सहारा इंडिया के हेड ऑफिस में EOW का छापा, मौके से कई दस्तावेज जब्त, 25 हजार लोंगों का 250 करोड़ रुपए हैं जमा

कुमार इंदर, भोपाल/जबलपुर। सहारा इंडिया की जबलपुर के गोरखपुर, रांझी सहित कटनी जिले की शाखा में निवेशकों की जमा पूंजी न लौटने के मामले में आज EOW ने सहारा इंडिया के भोपाल स्थित ऑफिस में छापा मारा. जहां से कई दस्तावेज भी EOW ने जब्त किए हैं. यह कार्रवाई जबलपुर ईओडब्ल्यू की टीम ने कार्रवाई की है.

इसे भी पढ़ेः दबंग विधायक रामबाई सिखा रही सरकारी कर्मचारियों को रिश्वत लेने के गुण, VIDEO हुआ वायरल

दरअसल, सहारा इंडिया ने समयावधि पूरी होने के बाद भी लोगों का पैसा नहीं लौटाया है. जिसके बाद निवेशकों द्वारा मामले की शिकायत पूर्व में ईओडब्ल्यू की जबलपुर ब्रांच में की गई थी. निवेशकों की शिकायत पर ईओडब्ल्यू ने जांच करते हुए सहारा इंडिया प्रमुख सुब्रतो राय सहित अन्य सात अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया था.

इसे भी पढ़ेः हंसना मना हैः बिना ड्राइवर चल रहा पड़ा ऑटो रिक्शा, बचने के लिए भागने लगे लोग, देखिए वीडियो

मामले की जांच करते हुए 27 सितंबर को ईओडब्ल्यू डीएसपी मनजीत सिंह, डीएसपी एसएस धामी, निरीक्षक शशिकला एवं उपनिरीक्षक विशाखा तिवारी की टीम सहारा के भोपाल एमपी नगर स्थित हैड क्वाटर पहुंची. टीम ने जबलपुर-कटनी सहित अन्य संबंधित जिलों के निवेशकों के संपूर्ण दस्तावेज कंपनी के अधिकारियों से तलब किए हैं.

इसे भी पढ़ेः वैक्सीनेशन में बड़ी लापरवाही, शराब के नशे में धुत होकर टीकाकरण केंद्र पहुंचा स्वास्थ्यकर्मी

इससे पहले भी पड़ चुका है छापा

गौरतलब है कि इसके पहले EOW ने जबलपुर व कटनी स्थित सहारा इंडिया के कार्यालयों में दबिश देकर दस्तावेज जब्त किए थे. ईओडब्ल्यू एसपी देवेंद्र प्रताप सिंह राजपूत ने बताया कि निवेशकों की शिकायत पर जांच चल रही है.फिलहाल सभी दस्तावेज जुटाते हुए उनकी जांच की जा रही है.

इसे भी पढ़ेः जिस रचना टॉवर के लिए काटे गए सैकड़ों पेड़, उसी में नहीं विधायक-सांसदों की रुचि, आवंटन निरस्त

25 हजार लोगों का 250 करोड़ रुपये जमा

अब तक 25 हजार से अधिक निवेशकों के ढाई सौ करोड़ रुपए फंसे होने की जानकारी मिली थी. पैसा नहीं लौटाने पर एफआइआर दर्ज की गई थी. 3 सितंबर को 3 FIR गोरखपुर, रांझी और कटनी सहारा ब्रांच के मामले में दर्ज हुई थी. इसमें सहारा ग्रुप के डायरेक्टर सुब्रत राय समेत अन्य को आरोपी बनाया गया था. जब जांच शुरू हुई तो 38 निवेशकों के 38 लाख की रकम पता चली, इसके बाद यह आंकड़ा बढ़ते-बढ़ते 25 हजार निवेशकों के 250 करोड़ रुपए तक पहुंच गया.

इसे भी पढ़ेः  सम्राट मिहिर भोज प्रतिमा विवाद मामले में पुलिस की बड़ी कार्रवाई, 60 से 70 उपद्रवियों पर हुआ मामला दर्ज

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।