Kangana Ranaut पर MP का सियासी पारा गर्मः कांग्रेस नेता ने अभिनेत्री का बताया ‘भद्दी महिला’, बीजेपी ने किया बचाव

शब्बीर अहमद, भोपाल। कंगना रनौत (Kangana Ranaut) के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) पर दिए विवादित बयान के बाद देशभर में कांग्रेस प्रदर्शन कर रही है। कंगना रनौत के बयान पर मध्यप्रदेश का सियासी पारा भी गरमा गया है। कंगना के बयान के बाद कांग्रेस और भाजपा में बयानबाजी का दौर शुरू हो गया है। कांग्रेस नेता केके मिश्रा ने कंगना राणावत को भद्दी महिला बताया है। वहीं बीजेपी ने कांगना का बचाव करते हुए इसे अभिव्यक्ति की आजादी बताया।

इसे भी पढ़ेः अब बिना कोरोना वैक्सीन MP में नहीं मिलेगा फ्री राशन, फूड डिपार्टमेंट ने जारी की एडवाइजरी, चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने दिसंबर तक 100 फीसदी वैक्सीनेशन का किया दावा

कांग्रेस नेता केके मिश्रा (Congress leader KK Mishra) ने कंगना रनौत के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि वो एक भद्दी महिला है। आजादी को लज्जित करने वाली महिला से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पद्मश्री वापस लेना चाहिए। जिन्हें भीख में पद्मश्री मिला है, वो आजादी के महत्व को समझ नहीं पा रही हैं। कंगना का बयान आजादी में जान कुर्बान करने वालों का अपमान है। मिश्रा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) से आजादी को लज्जित करने वाली महिला से पद्मश्री (Padma Shri) वापस लेने की मांग की।

वहीं बीजेपी ने कांगना के बयान पर अभिनेत्री का बचाव किया है। बीजेपी प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी (BJP spokesperson Pankaj Chaturvedi)  ने कहा कि कंगना को अभिव्यक्ति की आजादी है। उन्हें क्या कहना है, क्या नहीं कहना उनकी सत्यता उनके पास है। उनका बयान जनता के बीच में है। अब जनता तय करेगी कि आगे क्या करना है। गांधी जी के प्रति बीजेपी से ज्यादा किसी और पार्टी में बापू का सम्मान नहीं है। कांग्रेस सड़क पर आ गई है इसलिए कंगना के बयान पर प्रदर्शन कर रही है। कांग्रेस का पास और कोई मुद्दा नहीं रह गया है।

जानिए क्या है पूरा मामला 

दरअसल कंगना ने सोशल मीडिया पर  राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर निशाना साधा है। कंगना ने सोशल साइट इंस्टाग्राम पर दो लंबे मैसेज किए हैं। एक मैसेज में अखबार की एक पुरानी कटिंग लगाते कंगना ने लिखा -या तो आप गांधी के फैन हो सकते हैं या नेताजी के समर्थक। आप दोनों नहीं हो सकते, चुनें और फैसला करें।

कंगना ने लिखा- स्वतंत्रता के लिए लड़ने वालों को उन लोगों ने अपने मालिकों को सौंप दिया। जिनमें अपने ऊपर अत्याचार करने वालों से लड़ने की ना तो हिम्मत थी ना ही खून में उबाल। ये सत्ता के भूखे और चालाक लोग थे। ये वही थे जिन्होंने हमें सिखाया अगर कोई तुम्हें एक गाल पर थप्पड़ मारे तो उसके आगे दूसरा गाल कर दो और इस तरह तुमको आजादी मिल जाएगी। इस तरह से आजादी नहीं सिर्फ भीख मिलती है। अपने हीरो समझदारी से चुनें।

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।