शिक्षकों को दिया प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने बड़ा तोहफा… अब नहीं होना पड़ेगा उन्हें परेशान

शिक्षकों को कांग्रेस सरकार ने बड़ा तोहफा दिया है. मध्यप्रदेश की सरकार ने ये फैसला लिया है कि अब संकुल प्राचार्य पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन रिलीव और ज्वाइनिंग करेंगे, जिससे अब उन्हें डीईओ दफ्तर के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे.

 नए आदेश के मुताबिक जिन शिक्षकों का तबादला हुआ है, उनके दस्तावेजों का सत्यापन एजुकेशन पोर्टल पर संकुल प्राचार्यों द्वारा किया जाएगा. इसके बाद ही ऐसे शिक्षकों को अपनी पदस्थापना के संकुल केंद्र की ओर रिलीव किया जाएगा, लेकिन भोपाल से यह कार्रवाई बुधवार शाम होने वाली वीडियो कांफ्रेंसिंग के बाद ही संभव हो सकेगी. इसके पहले किसी भी शिक्षक को रिलीव नहीं किया जाएगा.

नहीं जाना होगा डीईओ दफ्तर, संकुल से संकुल में भेजे जाएंगे शिक्षक

सीपीआई भोपाल द्वारा शिक्षकों के तबादलों के संबंध में मंगलवार को जो आदेश जारी किए गए हैं, उसके मुताबिक अब शिक्षकों को संकुल केंद्रों से डीईओ ऑफिस रिलीव नहीं किया जाएगा, बल्कि अपने स्कूल से रिलीव होकर शिक्षक संकुल केंद्र पर पहुंचेंगे.  यहां एज्युकेशन पोर्टल के माध्यम से संकुल प्राचार्य ऑनलाइन शिक्षकों के तबादला आदेश का सत्यापन करेंगे. इसके बाद पोर्टल पर ही ऑनलाइन कार्यमुक्ति उस संकुल केंद्र की ओर की जाएगी, जिस संकुल केंद्र में उनका तबादला हुआ है. फिर उनकी पदस्थापना वाले संकुल केंद्र से ऑनलाइन उपस्थिति उनकी पदस्थापना वाली शाला पर ही करवाई जाएगी.

अतिथि शिक्षक रखे जाने तक रिलीव नहीं हो सकेंगे शिक्षक

मंगलवार को भोपाल से जारी हुए आदेश के मुताबिक स्थानांतरण आदेश जारी होने के कारण अगर तबादले की वजह से कोई स्कूल शिक्षक विहीन हो रहा है तो उस स्कूल के शिक्षकों को तब तक अपने तबादले वाले स्कूल की ओर रिलीव नहीं किया जा सकेगा, जब तक उस स्कूल में अतिथि शिक्षक की नियुक्ति नहीं हो जाएगी. वहीं मॉडल और उत्कृष्ट विद्यालयों से भी शिक्षक तब तक उस स्कूल से कार्यमुक्त नहीं होंगे, जब तक उनके स्थान पर अतिथि शिक्षकों की पदस्थापना नहीं होगी.

Back to top button
Close
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।