छत्तीसगढ़ बीजेपी की वर्चुअल बैठक : पार्टी नेताओं के बीच टकराव का मुद्दा भी उठा ! बी एल संतोष बोले, ‘ यह समय उचित नहीं ‘, कोरोना की लड़ाई में जनता के साथ खड़े होने की नसीहत

रायपुर- राज्य की कांग्रेस सरकार के खिलाफ बीजेपी कहां खड़ी है, इसकी टोह राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बी एल संतोष ने आज उस वक्त ली जब वह संगठन के कोरोना अभियान की समीक्षा कर रहे थे. दायित्व संभालने के बाद यह पहला मौका था, जब वह राज्य संगठन के नेताओं से रूबरू थे. हालांकि वर्चुअल बैठक में उनका जोर कोरोना की रोकथाम के लिए संगठन के प्रयासों को बढ़ाए जाने पर था.

राष्ट्रीय संगठन महामंत्री की इस वर्चुअल बैठक में बीजेपी कोरग्रुप, प्रदेश पदाधिकारी, जिलाध्यक्षों के अलावा पार्टी स्तर पर बनाई गई टीकाकरण अभियान टीम, कोरोना हेल्प डेस्क टीम और सेवा ही संगठन टीम के सदस्य भी शामिल हुए.  बी एल संतोष ने कहा कि राज्य की विपक्षी पार्टी होने के नाते सरकार की नीतियों पर सवाल उठाने के अलावा कोशिश इस बात पर की जाए कि कैसे कोरोना की महामारी की रोकथाम में संगठन की सक्रिय भूमिका दिखाई पड़े. उन्होंने कहा कि इस वक्त संगठन का 75 फीसदी काम सामाजिक सरोकार से जुड़ा हो और 25 फीसदी राजनीति से. बी.एल. संतोष ने कहा कि छत्तीसगढ़ में संक्रमण की दर थोड़ी सी कम हो रही है, यह अच्छी बात है, पर यह राज्य सरकार की कोशिशों से हुआ ऐसा नहीं है. इससे उम्मीद जगी है. पहली लहर की तुलना में दूसरी लहर में युवाओं को भी संक्रमण हुआ है. कहने का तात्पर्य जो स्वस्थ थे वे भी संक्रमित हो गए इसलिए सेवा कार्य करने के साथ सावधानी आवश्यक है ताकि सुरक्षित रहकर ज्यादा से ज्यादा लोगों की सेवा की जा सके. आज हमारी तुलना में अन्य दल के कार्यकर्ता इस संक्रमण काल में कहीं भी दिखाई नहीं दे रहे है. अन्य दलों के मुख्यमंत्री व कांग्रेस के नेता राहुल गांधी भी नहीं दिखाई दे रहे है. राष्ट्रीय संगठन महामंत्री ने कहा कि वैक्सीन लगाना हम सभी का सामाजिक दायित्व है. कार्यकर्ता को इस चुनौती काल में जनता के साथ खड़ा होना चाहिए.

Close Button

भाजपा प्रदेश प्रभारी डी. पुरन्देश्वरी ने कहा कि कोरोना संक्रमण में हम सबको मिलकर कार्य करना होगा जिससे प्रदेश की जनता को राहत पहुंचाई जा सके. समाज के साथ भाजपा के कार्यकर्ता जुड़कर अच्छा कार्य कर रहे है. प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण शहरों से गावों की ओर फैल रहा है जो चिंताजनक है इसके लिए प्रदेश की कांग्रेस सरकार जिम्मेदार है. बीजेपी के 30 संगठन जिलों में हजारों कार्यकर्ता सूखा राशन के साथ पका भोजन भी लोगों तक पहुंचा रहे है. कोरोना संक्रमितों को अस्पताल बेड उपलब्ध कराना, होम आइसोलेशन वालों को आक्सीजन, दवाई पहुंचाने से लेकर सामान्य जनों में वैक्सीन के प्रति जागरूकता जैसे अनेक कार्य हमारे कार्यकर्ता, जनप्रतिनिधि सभी सामाजिक संस्थानों के साथ मिलकर अच्छा कार्य कर रहे है. भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह ने वर्चुअल बैठक में कहा कि राज्य सरकार पूरी तरह से फेल हो चुकी है और विभिन्न समाजों ने दायित्व संभाला है जिससे स्थिति में सुधार हो रहा है. बीजेपी कार्यकर्ता समाज के साथ मिलकर अद्भूत कार्य कर रहे है. राज्य सरकार के पास वैक्सीनेशन की कोई ठोस योजना दिखाई नहीं दे रही है. संक्रमण गांवों में फैल रहा है. जहां अस्पतालों की व्यवस्था कम है वहां भी हमारे कार्यकर्ताओं को कार्य करना होगा.

पार्टी नेताओं के बीच टकराव का मुद्दा भी उठा

बीजेपी के भरोसेमंद सूत्र इस बात की पुष्टि करते हैं कि इस वर्चुअल बैठक के दौरान राज्य संगठन के आला नेताओं के बीच उभरे टकराव पर भी चर्चा उठी. बताते हैं कि प्रदेश पदाधिकारी डी पुरंदेश्वरी ने बैठक के दौरान यह मुद्दा उठाते हुए राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बी एल संतोष से कहा कि, यहां के नेताओं में मनमुटाव भी है. इस पर भी आप कुछ कहिए. इस पर बी एल संतोष ने कहा कि, ऐसी बातों के लिए अभी यह समय उचित नहीं है. इस पर बाद में बात कर ली जाएगी. इस पूरे घटनाक्रम से यह सवाल भी उठने लगे हैं कि राज्य में बतौर विपक्षी पार्टी खड़ी बीजेपी आखिर कैसे इस मनमुटाव के बीच सत्तारूढ़ कांग्रेस के खिलाफ माहौल बना सकेगी. पार्टी के नेता कहते हैं कि आलाकमान तक यह बातें पहुंच गई है. आलाकमान प्राथमिकता तय कर काम करता है. अभी पार्टी नेतृत्व की प्राथमिकता पांच राज्यों में हुए चुनाव पर थी और अब कोरोना संकट सिर पर है. इन सबसे निकलने के बाद निश्चित तौर पर बीजेपी के राज्य संगठन में आलाकमान की ओर से बड़ी कार्रवाई की जा सकेगी. इस बात के संकेत मिल गए हैं.

सोशल मीडिया से नाखुश दिखे बी एल संतोष

सोशल मीडिया पर बेहद सक्रिय और इसकी भूमिका को समझने वाले बी एल संतोष ने बीजेपी आईटी सेल के काम पर भी सवाल उठाया. बैठक में मौजूद नेताओं की माने तो उन्होंने टिप्पणी करते हुए कहा कि वह राज्य इकाई की सोशल मीडिया विंग के काम से खुश नहीं है. उन्होंने आईटी सेल को और अधिक मजबूत करने के निर्देश देते हुए कहा कि इसमें प्रोग्रेस की जरूरत है.

Related Articles

Back to top button
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।