मेडिकल bulletin video : कम्यूनिटी स्प्रेड की चर्चा तेज ! देखिए कोरोना वायरस से जुड़ी ख़बरें…

शिवम मिश्रा, रायपुर। मेडिकल बुलेटिन में आज कोरोना के आँकड़े, वैक्सीन की उपलब्धता, कम्यूनिटी स्प्रेड, शिक्षा पर असर, छत्तीसगढ़ का हाल जैसी ख़बरें शामिल हैं. पूरी ख़बर चंद मिनट में नीचे लिंक क्लिक कर देखिए.

देश में 42 लाख कोरोना के आकड़े

भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 93 हजार से अधिक नए मामले सामने आए और 1 हजार से अधिक लोगों की मौतें हुईं. देश में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की कुल संख्या 53 लाख के पार हो गई है. जिसमें 10 लाख से अधिक सक्रिय मामले है. स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुसार, इलाज के बाद 42 लाख से अधिक मरीज स्वस्थ होकर अपने घर लौट चुके हैं. देश में अब तक 85 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है.

वैक्सीन उपलब्धता पर विश्वास तेज

दुनियाभर में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच विकसित की जा रही वैक्सीन की उपलब्धता के प्रति दिन-ब-दिन विश्वास बढ़ता जा रहा है. अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने कहा है कि अप्रैल 2021 तक हर अमेरिकी के लिए कोरोना के टीके की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित हो जाने की उम्मीद है. उन्होंने शुक्रवार को एक प्रेस ब्रीफिंग में कहा, ‘जैसे ही टीके को मान्यता मिलती है, सरकार इसे तुरंत अमेरिकियों को उपलब्ध करवा देगी… हर महीने करोड़ों डोज उपलब्ध होंगे और हमें उम्मीद है कि अप्रैल 2021 तक हरेक अमेरिकी के लिए पर्याप्त वैक्सीन उपलब्ध होगी.

भारत में कम्यूनिटी स्प्रेड की चर्चा तेज

भारत में कोरोना वायरस तेजी से पैर पसारता जा रहा है. संक्रमण के बढ़ते मामले हर दिन नया रिकॉर्ड बना रहे हैं. वहीं, अब एक बार फिर से कम्युनिटी स्प्रेड को लेकर चर्चा भी तेज हो गई है. इन सबके बीच दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा है कि अब तक मान लेना चाहिए था कि कम्युनिटी स्प्रेड है. सत्येंद्र जैन ने शनिवार को कहा कि कम्युनिटी स्प्रेड टेक्निकल टर्म में फंस गया है. जब दिल्ली और देश के बाकी हिस्सों में बड़ी संख्या में लोग संक्रमित हो रहे हैं, तो कम्युनिटी स्प्रेड मान लेना चाहिए था. साथ ही उन्होंने यह भी साफ किया कि कम्युनिटी स्प्रेड के बारे में इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) या केंद्र सरकार ही बता पाएगी.

कोरोना में शिक्षा पर पड़ा बुरा असर

कोविड-19 महामारी का भारत में शिक्षा के क्षेत्र में भी बेहद बुरा असर पड़ा है. देशभर में नर्सरी से लेकर 12वीं तक के 1,000 से अधिक स्कूल बिकने की स्थिति में आ गयें है. अगले दो-तीन सालों में इन स्कूलों को बेचकर करीब 7,500 करोड़ से अधिक रुपये कमाए जा सकते हैं. एजुकेशन सेक्टर से जुड़ी सेरेस्ट्री वेंचर्स की तरफ से जुटाए गए आंकड़ों के अनुसार ब्रिकी के लिए रखे गए ज्यादातर स्कूलों की सालाना फीस 50 हजार रुपये है. इसके मुताबिक भारत के करीब 80 फीसदी छात्र इन्हीं फीस स्लैब वाले स्कूलों में पढ़ते हैं.

छत्तीसगढ़ में रोजाना 4 हजार मरीज

छत्तीसगढ़ में कोरोना अब प्रतिदिन 4 हजार के आंकड़े की ओर बढ़ रहा है. राज्य में बीती रात 3800 से ज्यादा मरीजों की पहचान की गई. वहीं 2 हजार से अधिक मरीजों को डिस्चार्ज किया गया है. जबकि 17 मरीजों की इलाज के दौरान मौत हो गई. बता दें की प्रदेश में कोरोना संक्रमितों के आंकड़े बढ़कर 81 हजार के पार हो गये है. जिनमें अब तक कुल 44 हजार से अधिक मरीज स्वस्थ्य होने के उपरांत डिस्चार्ज/रिकवर्ड हुए तथा 36 हजार से ज्यादा मरीज सक्रिय हैं. वहीं आज हुई 17 मरीजों की मौत के साथ ही प्रदेश में कोरोना से मरने वालों के आंकड़े बढ़कर 600 के पार हो गए हैं.

देखिए मेडिकल बुलेटिन

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।