मुख्यमंत्री भगवंत मान ने भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टॉलरेंस का निभाया अपना वादा, मंत्री, पूर्व मंत्री और सरकारी अधिकारी शिकंजे में

चंडीगढ़। आम आदमी पार्टी (आप) 3 महीने से अधिक समय से पंजाब में सत्ता में है और एक अभूतपूर्व कार्रवाई में मुख्यमंत्री भगवंत मान ने खुद अपने कैबिनेट सहयोगी विजय सिंगला को मंत्रिपरिषद से बर्खास्त करने और भ्रष्टाचार के आरोपों के लिए उनकी गिरफ्तारी की घोषणा की. उसे गिरफ्तार करने की कार्रवाई भ्रष्टाचार और अवैध प्रथाओं के खिलाफ जीरो टॉलरेंस में दृढ़ विश्वास के बाद हुई. ये एक्शन तब लिया गया, जब सीएम को यह पता चला कि स्वास्थ्य मंत्री डॉ विजय सिंगला (पहली बार विधायक और पेशे से दंत चिकित्सक) विभाग के टेंडरों और खरीद में एक प्रतिशत कमीशन की मांग कर रहे थे. विजय सिंगला (जिसे 24 मई को गिरफ्तार किया गया था और जिसकी दलील है कि पूरा मामला पूरी तरह से एक कथित ऑडियो बातचीत पर आधारित मांग के आरोप के इर्द-गिर्द घूमती है) फिलहाल न्यायिक हिरासत में हैं, जिसे अब 8 जुलाई तक बढ़ा दिया गया है.

सीएम भगवंत मान

दिल्ली सीएम केजरीवाल के नक्शेकदम पर चल रहे हैं भगवंत मान

सीएम भगवंत मान, जिनकी पार्टी को विधानसभा चुनाव में भारी जनादेश मिला, वे दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप संयोजक अरविंद केजरीवाल की तर्ज पर चल रहे हैं, जिन्होंने 2015 में भ्रष्टाचार के आरोप में अपने खाद्य और नागरिक आपूर्ति मंत्री असीम अहमद खान को बर्खास्त कर दिया था और सीबीआई जांच का आदेश दिया था. उनके भ्रष्टाचार विरोधी धर्मयुद्ध के कारण ठेकेदारों और बिचौलियों के अलावा राजनेताओं और सरकारी अधिकारियों की भी गिरफ्तारी हुई है.

साधु सिंह धर्मसोत की इसी महीने हुई गिरफ्तारी

विजिलेंस एंड एंटी करप्शन ब्यूरो (जिसके मुखिया ईश्वर सिंह को पिछली कांग्रेस सरकार द्वारा नियुक्त किया गया था) को 31 मई को वरिंदर कुमार की जगह दी गई. साधु सिंह धर्मसोत 5 बार के पूर्व विधायक हैं, (जो कांग्रेस शासन में वन मंत्री थे) उन्हें खैर के पेड़ों को काटने के लिए परमिट जारी करने में कथित संलिप्तता के लिए इस महीने गिरफ्तार किया गया था. समाज कल्याण मंत्री के रूप में धर्मसोत का नाम अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना के तहत धन के हेराफेरी को लेकर भी सामने आया. उनके उत्तराधिकारी संगत सिंह गिलजियां पर भी उनके विभाग में गलत कामों के लिए भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है.

ये भी पढ़ें: जलालाबाद IED ब्लास्ट: NIA ने पंजाब में कई जगहों पर की तलाशी, फिरोजपुर, तरनतारन और फाजिल्का में दबिश के दौरान गोला-बारूद बरामद

खनन माफियाओं पर सख्त कार्रवाई की बात

धर्मसोत की गिरफ्तारी के कुछ दिनों बाद पठानकोट जिले में रावी और ब्यास नदी के किनारे पर कथित अवैध रेत और बजरी खनन के लिए पूर्व विधायक जोगिंदर पाल की गिरफ्तारी एक और हाई प्रोफाइल राजनीतिक कार्रवाई थी. गिरफ्तारी के बाद खनन मंत्री हरजोत सिंह बैंस ने एक ट्वीट में कहा कि जिन लोगों ने पंजाब को लूटा और हमारी धरती मां का शोषण किया, उन्हें बख्शा नहीं जाएगा. जोगिंदर पाल पठानकोट में खनन माफिया के सरगना थे. अभी तो शुरुआत है, खनन माफियाओं में से किसी को बख्शा नहीं जाएगा.

पंजाब कांग्रेस प्रमुख अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग पर भी आरोप

पंजाब कांग्रेस प्रमुख अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग (जिन्होंने अपनी पार्टी के नेताओं की मनमाने ढंग से गिरफ्तारी की निंदा की है) पर लगातार दूसरी पार्टी के नेता निशाना साध रहे हैं. शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री भगवंत मान से कहा कि वह 60 करोड़ रुपये की बस खरीद और बस बॉडी बिल्डिंग घोटाले की सीबीआई जांच का आदेश दें, जब वड़िंग मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी के मंत्रिमंडल में परिवहन मंत्री थे. पूर्व मंत्री सिकंदर सिंह मलूका ने एक बयान में कहा कि एक आरटीआई के जरिए राजा वड़िंग की भ्रष्ट गतिविधियों का पूरी तरह से पर्दाफाश हो गया है.

ये भी पढ़ें: संगरूर लोकसभा उपचुनाव: शिरोमणि अकाली दल-अमृतसर के प्रत्याशी सिमरनजीत मान की जीत, हार के बाद AAP का लोकसभा में अब कोई सदस्य नहीं

पंजाब में आप सरकार ने जारी किया है भ्रष्टाचार विरोधी हेल्पलाइन नंबर

साथ ही कहा कि अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग ने बस बॉडी बिल्डिंग के साथ-साथ 840 बसों की खरीद में लगभग 30 करोड़ रुपए का घोटाला किया था. मलूका ने कहा कि पूरे मामले को स्वतंत्र और निष्पक्ष जांच के लिए सीबीआई को सौंप दिया जाना चाहिए. आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, सरकार ने 21 जून तक भ्रष्टाचार के आरोप में 45 सरकारी अधिकारियों और अन्य को गिरफ्तार किया है. एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि मुख्यमंत्री ने पद संभालने के पहले दिन से ही लोगों को भ्रष्टाचार मुक्त, पारदर्शी और स्वच्छ प्रशासन देने का वादा किया था, जिसके लिए कई पहल की गई है. उन्होंने भ्रष्टाचार के खिलाफ लोगों को व्हाट्सएप के माध्यम से शिकायत दर्ज कराने की सुविधा के लिए एक भ्रष्टाचार विरोधी हेल्पलाइन नंबर जारी किया है. उन्होंने कहा कि इस हेल्पलाइन ने चमत्कार किया है, क्योंकि लोग इसे भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी लड़ाई में एक प्रभावी उपकरण के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें: पंजाब राज्य के वित्त पर श्वेत पत्र लाएगी सरकार, CM भगवंत मान ने कहा- ‘पिछली सरकारों ने कैसे खजाने को लूटा और प्रदेश को कर्ज में डुबोया, उसका लेंगे हिसाब’

कुल 45 लोगों की गिरफ्तारी

पुलिस ने भ्रष्टाचारियों के खिलाफ 28 प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) दर्ज की है. सतर्कता विभाग ने एक पुलिस उपनिरीक्षक, 8 सहायक उप निरीक्षक, 3 प्रधान आरक्षक, एक आरक्षक, 2 पटवारी, एक लिपिक, मोहाली में शासकीय ITI के प्राचार्य, एक चिकित्सा अधिकारी, एक संभागीय वन अधिकारी को गिरफ्तार किया है. इसी तरह एक खनन मामले में 17 लोगों, पटवारियों के 4 सहायकों और एक वन ठेकेदार को भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. कुल 45 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. मुख्यमंत्री के हवाले से बयान में कहा गया है कि अभी तो ये शुरुआत है और भ्रष्ट अधिकारियों और कर्मचारियों को बाहर कर पूरी व्यवस्था को साफ किया जाएगा.

ये भी पढ़ें: भ्रष्टाचार के आरोप में पकड़े गए सीनियर IAS अफसर संजय पोपली के बेटे ने पिस्टल से खुद को किया शूट, मां ने कहा- ‘विजिलेंस टीम ने मारी गोली’

रिश्वत मांगने को लेकर वरिष्ठ सरकारी पदाधिकारियों पर भी शिकंजा

सीएम भगवंत मान ने कहा कि लोगों ने उन्हें एक बड़ी जिम्मेदारी दी है और वह लोगों की आकांक्षाओं को स्वच्छ, पारदर्शी और उत्तरदायी प्रशासन देकर उन्हें पूरा करने के लिए बाध्य हैं. सरकार रिश्वत मांगने को लेकर वरिष्ठ सरकारी पदाधिकारियों पर भी शिकंजा कस रही है. करनाल के एक सरकारी ठेकेदार की शिकायत पर कार्रवाई करते हुए विजिलेंस ब्यूरो ने पिछले हफ्ते IAS अधिकारी संजय पोपली और उनके सहयोगी संदीप वत्स को एक प्रतिशत रिश्वत मांगने के आरोप में गिरफ्तार किया था. सतर्कता अधिकारियों के अनुसार पोपली ठेकेदार से 3.5 लाख रुपए की मांग कर रहा था, जिसने उसके फोन कॉल रिकॉर्ड किए और भ्रष्टाचार विरोधी हेल्पलाइन पर शिकायत की. ब्यूरो अब बोर्ड के सभी टेंडरों और भुगतानों की जांच कर रहा है.

Related Articles

Back to top button