नक्सलियों के दरभा डिविजन ने पुलिस पर लगाया फर्जी मुठभेड़ का आरोप, विरोध में 18 मई को किया बंद का ऐलान

पंकज भदौरिया, दंतेवाड़ा– दरभा डिविजन के नक्सल संगठन ने प्रेस नोट जारी कर पुलिस मुठभेड़ और कांग्रेस सरकार पर आरोपों की बौछार की है. नक्सल संगठन ने दो पन्ने के प्रेस नोट में 18 मई को बंद का एलान किया है. दरभा डिवीजन के सचिव साईनाथ ने कांग्रेस सरकार को भाजपा की तरह ही आदिवासियों के शोषण करने का आरोप लगाया है. बैलाडीला की 13 नंबर डिपॉजिट और नगरनार प्लांट पर विनिवेशीकरण का आरोप लगाते हुए अडाणी को सौंप रही है. और पेशा कानूनों की धज्जियां सरकार जगह-जगह उड़ा रही है.

किरंदुल इलाके में 4 नये पुलिस कैंप और चिकपाल में 2 कैंप खोलने की तैयारी पुलिस कर रही है. इन्हीं विरोधों के साथ पुलिस पर हाल ही में 3 मुठभेड़ों को फर्जी बताया है. डुवालीकरका ने वर्गीश मंडावी (एसीएम) और लिंगा की मुठभेड़, पेरपा में मुया की मुठभेड़ के साथ गोंडेरास में पुनेम सीको को मुठभेड़ में मार गिराने का पुलिस दावा किया है, जिसे नक्सलियों ने प्रेस नोट में झूठा बताया है. इसके साथ ही गोंडेरास में जवानों द्वारा ग्रामीणों के साथ मारपीट और पैसे, सामान लूटने का भी नक्सली जवानों पर आरोप लगा रहे हैं.

 6 मांगो को लेकर 1 दिन का बस्तर बंद का एलान

  1. पुलिस प्रशासन द्वारा उत्पीड़ित जनता पर किया जा रहे आक्रामक हमलों का विरोध
  2. जेल में बंद सभी निर्दोषों की रिहाई
  3. विशेष पुलिस बल गठन बंद
  4. नई पुलिस कैंप की तैनाती बंद
  5. बैलाडीला विस्तार विनिवेशीकरण बंद
  6. बस्तर के प्राकृतिक संसाधनों पर बस्तर के हक की बात लिखी है.

विज्ञापन

धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।