Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

चंडीगढ़, पंजाब। इस साल फरवरी में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को करारी हार का सामना करना पड़ा. 117 सीटों में से कांग्रेस केवल 18 सीटों पर सिमट गई और बड़े-बड़े दिग्गज धराशायी हो गए और 92 सीटों पर आम आदमी पार्टी ने विजय हासिल की. अब विधानसभा में मिली करारी हार के बाद कांग्रेस राज्य में दोबारा खुद को खड़ा करने की कोशिश में लगी हुई है. हालांकि कांग्रेस पार्टी को पंजाब में जल्द ही बड़ा झटका लग सकता है. संगरूर में होने वाले उपचुनाव से पहले दो और वरिष्ठ नेता कांग्रेस का साथ छोड़कर बीजेपी का दामन थाम सकते हैं. इससे पहले पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ भी कांग्रेस पार्टी छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए हैं.

अमरिंदर सिंह बराड़

ये भी पढ़ें: अब अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में हारमोनियम का नहीं होगा इस्तेमाल, अकाल तख्त जत्थेदार ने अग्रेजों का साज बताते हुए हटाने का दिया आदेश

कांग्रेस अंतर्कलह और गुटबाजी से परेशान

दरअसल कांग्रेस के अंदर बहुत अंतर्कलह और गुटबाजी है. इसे कांग्रेस आलाकमान ठीक तरीके से हैंडल नहीं कर पाई. धीरे-धीरे दिग्गज कांग्रेस नेता असंतुष्ट होते चले गए. उन्हें पार्टी में अपना कोई भविष्य नजर नहीं आ रहा है. इसके अलावा कांग्रेस की सरकार में मंत्री रहे नेता भी अपने लिए नए विकल्प तलाश रहे हैं. हाल ही में कांग्रेस छोड़ने वाले सुनील जाखड़ इन नेताओं को बीजेपी के पाले में लाने में अहम भूमिका निभा सकते हैं. बीजेपी के एक नेता ने दावा किया है कि अगले कुछ दिनों में इस बारे में पूरी स्थिति साफ हो सकती है. नाम नहीं बताने की शर्त पर इस नेता ने कहा कि कुछ सांसद, पूर्व विधायक पाला बदल सकते हैं.

ये भी पढ़ें: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने चावल की सीधी सीडिंग पोर्टल को किया लॉन्च

अमरिंदर सिंह राजा वडिंग ने इन बातों को किया खारिज

इधर पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वडिंग ने इस तरह की बातों को खारिज करते हुए इसे अफवाह बताया है. अमरिंदर सिंह राजा ने कहा कि इस तरह की बात सिर्फ अफवाह हैं. इनमें किसी भी तरह की कोई सच्चाई नहीं है. बता दें कि 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी पंजाब में अपनी स्थिति मजबूत करना चाहती है. बीजेपी की कोशिश कांग्रेस के नाराज नेताओं को अपने पाले में लाकर चुनाव से पहले अच्छा ग्राउंड बनाने की है.

ये भी पढ़ें: मुख्यमंत्री भगवंत मान ने स्वास्थ्य मंत्रालय रखा अपने पास, हेल्थ मिनिस्टर विजय सिंगला को करप्शन केस में कर चुके हैं बर्खास्त