Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

चंडीगढ़, पंजाब। पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड के मास्टरमाइंड लॉरेंस बिश्नोई का पुलिस रिमांड 5 दिन बढ़ गया है. लॉरेंस बिश्नोई अब 27 जून तक पुलिस रिमांड में रहेगा. मंगलवार देर रात उसे मानसा कोर्ट में पेश किया गया. रिमांड मिलने के बाद पंजाब पुलिस उसे मानसा से रात को ही खरड़ स्थित क्राइम इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (CIA) स्टाफ के दफ्तर ले आई. पुलिस ने कोर्ट में दलील दी कि कई गैंगस्टरों से लॉरेंस के सामने बिठाकर पूछताछ करनी है. इसके अलावा मूसेवाला हत्याकांड की साजिश कैसे रची गई, इसके बारे में भी जानकारी हासिल करनी है.

पाकिस्तान का कनेक्शन भी उजागर

सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड के आरोपियों की जांच और पूछताछ से पता चला है कि सीमा पार से कुछ तत्वों ने निशानेबाजों को हथियार और गोला-बारूद मुहैया कराया था. आधिकारिक सूत्रों ने मंगलवार को इसकी जानकारी दी है. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पंजाबी गायक की हत्या में शामिल दो मुख्य निशानेबाजों प्रियव्रत उर्फ फौजी और कशिश उर्फ कुलदीप को गिरफ्तार किया था. आरोपी प्रियव्रत गैंगस्टर्स के मॉड्यूल का मुखिया था और शूटरों की टीम का नेतृत्व करता था और घटना के समय कनाडा के गैंगस्टर गोल्डी बराड़ के सीधे संपर्क में था.

ये भी पढ़ें: भ्रष्टाचार के आरोप में सीनियर IAS अफसर गिरफ्तार, सीवरेज बोर्ड में रहते हुए 7 करोड़ के प्रोजेक्ट में 1 फीसदी कमीशन की मांग की थी, ले चुके थे पहली किश्त

ड्रोन के द्वारा गिराए जा रहे हैं हथियार

आरोपी प्रियव्रत से शुरुआती पूछताछ में पता चला कि उसे पाकिस्तान से हथियारों की खेप मिली थी. सूत्रों ने बताया कि “हथियारों को गिराने में ड्रोन के इस्तेमाल का मामला सामने आया है.” विशेष रूप से पाकिस्तान की आईएसआई को पंजाब स्थित अपराधियों और गैंगस्टरों को ड्रग्स, हथियार और गोला-बारूद की आपूर्ति करने में बार-बार जिम्मेदार पाया गया है. एसआईटी का गठन पंजाब के डीजीपी वीके भावरा को आतंकवादियों और गैंगस्टरों के गठबंधन के इस पहलू को देखने के लिए भी कहा गया है.

पंजाब में हथियारों की बड़ी खेप मौजूद

केंद्रीय एजेंसियों के मुताबिक, हथियारों की खेप इस हद तक पंजाब पहुंच गई है कि पुलिस के लिए इनसे निपटना आसान नहीं है. आतंकवादी और गैंगस्टर इस समय एएन-94, असॉल्ट राइफल, सी-30 पिस्टल, बेरेटा पिस्टल, जीलॉक 17 और रॉकेट प्रोपेल्ड ग्रेनेड हथियारों का इस्तेमाल कर रहे हैं. 9 मई को पंजाब के मोहाली में रॉकेट से चलने वाले ग्रेनेड ब्लास्ट में भी पुलिस ने इसमें शामिल 6 संदिग्धों आतंकियों को गिरफ्तार किया था. आधिकारिक तौर पर पता चला कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के इशारे पर किए गए हमले में बब्बर खालसा इंटरनेशनल शामिल था.

ये भी पढ़ें: पिछली कांग्रेस सरकार में डिप्टी CM रहे ओपी सोनी से 20 लाख फिरौती की मांग, जान से मारने की भी मिली धमकी

भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद

दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मीडिया ब्रीफिंग के दौरान जानकारी दी थी कि गिरफ्तार निशानेबाजों के इशारे पर पुलिस ने भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किया है. उन्होंने कहा कि हमने अंडर बैरल ग्रेनेड लॉन्चर के साथ 8 हाई एक्सप्लोसिव ग्रेनेड बरामद किए हैं. एचई ग्रेनेड, ग्रेनेड लॉन्चर के साथ उपयोग के लिए डिजाइन किए गए हैं. बरामद ग्रेनेड लॉन्चर को एके-47 असॉल्ट राइफल्स पर लगाया जा सकता है. पुलिस को ग्रेनेड के अलावा 9 इलेक्ट्रिक डेटोनेटर, 20 राउंड के साथ एक असॉल्ट राइफल, 30 बोर की 3 अत्याधुनिक स्टार पिस्टल, 7.62 एमएम की स्टार पिस्टल के 36 राउंड और एके सीरीज असॉल्ट राइफल का हिस्सा भी मिला है.

ये भी पढ़ें: पंजाब में AAP सरकार बनने के बाद से अब तक 28 केस दर्ज, 45 गिरफ्तारियां, मंत्री और पूर्व मंत्री भी गिरफ्त में

29 मई को हुई थी सिद्धू मूसेवाला की हत्या

पंजाबी भाषा के सबसे प्रसिद्ध गायकों में से एक 28 वर्षीय सिद्धू मूसेवाला की 29 मई को उस समय गोली मारकर हत्या कर दी गई थी, जब वह एक कार में यात्रा कर रहे थे और 6 हमलावरों ने पंजाब में मानसा जिले के जवाहरके गांव में 30 से अधिक गोलियां चलाईं. सिद्धू मूसेवाला अपनी महिंद्रा थार एसयूवी की ड्राइविंग सीट पर खून से लथपथ पाए गए, जबकि कार में सवार दो और लोग, सिद्धू के दोस्त, गुरविंदर सिंह और गुरप्रीत सिंह को भी गोली लगी, लेकिन वे बच गए.