Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

शब्बीर अहमद,भोपाल/शेखर उप्पल,गुना। मध्यप्रदेश की आज की सबसे बड़ी खबर गुना जिले से सामने आई थी. गुना में काले हिरण के शिकार की सूचना पर पहुंचे पुलिसकर्मियों पर शिकारियों ने फायरिंग कर दी थी. इस गोलीबारी में एक एसआई समेत 3 पुलिसकर्मी मारे गए. अब सूत्रों से पता चला है कि हत्याकांड के अपराधियों ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है. लेकिन पुलिस आरोपियों को उन्हीं के जवाब में सीधे एनकाउंटर कर रही है. पुलिस ने पहले नौशाद खान, फिर शहजाद खान को भी एनकाउंटर में मार गिराया है.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पहले ही कह चुके हैं कि आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई इतिहास बनेगी. अब एमपी पुलिस भी उसी नक्से कदम पर आगे बढ़ रही है. अपराधियों को उन्हीं की करतूत की तरह जवाब दिया जा रहा है. इसलिए गुना मामले में दूसरे आरोपी का भी एनकाउंटर कर दिया गया है. पुलिस ने मुठभेड में शहजाद खान भी एनकाउंटर में मार गिराया है.

गुना गोलीकांडः बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष का दिग्विजय पर बड़ा आरोप, कहा- आरोपियों के तार राघोगढ़ किले से जुड़े, उनके संरक्षण में हुआ पुलिस पर हमला

कैबिनेट मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने कहा कि आरोपियों को जयवर्धन सिंह और राधौगढ़ किले का संरक्षण है. उन्होंने कहा कि पहले आरोपी नौशाद खान मुठभेड़ में घायल था, जिसके उसके घर से बरामद किया गया है. शहजाद ने 8 राउंड गोली चलाई थी, वो जंगल में भाग रहा था, जिसे पुलिस ने मार गिराया है. इससे पहले भी कच्ची शराब दुकान में छापेमार कार्रवाई की गई थी. जिसमें संरक्षण मिला हुआ था. स्थानीय विधायक जयवर्धन सिंह का संरक्षण था. जिनते भी अपराधी होगी, सभी का बुरा अंजाम होगा.

Big News: काले हिरण के शिकारियों ने 3 पुलिस कर्मियों की हत्या कर दी, एक SI समेत दो आरक्षकों की मौत, गृहमंत्री ने कहा- दोषियों को छोड़ेंगे नहीं, इधर दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर जताया दुख

सूत्रों से खबर मिली है कि आरोन शिकार मामले में पुलिस की सख्ती के बाद अपराधियों का हौसला टूट चुका है. अपराधियों ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है. हालांकि इस मामले में पुलिस की तरफ से कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है. यही वजह है कि शहजाद खान का पुलिस ने एनकाउंटर कर दिया है.

Breaking: गुना मामले में ग्वालियर आईजी को तत्काल हटाने का फैसला, सीएम शिवराज बोले- आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई इतिहास बनेगी

बता दें कि गुना जिले की आरोन थाना क्षेत्र में सूचना मिली थी कि शहर के कुछ लोग जंगल में काले हिरण का शिकार कर रहे हैं. जब पुलिस टीम वहां पहुंची तो बदमाशों और पुलिस के बीच में मुठभेड़ शुरू हो गई. इस मुठभेड़ में एसआई राजकुमार जाटव, आरक्षक नीरज भार्गव और आरक्षक संतराम की गोली लगने से उनकी मौत हो गई. इस पटना में ड्राइवर भी गंभीर रूप से घायल बताया जा रहा है, जिसे जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया. यह घटना सुबह तकरीबन 3 और 4 बजे के बीच हुई.

बड़ी खबरः शिकारियों के मुठभेड़ में मृत पुलिसकर्मियों को शासन ने दिया शहीद का दर्जा, नेता प्रतिपक्ष ने गृह मंत्री से मांगा इस्तीफा, इधर BJP MLA बोले- खून के एक-एक बूंद का हिसाब लिया जाएगा

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus

">
Share: