छग में राशन वितरण: स्कूली बच्चों को मार्च-अप्रैल महीने में भी 40 दिनों का मिलेगा राशन

जिला शिक्षा अधिकारियों को सूखा राशन वितरण कराने के दिए निर्देश.

रायपुर। कोरोना काल में भी राज्य के सभी स्कूली बच्चों को राशन वितरण किया जा रहा है. स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने बताया कि राज्य शासन के निर्णय अनुसार कोविड-19 के संक्रमण के चलते स्कूलों के बंद रहने की अवधि 1 मार्च से 30 अप्रैल तक कुल 40 दिन के लिए मध्यान्ह भोजन का सूखा राशन स्कूली बच्चों को खाद्य सुरक्षा भत्ता के रूप में वितरण किया जाएगा. सूखा राशन सामग्री का वितरण सुविधानुसार स्कूल में या घर-घर पहुंचाकर देने के निर्देश दिए गए हैं. वितरण के दौरान बच्चों या पालकों के मध्य सामाजिक दूरी बनाए रखी जाएगी. इस संबंध में संचालक लोक शिक्षण जितेन्द्र शुक्ला ने सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी किए हैं.

Close Button

जारी निर्देश में कहा गया है कि कोरोना से बचाव के लिए राज्य में स्कूलों को आगामी आदेश तक के लिए बंद रखने का आदेश राज्य शासन द्वारा जारी किया गया. मध्यान्ह भोजन नियम के प्रावधान के अंतर्गत बच्चों को स्कूल बंद रहने की अवधि में खाद्य सुरक्षा भत्ता प्रदान किया जाना है. खाद्य सुरक्षा भत्ता के रूप में बच्चों को सूखा चावल और निर्धारित कुकिंग कास्ट की राशि से अन्य आवश्यक खाद्य सामग्री, दाल, तेल, सूखी सब्जी इत्यादि वितरित किया जाना है.

इसे भी पढ़ें- लॉकडाउन में कार्रवाई: पोल्ट्री फार्म में बेचा जा रहा था मुर्गा, 50 हजार का कटा चालान

मध्यान्ह भोजन योजना की गाइडलाइन के अनुसार कक्षा पहली से 8वीं तक के उन बच्चों को जिनका नाम शासकीय शाला, अनुदान प्राप्त अशासकीय शाला या मदरसा-मकतबा में दर्ज है, मध्यान्ह भोजन दिया जाए. सूखा राशन वितरण में बच्चों को चावल, दाल और तेल की मात्रा भारत सरकार द्वारा निर्धारित मात्रा से कम नहीं होनी चाहिए. बच्चों को प्रदाय की जाने वाली सामग्रियों को पृथक-पृथक सील बंद पैकेट बनाकर प्रति छात्र सभी सामग्रियों का एक बड़ा पैकेट बनाया जाए. वितरित की जाने वाली खाद्य सामग्रियां उच्च गुणवत्ता की होनी चाहिए.

इसे भी पढ़ें- ‘रेमडेसिवीर’ की सुचारू आपूर्ति सुनिश्चित करने वरिष्ठ अधिकारी जाएंगे हैदराबाद-महाराष्ट्र, रेलवे यात्रियों को RTPCR निगेटिव रिपोर्ट दिखाना जरूरी- CM भूपेश 

गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए सामग्रियों की पैकिंग के पूर्व और पैकिंग के बाद के फोटोग्राफ लिए जाए. सामग्री के ब्रांड से संबंधित फोटोग्राफ और सामग्री नमूनार्थ एक माह तक के लिए रखी जाए. जिससे किसी प्रकार की शिकायत होने पर गुणवत्ता के संबंध में जांच की जा सके. सूखा राशन वितरण के संबंध में प्रत्येक शाला में बच्चों को वितरित होने वाली सामग्रियों की गुणवत्ता और मात्रा सुनिश्चित करने के लिए सामग्री वितरण के लिए जिला स्तर पर इस प्रकार कार्ययोजना बनाई जाए. जिससे इसकी सूक्ष्म मॉनिटरिंग की जा सके.

स्कूल शिक्षा विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार प्राथमिक स्कूलों में 40 दिनों के लिए प्रति छात्र चावल 4 किलोग्राम, दाल 800 ग्राम, आचार 250 ग्राम, सोयाबड़ी 400 ग्राम, तेल 200 ग्राम और नमक 250 ग्राम प्रदाय किया जाना है. इसी प्रकार माध्यमिक स्कूलों में 40 दिनों के लिए प्रति छात्र चावल 6 किलोग्राम, दाल एक किलो 200 ग्राम, आचार 400 ग्राम, सोयाबड़ी 600 ग्राम, तेल 300 ग्राम और नमक 400 ग्राम प्रदाय किया जाना है. स्कूलों के लिए चावल पूर्व की तरह ही उचित मूल्य की दुकान के माध्यम से प्रदाय किया जाएगा.

read more-  Corona Update: Active Count Breaches 10 Lakh Mark; Weekend Lockdown in Maharashtra Announced

read more- Coronavirus Effect: Maharashtra Migrant Workers Heads home Amid Fears of Another Lockdown

स्पोर्ट्स की ये खबरें जरूर पढ़ें

मनोरंजन की ये खबरें जरूर पढ़ें

Related Articles

Back to top button
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।