BREAKING- नक्सल मुठभेड़ में नक्सली नहीं निर्दोष ग्रामीणों की हुई थी मौत, दंडाधिकारी जांच में हुआ खुलासा

लोकेश साहू, धमतरी- धमतरी जिले के सिहावा क्षेत्र अंतर्गत सल्हेभाट जंगल में करीब दो महिने पहले जंगल में दो लोगों के शव मिलने के मामले में दंडाधिकारी जांच पूरी हो चुकी है. जांच रिपोर्ट के मुताबिक मरने वाले दोनों युवक नक्सली नहीं बल्कि आम ग्रामीण थे, जिनकी मौत मुठभेड़ के दौरान गोली लगने से हुई थी.

आपको बता दें कि सिहावा क्षेत्र के सल्हेभाट जंगल में करीब दो महिने पहले 5 अप्रैल को नक्सलियों और सीआरपीएफ जवानों के बीच मुठभेड़ हुई थी, जिसमें सीआरपीएफ के हेड कांस्टेबल शहीद हो गए थे, तो वहीं एक जवान बुरी तरह से जख्मी हो गया था, मुठभेड़ के एक दिन बाद 7 अप्रैल को उसी जंगल से दो लोगों का शव बरामद हुआ था, जिनकी पहचान उड़ीसा के कुंदई थाना क्षेत्र अंतर्गत सेमरडीह निवासी सहदेव गोड़ और बुधेसिंग कमार के रूप में हुई थी, दोनों की मौत गोली लगने से हुई थी.

इस मामले में पुलिस अधिकारियों द्वारा प्रारंभिक बयान में कहा गया था कि दोनों शव के आसपास से भरमार बंदूक, बारह बोर बंदूक, बैनर पोस्टर सहित कई अन्य नक्सली सामग्री बरामद हुआ है. वहीं परिजनों का कहना था कि दोनों शहद निकालने के लिये जंगल गए थे, बहरहाल मामले की गंभीरता को देखते हुए कलेक्टर रजत बंसल ने दंडाधिकारी जांच करने के निर्देश नगरी एसडीएम जितेंद्र कुर्रे को दिये थे.

मृतक ग्रामीणों के परिजन

कलेक्टर के आदेश पर एसडीएम ने दंडाधिकारी जांच करते हुए परिजनों, पुलिस अधिकारियों और ग्रामीणों सहित कई लोगों के बयान दर्ज किए, करीब दो महिने तक चली जांच के बाद एसडीएम ने रिपोर्ट कलेक्टर बंसल को सौंप दिया है, इस रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि मरने वाले दोनों युवक नक्सली नहीं बल्कि आम ग्रामीण थे, जो कि शहद निकालने के लिए जंगल गए हुए थे, तभी मुठभेड़ के बीच दोनों फंस गए और गोली लगने से इनकी मौत हो गई.

शासन से मिलेगा मुआवजा

कलेक्टर रजत बंसल ने कहा है कि मरने वाले दोनों युवकों के आम ग्रामीण होने की पुष्टि जाँच रिपोर्ट में हुई है, जो कि मुठभेड़ के दौरान बीच में आ गए थे और गोली लगने से मौत हो गई. कलेक्टर बंसल ने मृतकों के परिजनों को शासन से मुआवजा और हर स्तर पर पूरी सहायता दिलाने की बात कही है, साथ ही परिवार के सदस्य को नौकरी दिलाने की बात भी उन्होंने कही है.

विज्ञापन

धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।