60 लाख मीट्रिक टन धान खरीदी केस: हाई कोर्ट ने वादाखिलाफी मामले में केंद्र और राज्य सरकार को जारी किया नोटिस, 4 सप्ताह में मांगा जवाब

बिलासपुर। हाईकोर्ट में धान खरीदी और केंद्र सरकार की वादाखिलाफी मामले में दायर याचिका पर आज सुनवाई हुई. प्रदेश के किसानों की तकलीफ को देखते हुए हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई है. याचिका में बताया गया कि केंद्र सरकार ने प्रदेश से 60 लाख मीट्रिक टन धान खरीदी करने का वादा किया था, जो अब नहीं ले रही है. ऐसे में प्रदेश के धान भंडारण केंद्रों में धान खराब हो रहा है.

हाईकोर्ट ने मामले में यूनियन ऑफ इंडिया, राज्य शासन, और जूट मंत्रालय को जवाब पेश करने के लिए 4 सप्ताह का समय दिया है. जनहित याचिका में मांग की गई है कि केंद्र सरकार अपना वादा निभाए और प्रदेश के धान केंद्रों में रखे धान की खरीदी करे.

याचिका में तय समय में FCI को धान खरीदी करने कोर्ट से निर्देशित करने की मांग की गई, ताकि 21 लाख किसानों को सीधा इसका लाभ मिल सके. आज एक्टिंग चीफ जस्टिस के डिवीजन बेंच में यह मामला लगा था. मामले में अगली सुनवाई 4 सप्ताह बाद तय की गई है.

दरअसल, अधिवक्ता आयुष भाटिया ने पीटिशन इन पर्सन हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की है. इसमें केंद्र सरकार के राज्य सरकार से 60 लाख मीट्रिक टन धान खरीदने के वादा करने और अब ऐसा नहीं करने की जानकारी दी है. याचिका में कहा गया कि इससे मौजूदा समय में राज्य सरकार ने जो धान खरीदी की है, उसके भंडारण की समस्या हो रही है. याचिकाकर्ता ने कोर्ट से मांग की है कि वो FCI को तय सीमा तक धान खरीदी करने के निर्देश दें.

याचिका में कहा गया है कि FCI के धान खरीदी करने से प्रदेश के 21 लाख किसानों को फायदा मिल सकेगा. ऐसा होने पर लाखों किसानों को राहत मिलेगी. 2020-21 के लिए धान खरीदी 31 जनवरी 2021 को समाप्त हो रही है. सुनवाई के दौरान कोर्ट ने याचिकाकर्ता को कोर्ट फीस जमा करने के लिए समय देकर आगे मामला लगाने का आदेश दिया है. यह सुनवाई चीफ जस्टिस पीआर रामचंद्र मेनन और जस्टिस पीपीसाहू की खंडपीठ में हुई.

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus

 

Related Articles

Back to top button
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।