गोधन न्याय योजना: ये जिला गोबर बेचने में रहा सबसे आगे, आज होगा 1 करोड़ 65 लाख का भुगतान

रायपुर। छत्तीसगढ़़ सरकार की महत्वाकांक्षी ‘गोधन न्याय योजना‘ के तहत 20 जुलाई से एक अगस्त तक 3 हजार 698 पशुपालकों से रायपुर जिले में सर्वाधिक 13 हजार 195 क्विंटल गोबर की खरीदी की गई है. राज्य में इस योजना के तहत एक अगस्त तक कुल 82 हजार 711 क्विंटल गोबर की खरीदी की गई है, जिसका 5 अगस्त को एक करोड़ 65 लाख 42 हजार रूपए का भुगतान गोबर विक्रेताओं के खाते में ऑनलाईन किया जाएगा.

Close Button

प्रदेश के जांजगीर-चांपा जिले में 2 हजार 235 पशुपालकों से 3 हजार 148 क्विंटल गोबर की खरीदी की गई है. इसी प्रकार बस्तर जिले के एक हजार 875 पशुपालकों से एक हजार 17 क्विंटल, बीजापुर के 639 पशुपालकों से 487 क्विंटल, दंतेवाड़ा के 544 पशुपालकों से 488 क्विंटल, कांकेर के 2 हजार 221 पशुपालकों से 2460 क्विंटल, कोण्डागांव के एक हजार 321 पशुपालकों से 54 हजार 661 क्विंटल, नारायणपुर के 421 पशुपालकों से 201 क्विंटल, सुकमा के एक हजार 394 पशुपालकों से एक हजार 81 क्विंटल, बिलासपुर के 2 हजार 13 पशुपालकों से 18 हजार 28 क्विंटल, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही के 744 पशुपालकों से 565 क्विंटल गोबर की खरीदी की गई है.

कोरबा जिले के 2 हजार 756 पशुपालकों से 4 हजार 07 क्विंटल गोबर की खरीदी हुई है. मुंगेली के 902 पशुपालकों से 1105 क्विंटल, रायगढ़ के 2 हजार 335 पशुपालकों से 3 हजार 380 क्विंटल, बालोद के 2 हजार 228 पशुपालकों से 5 हजार 637 क्विंटल, बेमेतरा के 637 पशुपालकों से एक हजार 328 क्विंटल, दुर्ग के 2 हजार 499 पशुपालकों से 11 हजार 985 क्विंटल, कवर्धा जिले में 819 पशुपालकों से 2573 क्विंटल, राजनांदगांव के 5 हजार 30 पशुपालकों से 6 हजार 805 क्विंटल, बलौदाबाजार के एक हजार 118 पशुपालकों से 2 हजार 245 क्विंटल, धमतरी के 2 हजार 182 पशुपालकों सेे 5 हजार 745 क्विंटल, गरियाबंद के 839 पशुपालकों से एक हजार 730 क्विंटल, महासमुंद के एक हजार 619 पशुपालकों से 4 हजार 532 क्विंटल, बलरामपुर के 858 पशुपालकों से 734 क्विंटल, जशपुर के एक हजार 615 पशुपालकों से 847 क्विंटल, कोरिया के एक हजार 324 पशुपालकों से एक हजार 253 क्विंटल, सरगुजा के एक हजार 822 पशुपालकों से 2 हजार 466 क्विंटल और सूरजपुर जिले के एक हजार 286 पशुपालकों से एक हजार 321 क्विंटल गोबर की खरीदी की गई है.

loading...

Related Articles

Back to top button
Close
Close
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।