Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

प्रीत शर्मा,मंदसौर। गर्मी के मौसम में घर घर में खाने का जायका बढ़ाने वाला प्याज इन दिनों अपनी बदहाली पर खुद आंसू बहा रहा है। प्याज की घटती कीमतों का आलम यह है कि, मंदसौर मंडी में किसान द्वारा मेहनत कर उगाया हुआ प्याज को मंडी में ही छोड़कर जाने को मजबूर है। दरअसल किसानों को प्याज के इतने दाम भी नहीं मिल पा रहे है कि वे अपनी लागत मूल्य निकाल सके।

कुछ वक्त पहले तक जिस प्याज के दाम आसमान छू रहे थे वही आज प्याज की कीमत किसानों को खून के आंसू रुला रही है। मंदसौर की कृषि उपज मंडी में उज्जैन और रतलाम जिले से प्याज लेकर आ रहे किसानों को दो से तीन दिन तक मंडी में रुकने के बाद भी प्याज के मात्र 25 रुपए क्विंटल यानी 25 पैसे प्रतिकिलो तक ही मिल पा रहे है। बेहतर से बेहतर किस्म का प्याज भी कृषि उपज मंडी में 400 रुपए क्विंटल यानी 4 रुपए किलो से ज्यादा नहीं बिक रहा। परेशान किसान बता रहे है कि, उन्हें उज्जैन से एक क्विंटल प्याज मंदसौर मंडी में लाने में ही 200 रुपए प्रति क्विंटल का खर्चा आ रहा है। जबकि एक क्विंटल प्याज बोने में ही किसान को एक हजार रुपए की लागत आती है।

लेकिन यहां उसी एक क्विंटल प्याज के मात्र 25 रुपए से 400 रुपए तक बड़ी मुश्किल से मिल पा रहे है। किसानों के अनुसार फसल का लागत मूल्य निकलना तो दूर, वे अभी प्याज मंडी तक लाने का भाड़ा भी नही निकाल पा रहे है। किसानों की मांग है कि, सरकार उनकी आय दुगुनी ना करे, लेकिन प्याज की घटती कीमतों को संभाल ले। ताकि किसान फसल का लागत मूल्य निकाल सके। किसान नारायण सिंह मूंदड़ा ने बताया कि प्याज की कीमत 25 पैसे किलो बिका। इसी तरह लवकुश कुमावत ने अपनी प्याज 25 पैसे किलो में बेची। किसान लीलाशंकर धाकड़ की परेशानी इसी तरह की है।

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus