खत्म हुआ 71 साल का इंतजार, टीम इंडिया ऐसा करने वाली दुनिया की पांचवीं और एशिया की पहली टीम बनी

स्पोर्ट्स डेस्क- भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 4 मैच की टेस्ट सीरीज खत्म हो गई है, और सीरीज में टीम इंडिया ने बाजी मार ली है.सीरीज का चौथा और आखिरी टेस्ट मैच बिना किसी नतीजे के खत्म हो गया, हलांकि इस टेस्ट मैच में भी टीम इंडिया मजबूत पोजिशन पर थी, और जिस तरह से खेल दिखा रही थी इस मैच में भी जीत की बड़ी दावेदार मानी जा रही थी। लेकिन बारिश और कम रोशनी मैच में बड़ी बाधा बनी, जिसकी वजह से मैच ड्रॉ हो गया मैच का कोई रिजल्ट  नहीं निकल सका। लेकिन टीम इंडिया ने सीरीज पर जरूर कब्जा जमा लिया। सिडनी टेस्ट मैच के पांचवें दिन एक भी गेंद नहीं फेंका जा सका.

टीम इंडिया का सीरीज पर कब्जा

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 4 मैच की टेस्ट सीरीज खेली गई जहां टीम इंडिया ने  2-1 से सीरीज पर अपना कब्जा जमा लिया। सीरीज के पहले टेस्ट मैच में टीम इंडिया ने बाजी मारी, दूसरे टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया ने पलटवार किया, और कंगारुओं की टीम ने ये मैच जीत लिया, लेकिन एक बार फिर से सीरीज के तीसरे टेस्ट मैच में टीम इंडिया ने कमबैक किया, और शानदार जीत दर्ज की। और सीरीज के चौथे टेस्ट मैच में भी टीम इंडिया मजबूत पोजिशन पर थी, लेकिन बारिश की वजह से मैच ड्रॉ हो गया.

खत्म हुआ 71 साल का इंतजार

यूं तो ऑस्ट्रेलिया में भारतीय टीम 1947 से टेस्ट मैच खेल रही है, और तब से लेकर इस सीरीज से पहले तक टीम इंडिया मैच तो जीत रही थी, लेकिन कंगारुओं की धरती  पर टेस्ट सीरीज नहीं जीत सकी थी। और अब टीम इंडिया का ये इंतजार विराट कोहली की कप्तानी में जाकर खत्म हुआ, और टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलियाई धरती पर ऑस्ट्रेलिया के ही खिलाफ टेस्ट सीरीज में भी अपना कब्जा जमा लिया है। और इतिहास रच दिया है.

ऐसा करने वाली एशिया की पहली टीम

 ऑस्ट्रेलिया में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टीम इंडिया ने पहली बार टेस्ट सीरीज जीती है, इससे पहले न्यूजीलैंड, इंग्लैंड, वेस्टइंडीज, और साउथ अफ्रीका की टीम ऑस्ट्रेलिया में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज जीत चुके हैं, और अब कंगारुओं की धरती में उन्हीं के खिलाफ टेस्ट सीरीज जीतने वाली टीम इंडिया दुनिया की पांचवीं टीम बन गई है . तना ही नहीं ऐसा करने वाली एशिया की पहली टीम भी बन गई है, एशिया की कोई भी क्रिकेट टीम अब तक ऑस्ट्रेलियाई धरती पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज नहीं जीत सकी है.

विज्ञापन

धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।