whatsapp

बस्तर में 39 मौतों की क्या है सच्चाई ? पड़ताल में पहुंची टीम और जनपद CEO का बड़ा खुलासा, स्वास्थ्य अमले की बोट पर ‘लाल आतंक’ का कब्जा, LALLURAM.COM पर पढ़िए चौंकाने वाले राज…

बीजापुर। छत्तीसगढ़ में अचानक से 39 आदिवासियों की मौत की गूंज प्रदेशभर में सवालों की बौछार कर रही है. सियासत इतनी गरमाई हुई है कि पड़ताल के लिए SP, कलेक्टर और विधायक ‘लाल आतंक’ की मांद में घुसकर सच्चाई खंगालने निकल पड़े थे, जो वापस लौट गए हैं. वहीं ‘लाल आतंक’ के गलियारे और उस गांव से LALLURAM.COM के पास एक बड़ी और चौंकाने वाली खबर सामने आई है. SP, कलेक्टर और विधायक के दौरे के बाद नक्सलियों ने स्वास्थ्य अमले की बोट को हाईजैक कर लिया है.

भैरमगढ़ सीइओ जेआर अरकरा समेत आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, ग्राम सहायक समेत दर्जनभर स्टाफ लकड़ी की नाव से नदी पार हुए हैं, जबकि अभी भी मेडिकल स्टाफ नदी के उस पार माड़ में मौजूद है. अंधेरे की वजह से नदी के दोनों तरफ स्टाफ फंसे हुए हैं. नाव ना होने की वजह से सुबह मेडिकल टीम की वापसी हो सकती है. नेटवर्क नहीं होने की वजह से नदी के उस तरफ ठहरे स्टाफ से संपर्क नहीं हो पा रहा है.

‘लाल आतंक’ के कब्जे में मोटर बोट

बताया दा रहा है लाल आंतक के कब्ज में बोट है, जिसकी वजह से टीम वापस नहीं आ रही है. नक्सलियों ने बोट को हाईजैक कर लिया है, जिसकी वजह से टीम को लौटने में बड़ी मशक्कत करनी पड़ रही है. मेडिकल स्टाफ समेत 25 स्टाफ इंद्रावती नदी पार फंसे हुए हैं. 2 सरपंच, एक बीएमओ, एक सीएमएचओ समेत 19 स्टाफ नदी उस पार फंसे हुए हैं. अनहोनी की आशंका से स्टाफ के लोग सहमे हुए हैं.

पुलिस ने प्रेस रिलीज जारी कर कहा कि विकास विरोधी माओवादियों द्वारा जन सुविधा के लिए उपलब्ध कराये गए मोटर बोट को उसपरी नदीघाट से बल पूर्वक उठाकर ले गए हैं. बताया जा रहा है कि अब टीम सुबह ही वापस आ पाएगी.

आदिवासियों की मौत मामले में क्या बोले विधायक ?
बीजापुर SP आंजनेय वार्ष्णेय, कलेक्टर राजेन्द्र कटारा और विधायक विक्रम मंडावी दल बल के साथ मौतों की रहस्य को सुलझाने और लोगों से बातचीत कर सच्चाई जानने के लिए गए थे, जो वापस लौट गए हैं. विधायक विक्रम मंडावी ने LALLURAM.COM की टीम से बातचीत की, तो उन्होंने कहा कि वहां की हालातों की स्वास्थ्य विभाग की टीम वास्तविक जानकारी दे पाएगी. इसके अलावा उन्होंने कुछ नहीं कहा.

आदिवासियों की मौतों पर क्या बोले जनपद CEO ?

LALLURAM.COM की टीम ने जब 39 आदिवासियों की मौत पड़ताल करने गए जनपद CEO जेआर अरकरा से बातचीत की, तो उन्होंने कई चौंकाने वाले खुलासे किए. उन्होंने कहा कि मीडिया में जो खबरें 39-40 लोगों की मौत की चल रही है, ऐसा नहीं है. मौतें पुरानी हैं, जिसको जोड़कर बताया जा रहा है. मौतें हुईं हैं, लेकिन इतनी तादादत में नहीं है.

मेडिकल की तीन टीम बनाई गई थी, जिसमें तीनों टीम की रिपोर्ट डॉक्टर्स बना रहे हैं. टीम के आते ही खुलासा करेंगे. उन्होंने कहा कि मेरे हिसाब से इतनी मौतें नहीं हुई हैं. गांव के लोगों से बाचचीत हुई है, जिसमें कहना है कि 6 महीने पुरानी मौतें, साल भर, डेढ़ साल पहले की आंकड़ों को पेश किया गया है. स्वास्थ्य टीम आंकड़े लेकर आ रही है, वो हकीकत बताएगी.

देखिए VIDEO-

इसे भी पढ़ें-

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus

Related Articles

Back to top button