मकर संक्रांति के दिन नकुलनार पहुंची जैनमुनि महाश्रमण की पदयात्रा, लोगों ने आचार्य का स्वागत कर लिया आर्शीवाद

पंकज सिंह भदौरिया,दंतेवाड़ा। आज 14 जनवरी यानी गुरुवार को मकर संक्रांति का पवित्र पर्व मनाया जा रहा है. सनातन धर्म में मकर संक्रांति का बहुत महत्व है. आज से ही सूर्य उत्तरायण होने लगता है. समस्त शुभ कार्य का आगाज भी मकर संक्रांति से ही होता है. विश्व में शांति स्थापित करने के लिए जैन आचार्य श्री महाश्रमण 3 देशों और 19 राज्यों की शांति, सद्भावना और नशामुक्ति संदेश लेकर पदयात्रा कर रहे है. इस अवसर पर आज आचार्य सुबह 9 बजे के आसपास मोखपाल से नकुलनार गांव होते हुए गंजेनार की तरफ बढ़ चले. जहां संत मुनि का अगला विश्राम पड़ाव होगा.

150 से अधिक साधु साध्वी शांति की ध्वज पताका लिये आचार्य जी के साथ चल रहे हैं. नकुलनार ग्राम की सीमा पर पहुँचने से पहले नकुलनार के उपसरपंच दिलीप सिंह चौहान, हितावर ग्राम के उपसरपंच शिव शंकर सिंह चौहान, प्रमोद भदौरिया, पत्रकार प्रदीप गौतम, पंकज भदौरिया, सोनू गौतम ने जैन आचार्य का स्वागत कर उनका आशीर्वाद भी लिया.

इस मौके पर कुआकोंडा पुलिस भी जैन संत आचार्य महाश्रमण जी के साथ मोखपाल गांव से चल रही है. इसके अतिरिक्त जैनी समाज के पूर्व कांग्रेस जिलाध्यक्ष विमल सुराना सहित जिले के कई जैनी सम्भ्रांत परिवारों से लोग साथ-साथ में सेवादार बनकर इस अहिंसा शांति पदयात्रा में अपनी सहभागिता निभाते नजर आए.

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।