दिल्ली CGST टीम ने 134 करोड़ रुपए की टैक्स धोखाधड़ी का किया भंडाफोड़

चिराग गोयल ने सरकार को धोखा देने के लिए रची गहरी साजिश

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की CGST टीम ने 134 करोड़ रुपए की टैक्स धोखाधड़ी का भंडाफोड़ किया है. केंद्रीय वस्तु एवं सेवा कर (सीजीएसटी) आयुक्तालय, पूर्व दिल्ली के अधिकारियों ने फर्जी निर्यातकों के एक नेटवर्क का पता लगाया है, जो धोखाधड़ी से आईजीएसटी रिफंड का दावा करने के इरादे से माल और सेवा कर (जीएसटी) के तहत 134 करोड़ रुपये के फर्जी इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) का लाभ उठा रहे थे और उसका उपयोग कर रहे थे. जांच के दौरान जोखिम भरे निर्यातक वाइब ट्रेडेक्स की पहचान की गई. यह इकाई पान मसाला, तंबाकू, एफएमसीजी सामान आदि के निर्यात का काम करती है.

तिहाड़ जेल के 32 अफसरों की यूनिटेक के पूर्व प्रमोटरों से थी मिलीभगत : दिल्ली पुलिस

फर्जी एक्सपोर्टर्स का नेटवर्क चिराग गोयल नाम का शख्स चला रहा था, जो यूनिवर्सिटी ऑफ सैंडरलैंड ब्रिटेन से एमबीए है. उसके सहयोगी के स्वामित्व वाली दो आपूर्तिकर्ता फर्मों/कंपनियों द्वारा उत्पन्न ई-वे बिलों की जांच में यह पाया गया कि जिन वाहनों के लिए माल की आपूर्ति के लिए ई-वे बिल तैयार किया गया था, उनका उपयोग गुजरात, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश जैसे दूर के शहरों में किया जा रहा था और उस अवधि के दौरान कभी भी दिल्ली में प्रवेश नहीं किया था. इसके तहत फर्जी तरीके से इनपुट टैक्स क्रेडिट का फायदा उठाया गया और इस्तेमाल किया गया, जिससे 134 करोड़ रुपये की टैक्स धोखाधड़ी की गई.

मुंद्रा पोर्ट ड्रग्स बरामदगी मामला : NIA ने दिल्ली में कई जगहों पर मारा छापा

चिराग गोयल ने सरकार को धोखा देने के लिए एक गहरी साजिश रची और सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 132 (1) (सी) के तहत अपराध किए, गैर-जमानती हैं. उसे मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट पटियाला हाउस कोर्ट नई दिल्ली ने 14 दिनों की अवधि के लिए 26 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. मामले में आगे की जांच जारी है.

 

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।