Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

शिवम मिश्रा, रायपुर। राजधानी रायपुर में खुलेआम आधी रात को नशाखोरी जारी है. राजधानी के होटल-कैफों में गरबा की आड़ में बेधड़क नशे का कारोबार जारी है. गरबा आयोजन के साथ बेधड़क बियर की बोतलें और हुक्का पॉट परोसे जा रहे हैं. गरबा के साथ खुलेआम नशे का सेवन किया जा रहा, लेकिन लग रहा है प्रशासन से होटल-कैफों की सेटिंग हो गई है, जिससे खुली छूट दे दी गई है.

शहर में नशे के सौदागर हावी ?

वीआईपी रोड स्थित द इंडियन वोक रेस्टोरेंट का नजारा देखकर आप चौंक उठेंगे. आधीरात को खुलेआम वहां नशे का सामान परोसा जा रहा है, लेकिन पुलिस और जिला प्रशासन की टीम को ये सब दिख नहीं रहा है. गरबा की आड़ में नशे का कारोबार बेरोक-टोक जारी है. ये एक रात की बात नहीं है, इन होटल-कैफों में ऐसे ही नशे के सामान परोसे जाते हैं, लेकिन पुलिस अधिकारी  जानकारी नहीं कहकर पल्ला झाड़ रहे हैं. क्या शहर को नशे के सौदागरों के हाथ सौंप दिया गया है ?.

गरबा में क्षमता के हिसाब से 50 प्रतिशत लोग शामिल होने के निर्देश हैं, लेकिन गरबा की आड़ में संचालक सरकारी फरमान को अपने पैरों तले रौंद रहे हैं, लेकिन प्रशासन के कान में जूं तक नहीं रेंग रहा है.

इससे पहले राजधानी रायपुर के नए एसपी प्रशांत अग्रवाल ने भी सख्त निर्देश दिए थे, होटल कैफों में नियम के विरुद्ध अगर काम करते पाया गया तो निश्चित कार्रवाई की जाएगी, लेकिन देर रात तक सभी नियमों को ताक में रखकर गरबा में 1000 से 2000 हजार लोग शामिल हो रहे हैं. लोगों में अब कोरोना का खौफ भी नहीं रह गया है.

दरअसल, गरबा की आड़ में वीआईपी रोड के कई होटल और कैफों में बेधड़क नशा परोसा जा रहा है. शहर के अलग-अलग कैफों में गरबा आयोजन किया जा रहा है. जहां देर रात तक खुलेआम हुक्का, बियर और अन्य नशीली चीजें परोसी जा रही है. लग रहा है रायपुर नशे की जहरीली हवा में उड़ रहा है.

ताज्जुब की बात ये है कि 11 बजे रात तक ही रेस्टोरेंट और कैफों को खोलने की अनुमति मिली है, लेकिन बावजूद इसके कैफे संचालक सभी नियमों को धता बताकर खुलेआम देर रात तक गरबा की आड़ में नशे का कारोबार संचालित कर रहें है, लेकिन स्थानीय थाना पुलिस कुछ कार्रवाई नहीं कर रही.

माना थाना प्रभारी दुर्गेश रावटे ने बातचीत में कहा कि ऐसी कोई जानकारी अभी नहीं आई है. जानकारी मिलते ही वैधानिक कार्रवाई की जाएगी. पुलिस टीम को मौके पर भेजकर जांच करवाते हैं. अब सवाल ये उठता है कि क्या पुलिस की गश्त टीम शहर में सो रही है, जो पुलिस प्रशासन को इन बातों को भनक तक नहीं लग रही है, जिससे शहर में खुलेआम शराबखोरी और नशाखोरी हो रही है ?.

मोदी को ‘पैसों की भूख’: 100 कारणों से जाएगी एनडीए सरकार, महंगाई सबसे बड़ी वजह- पी. चिदंबरम

read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus