HDFC की नेट बैंकिंग से जुड़ी बड़ी खबर…

नई दिल्ली. एचडीएफसी बैंक के ग्राहक नेटबैंकिंग का इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं. सोमवार से ही नेटबैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग ऐप एक्सेस नहीं कर पाने की वजह से ग्राहकों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. महीने की शुरुआत की वजह से लोग बिल पेमेंट और अन्य लेनदेन रुक जाने से परेशान हैं.

सोमवार को भी बैंक की नेटबैंकिंग सेवा घंटे बाधित रही थी. शाम 6.15 बजे एचडीएफसी बैंक ने अपने ट्वीटर हैंडल से ट्वीट कर गड़बड़ी के बारे में अपने ग्राहकों को जानकारी दी थी. देर रात तक बैंक अपनी सेवाएं बहाल करने में नाकाम रहा था. एचडीएफसी ने ट्वीट किया, ‘तकनीकी गड़बड़ी की वजह से हमारे कुछ ग्राहक नेटबैंकिंग तथा मोबाइल बैंकिंग ऐप में लॉगइन नहीं कर पा रहे हैं. हमारे विशेषज्ञ इस गड़बड़ी को ठीक करने में लगे हुए हैं और हम आश्वस्त हैं कि जल्द ही सेवाएं बहाल कर ली जाएंगी.’

इससे पहले जब एचडीएफसी बैंक ने अपना नया मोबाइल ऐप लॉन्च किया था, तब भी ग्राहकों को कुछ इसी तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ा था. नए मोबाइल ऐप को लॉन्च करने के बाद पुराना वाला ऐप गूगल ऐप से हटा लिया गया था, जिसके कारण ग्राहकों को काफी परेशानी हुई थी.

क्या कहा ग्राहकों ने

मोबाइल बैंकिंग ऐप और नेट बैंकिंग ठप होने के कारण लोगों ने बैंक को ट्वीट कर शिकायतों की झड़ी लगा दी. कई यूजर्स ने यहां तक लिखा कि कोई भी नेट बैंकिंग खोल नहीं पा रहा. यह सुबह से ही ठप है. एक यूजर ने लिखा कि कैसे एक बैंक की नेटबैंकिंग सर्विसेज कामकाजी घंटों के दौरान ठप हो सकती है. इस कारण जो नुकसान होगा, उसकी भरपाई कौन करेगा. मेंटेनेंस का काम आधी रात को होना चाहिए. उपयोगकर्ताओं के मुताबिक वे लॉगिन नहीं कर पा रहे हैं और लैंडिंग पेज शो पर एक संदेश दिख रहा है “पहले से लॉग इन कस्टमर्स के हेवी लॉड की प्रोसेसिंग की वजह से नेट बैंकिंग सिस्टम व्यस्त है.

SSC: 12 वीं पास युवा को मिलेगी 81000 रुपए की सैलरी, तुरंत करें आवेदन

कुछ समय बाद प्रयास करने का अनुरोध है” एक ऐसा ही मैसेज एचडीएफसी बैंक की मोबाइल ऐप पर लिखा हुआ आ रहा है, जिसमें हेवी ट्रेफिक के कारण कुछ समय बाद लॉगइन करने के लिए कहा गया है. एचडीएफसी बैंक ने ट्वीट के जरिये भी इस गड़बड़ी की जानकारी दी है, जिसमें तकनीकी गड़बड़ी का हवाला दिया गया है. बैंक की तरफ से इस मामले में खेद व्यक्त किया गया है.

सुंदर पिचाई का हुआ प्रमोशन… Google संस्थापक सर्गेई ब्रिन की लेंगे जगह, जाने उनके संघर्ष की पूरी कहानी

Related Articles

Back to top button
survey lalluram
Close
Close
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।