आयुर्वेद डॉक्टरों को सर्जरी की अनुमति देने का विरोध: आईएमए ने कहा- लोगों के जान से होगा खिलवाड़, सरकार रद्द करे आदेश

सत्यपाल सिंह,रायपुर। आईएमए ने अपने विरोध के दौर में आज प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन के नाम ज्ञापन सौंप कर केंद्र सरकर के फैसले से होने वाले नुकसान से अवगत कराया है. आईएमए के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. राकेश गुप्ता ने कहा कि भारत सरकार आयुष मंत्रालय के आदेश ने काफी आहत किया है.

<
Close Button

आदेश के मुताबिक आयुष पध्दति के चिकित्सों को केवल 2 से 3 साल की ट्रेनिग देकर आधुनिक चिकित्सा की 58 प्रकार की सर्जरी करने की अनुमति दी जा रही है. कोरोना महामारी के इस काल में आधुनिक चिकित्सा ने ही हमारे देश में कोरोना की गति को स्थिर किया है, आपके द्वारा चिकित्सों की प्रशंसा की गई है.

इसे भी पढ़ें- जड़ी-बूटी बेचने वाले ने डॉक्टर बनकर की ठगी: सेवानिवृत शिक्षिका से इलाज के बदले ले लिए लाखों रुपए, गिरफ्तार 

आईएमए एक संगठन के रूप में आधुनिक और आयुर्वेदिक चिकित्सों के खिलाफ ऩहीं है. हमारा मानना है कि आयुर्वेद हमारे देश में चली आ रही है. एक ये अलग विधा है. इसको मिलाने से लोगों के जान से खिलावाड़ होगा. इसलिए आदेश पर पुन विचार करना चाहिए. आ्धुनिक चिकित्सा को बैसाखी की जरुरत नहीं है, बल्कि आयुर्वेद को आगे बढ़ाने के लिए शोध की जरूरत है. जिससे आयुर्वेद को और आगे बढ़ाया जा सके.

इसे भी पढ़ें- छगः सुने ऑडियो… ये कांग्रेस नेत्री कह रही है, कमीशन नहीं मेरा अधिकार है… 2 लाख वापस भिजवाएं, इतने की थी डिमांड 

Related Articles

Back to top button
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।