ओमीक्रोन वायरस पर पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर का सरकार पर हमला, बोले- सीएम बाहर रहना चाहते हैं तो निर्णय का अधिकार दूसरे को सौंपे

रायपुर। ओमीक्रोन वायरस के बढ़ते खतरे के बीच भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर ने सूबे की भूपेश सरकार पर जमकर हमला बोला है। चंद्राकर ने सीएम भूपेश बघेल के दौरे को लेकर तंज कसा है और कहा है कि मुख्यमंत्री को अगर अपने प्रदेश की चिंता नही औऱ वो लगातार बाहर ही रहना चाहते है तो निर्णय लेने का अधिकार किसी दूसरे को सौंपे। उन्होंने आरोप लगाया कि कोरोना प्रदेश के अंदर आ रहा है और कांग्रेस की सरकार समय रहते कदम नही उठाती। कांग्रेस कभी समय रहते कोई काम नही करती जिसका परिणाम जनता को भुगतना पड़ता है। कोरोना की पिछली दो लहरों में राज्य सरकार ने भारी लापरवाही की है अब अगर उनकी समझ मे कुछ नही आ रहा तो कांग्रेस हमारे सुझावों को पालन करे और प्रदेश को कोरोना से बचाये।

उन्होंने कहा, “दुर्भाग्य की बात है विदेशों से आये कुछ लोगो को राज्य सरकार खोज नही पा रही है यह प्रदेश वासियो के लिए बड़ा खतरा हो सकता है।” पूर्व मंत्री ने राज्य सरकार को ओमीक्रोन वायरस से निपटने के लिए 8 बिन्दुओं में अपने सुझाव दिये हैं।

  1. विदेशों से आने वाले यात्रियों पर निगरानी बढ़ाई जाए व उन्हें 7 दिन सरकारी नियंत्रण में आइसोलेट किया जाए।
    जब वह छतीसगढ़ आये तब तुरंत जांच हो साथ ही 7 दिन बाद दुबारा जांच हो।

2 .विदेशों से आने वाले लोगो के परिवारजन को भी विशेष गाईडलाइन जारी कर उसका पालन कराया जाए।

3. किसी भी विदेशी के पॉजिटिव पाए जाने पर तुरंत वायरस की जांच के लिए उसे भेज कर उनके संपर्क में आये लोगो को आइसोलेट कर , नियमित अंतराल में दो बार उनकी जांच की जाए।

4. जिन राज्यो में नए वायरस पुष्टि हो चुकी है वहाँ से किसी भी माध्यम से आने वाले यात्री की जांच कर उसे आइसोलेट किया जाए।

5. अन्य राज्यो से आने वाले यात्रियों पर निगरानी बढ़ाई जाए सभी का डेटा सरकार अपने पास रखे वो कहा जा रहे है कब तक राज्य में है। ताकि जरूरत पड़ने पर उनसे तुरंत संपर्क किया जा सके ।

6. जिन स्थानो पर नियमित रूप से भीड़ ज्यादा होती है वहाँ आने वाले लोगों की रैंडम जांच कर इस संख्या को लगातार बढ़ाया जाए।

7.अखबारों में इश्तिहार या अन्य अन्य माध्यमों से जनता को जागरूक करने व जानकारी देने का अभियान लगातार चलाया जाए।

8. प्रदेश में संचालित होने वाली गतिविधियों के बारे में निर्णय सही समय पर लिया जाए मुख्यमंत्री के बाहर रहने से निर्णय लेने में देरी न हो।

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!