अंतरराज्यीय गिरोह का हुआ पर्दाफाश, गिरोह के मास्टरमाइंड सहित चार सदस्यों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

धमतरी. पुलिस द्वारा एक ऐसे अंतरराज्यीय गिरोह का भंडाफोड़ किया गया है. जो लोगों के बैंक खाते से ई-वॉलेट और एटीएम के माध्यम से लाखों करोड़ो रूपये पार ​कर दिया करता था. पुलिस ने इस गिरोह के चार सदस्यों को गिरफ्तार किया है. जिसमें गिरोह का मास्टरमाईन्ड भी शामिल है. इन सभी आरोपियों को पुलिस ने झारखंड से गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार किये गये आरोपियों में लखन लाल. विकास मड़ल, भागीरथ पंड़ित और गांधी राणा शामिल है. जिसमें गिरोह का मास्टरमाइंड लखन लाल है.

थाना सिटी कोतवाली के अपराध क्रमांक 203/ 17 धारा 419 420 एवं आईटी एक्ट धारा 66 के तहत किया गया. एटीएम से ऑनलाइन धोखाधड़ी साइबर अपराध से संबंधित होने से पुलिस अधीक्षक द्वारा थाना प्रभारी सिटी कोतवाली को संबंधित मोबाइल नंबर, बैंक खाता व ई-वॉलेट की जानकारी तत्काल साइबर सेल से प्राप्त करने निर्देशित किया. जिससे यह पता चल सके की आॅनलाईन ठगी करने वाले आरोपी छत्तीसगढ़ या उसके बाहर के है.

मामले की पड़ताल के बाद ये सारे नम्बर झांरखड़ के निकले. जिसके बाद उपनिरीक्षक जहीर अहमद निजामी के साथ ही अन्य अधिकारी कर्मचारियों को आरोपियों की पतासाजी और गिरफ्तारी के लिए 19 मार्च को झारखंड रवाना किया गया. यहा एसआईटी की टीम ने विभिन्न जिलों में आरोपी की खोजबीन शुरू की. इसी बीच झारखंड के जामताड़ा जिले से पुलिस को चार आरोपियों को गिरफ्तार करने में पुलिस कामयाब रही. जिसमें गिरोह का मास्टरमाइंड लाखन लाल भी शामिल था. लखन लाल को देश के अन्य राज्यों में घटित अपराधों की विस्तृत पूछताछ की कार्रवाई के लिए झारखंड पुलिस द्वारा निवेदन करने पर उन्हें पुलिस रिमांड पर सौंपा गया और उसे शीघ्र प्रोटेक्शन वारंट के जरिए धमतरी कोर्ट में पेश किया जाएगा.

उपनिनीक्षक जहीर अहमद ने अपनी कार्यकुशलता एवं प्रोफेशनलिज्म का परिचय देते हुए साइबर सेल से सतत संपर्क में रहते हुए पूर्ण तत्परता सतर्कता से पूरी टीम के साथ कार्रवाई की गई. जिससे धमतरी पुलिस को एटीएम फॉड जैसे गंभीर अपराध में बहुत बड़ी सफलता हासिल हुई है. इस अपराध के खुलासे के बाद न केवल धमतरी जिले के बल्कि राज्य के अन्य जिलों के अपराधों के खुलासे की भी संभावना पुलिस ने व्यक्त की है.

यह पूरा गैंग जामताड़ा झारखंड के ग्राम लुआ,शंकरपुर, पाकडीह, गिरीडीह, अहिल्यापुर, मधुपुर, का रहने वाले है, इनके द्वारा पूरे हिन्दुस्तान में आम लोगों के साथ धोखाधड़ी कर लाखों करोड़ो रूपये ई-वॉलेट के जरिये लूटते है.

Related Articles

Back to top button