्टर भीम सिंह ने महिला एंव बाल विकास विभाग की समीक्षा बैठक ली. इस दौरान कलेक्टर एक्शन मोड में नजर आए. कलेक्टर ने कहा कि कुपोषण को खत्म करने के लक्ष्य को हर हाल में प्राप्त करना है. इसमें किसी भी कर्मचारी और अधिकारी की कोताही बर्दाश्त नहीं होगी. काम के प्रति तय लक्ष्य के अनुरूप कार्य नहीं करेगा, उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी.

<
Close Button

इसे भी पढ़ें: नाबार्ड ने 2020-21 में छत्तीसगढ़ को दी 12,897 करोड़ की वित्तीय सहायता

कलेक्टर सिंह ने बैठक में सेक्टर वाइस दिए गए आंकड़ों पर चर्चा की. इस दौरान उन्होंने आंगनबाड़ी केन्द्रों में कुपोषित बच्चों की संख्या, उनकों दिए जाने वाले रेडी टू इट, गर्म भोजन और गर्भवती माताओं को दिए जाने वाले भोजन, दवाईयों को लेकर जानकारी मांगी. कलेक्टर ने कहा कि सुपोषण योजना अंतर्गत किसी तरह की लापरवाही नहीं चलेगी. उन्होंने कहा कि जांच करने के दौरान अगर आंकड़े गलत निकले तो कठोर कार्रवाई की जाएगी.

इसे भी पढ़ें: बंटवारे में नहीं दिया जंगली सुअर का मांस, VIDEO कर दिया वायरल, अब हिरासत में 9, इनकी तलाश

पोषण वाटिका के संबंध में चर्चा

कलेक्टर ने कहा कि आप सभी आंगनबाड़ी के अधिकारी-कर्मचारी बच्चों को सबल बनाने का काम करते हो, जो एक पवित्र कार्य है. आंगनबाड़ी केन्द्रों में महिलाओं को ही रखा जाता है. उनके अंदर मातृत्व रहता है, जो बच्चों की जरूरत को बखूबी समझती हैं. इसलिए आप सभी को अपना कार्य पूरी निष्ठा और इमानदारी से करना चाहिए. इसके बाद पोषण वाटिका के संबंध में चर्चा की गई. पोषण वाटिका से आंगनबाड़ी केन्द्रों को लिंक करने और उन्हें पोषण वाटिका से ही सब्जी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए.

इसे भी पढ़ें: CG: अब इस जिले में लगा 10 दिन के लिए पूर्ण लॉकडाउन, कलेक्टर ने जारी किया आदेश

ये लोग रहे मौजूद

इस दौरान उद्यान अधिकारी ने 500 हेक्टेयर में मुनगा लगवाने और फिर इसके पाउडर बनाने की यूनिट स्थापित करने की भी जानकारी दी. इसके बाद महतारी जतन योजना पर कलेक्टर सिंह ने चर्चा की. चर्चा के दौरान उन्होंने योजना का गांव-गांव में बेहतर प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिए. बैठक में जिला कार्यक्रम अधिकारी टीके.जाटवर सहित सभी सेक्टर के प्रशासनिक पर्यवेक्षक अधिकारी, पर्यवेक्षक सहित अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे.

इन्हें हुआ नोटिस जारी
रायगढ़ शहरी परियोजना अधिकारी के वेतन रोकने, खरसिया प्रशासनिक परिवेक्षक अधिकारी, धरमजयगढ़ परियोजना अधिकारी, कापू परियोजना अधिकारी, लैलूंगा प्रशासनिक पर्यवेक्षक अधिकारी, मुकड़ेगा प्रशासनिक पर्यवेक्षक अधिकारी, लेन्ध्रा पर्यवेक्षक रिसोरा, लेन्ध्रा पर्यवेक्षक तौसीर, रायगढ़ ग्रामीण पर्यवेक्षक बंगुरसरिया, खरसिया पर्यवेक्षक भुपदेवपुर, रायगढ़ ग्रामीण पर्यवेक्षक लोइंग व डुमरपाली, पर्यवेक्षक मुकड़ेगा, पर्यवेक्षक बीरसिंहा, लेन्ध्रा प्रशासनिक परियोजना अधिकारी, पुसौर प्रशासनिक अधिकारी, बरमकेला प्रशासनिक अधिकारी, कापू पर्यवेक्षेक को कार्य पर लापरवाही बरतने पर नोटिस जारी करने के निर्देश डीपीओ को कलेक्टर श्री सिंह ने दिए।

एनआरसी में लगाएं सीसीटीवीए रोज लें रिपोर्ट
समीक्षा बैठक के दौरान कलेक्टर सिंह ने एनआरसी के आंकड़ों पर भी चर्चा की. इस दौरान उन्होंने एनआरसी में सीसीटीवी लगवाने और हर रोज फोटो और नाम सहित रिपोर्ट लेने और बैठक में प्रस्तुत करने के निर्देश दिए. इस दौरान उन्होंने सभी एनआरसी की गंभीरता से जांच करने की भी बात कही. आंगनबाड़ी केन्द्रों में वजन बेईंग मशीन खराब होने की बात सामने आई, जिसे जल्द सुधरवाने या नई मशीन खरीदने के निर्देश कलेक्टर सिंह ने दिए.

मुनुन की सुपरवाइजर की तारीफ
चर्चा के दौरान यह बातें सामने आई की मुनुन की सुपरवाइजर शैलेश यादव द्वारा पूर्व के 20 प्रतिशत कुपोषण की संख्या पर 7 प्रतिशत पर लाया गया. इस पर कलेक्टर ने सुपरवाइजर शैलेष यादव की कार्यों की तारीफ की. यादव ने बताया कि उन्होंने गांव के सरपंच-पंच से मिलकर बच्चों के वजन और सही खान-पान की जानकारी दी. इसी तरह बच्चों के परिजनों से डोर-टू-डोर मिलकर सभी को बच्चों के वजन और सही खान-पान के लिए जागरूक किया. इससे ही उसे कुपोषण प्रतिशत कम करने में कामयाबी मिली.

स्पोर्ट्स की ये खबरें जरूर पढ़ें

इसे भी पढ़े- मुंबई में IPL मैचेस को लेकर बीसीसीआई अध्यक्ष का बड़ा बयान, पढ़िए पूरी खबर 

मनोरंजन की ये खबरें जरूर पढ़ें

इसे भी पढ़े- चोटिल हैं श्रेयस अय्यर, IPL में नहीं खेलेंगे, जानिए क्या मिलेगी उन्हें पूरी सैलरी ?

read more- Uttar Pradesh: With active cases nearing 10,000 Epidemic Act Extended until June 30th

Related Articles

Back to top button
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।