Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

कर्ण मिश्रा, ग्वालियर। कोरोना की तीसरी लहर ग्वालियर में स्वास्थ्य विभाग (health Department) पर भारी पड़ रही है। ग्वालियर-चंबल बेल्ट के सबसे बड़े अस्पताल जयारोग्य चिकित्सालय (JAH) में आधे से ज्यादा जूनियर डॉक्टर कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। 220 में से 112 जूनियर डॉक्टर अभी तक कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं। JAH की HOD यशोधरा गौर भी कोरोना संक्रमित हो गई है। रविवार को आई रिपोर्ट में JAH की HOD यशोधरा गौर कोरोना पॉजिटिव निकली। 

इसे भी पढ़ेः एमपी कोरोना LIVE: इंदौर में 4 समेत प्रदेश में 6 संक्रमितों की मौत, मिले 10585 कोविड पॉजिटिव, तीसरी लहर में पहली बार 7800 से अधिक स्वस्थ भी हुए 

यही कारण है कि कोरोना की तीसरी लहर में डॉक्टर बड़ी संख्या में संक्रमित हो रहे है। अंचल के सबसे बड़े शासकीय अस्पताल में जूनियर डॉक्टर्स पर कोरोना का संकट स्वास्थ्य व्यवस्था पर भी प्रभाव डाल रहा है।

इसे भी पढ़ेः खाकी वर्दी हुई दागदारः FIR दर्ज नहीं करने लिए 3 हजार घूस लेते प्रधान आरक्षक रंगे हाथ गिरफ्तार, लोकायुक्त ने की कार्रवाई  

जूनियर डॉक्टर का नया बैच ना आने से पहले से ही काम का बोझ झेल रहे जूनियर डॉक्टरों पर अपने आधे से अधिक साथियों के संक्रमित हो जाने से वर्क लोड काफी बढ़ गया है। जुडा ने इन हालात को देखते हुए मेडिकल कॉलेज प्रबंधन को ज्ञापन सौंपा गया है और मांग की गई है कि अस्पताल में मरीजों को भर्ती करने से पहले रैपिड एंटीजन टेस्ट (rapid antigen test) कराया जाए। ताकि संक्रमण की चैन को समय से पहले रोका जा सके। आइए आपको समझाते हैं कि किस विभाग में कितने जूनियर डॉक्टर संक्रमित पाए गए हैं।

इसे भी पढ़ेः MP में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता चलाएंगी स्मार्टफोनः 65 हजार से अधिक आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और 2 हजार 429 पर्यवेक्षकों को मिलेंगे मोबाइल, सीएम शिवराज कल से Smart Phone बांटने की करेंगे शुरुआत 

विभाग वार मिले कोरोना संक्रमित मिले जूनियर डॉक्टरों की सूची 

  • स्त्री रोग विभाग में 22
  • मेडिसिन विभाग में 18
  • निश्चेतना विभाग 12
  • सर्जरी विभाग 6
  • पीडियाट्रिक विभाग 10
  • ऑर्थोपेडिक विभाग 12
  • ईएनटी विभाग 16
  • नेत्र विभाग 17
  • न्यूरोसर्जरी विभाग 15
  • पैथोलॉजी विभाग 12
  • माइक्रोबायोलॉजी विभाग 2

इसे भी पढ़ेः कब्रिस्तान के पास लूटः बाइक सवार बदमाशों ने कट्टे की नोक पर सराफा व्यवसायी से 20 लाख रुपए के सोने के जेवरात लूटे, मारपीट भी की

अस्पताल में मरीजों का रैपिड एंटीजन टेस्ट शुरू करने की मांग 

ग्वालियर में हर दिन 500 से अधिक कोरोना संक्रमित मिल (Every day more than 500 corona infected are being found in Gwalior.) रहे हैं। पहले मरीजों के इलाज और आकस्मिक सर्जरी से पहले रैपिड एंटीजन टेस्ट होता था, जिससे यह पता चल जाता था कि मरीज कोरोना संक्रमित है या नहीं। इसके बाद डॉक्टर अपनी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए मरीज का इलाज करते थे। पिछले 1 सप्ताह से रैपिड एंटीजन टेस्ट नहीं हो रहे हैं। यही वजह है कि जूडा ने अस्पताल प्रबंधन से मांग की गई है कि रैपिड एंटीजन टेस्ट तुरंत शुरू कराए जाएं अन्यथा जूनियर डॉक्टर काम करने में असमर्थ रहेंगे। उजब डॉक्टर ही सुरक्षित नही रहेंगे तो वह इलाज कैसे करेंगे।

इसे भी पढ़ेः चंबल नदी में तैरता हुआ मिला तेंदुआ का शव, पीएम करवाने के बाद वन विभाग ने किया अंतिम संस्कार 

ग्वालियर सीएमएचओ डॉ मनीष शर्मा ने कहा कि तीसरी लहर में फ्रंट लाइनर सबसे ज्यादा प्रभावित हो रहे हैं। इसलिए हम प्रकोशन डोज के प्रति सबको जागरूक कर रहे हैं।

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus