Video: पति ने दोस्तों के सामने पत्नी से डांस करने के लिए कहा, मना करने पर काट दिए सिर के बाल…

  •     पीड़िता ने वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर शेयर किया जिसके बाद कई लोग सपोर्ट में आए

  •     पति ने कहा- ड्रग्स के नशे में पत्नी ने खुद ही अपने बाल काटे हैं, मैंने बस उसकी मदद की थी

लाहौर. डिफेंस हाउसिंग अथॉरिटी (डीएचए) जिले के पॉश कॉलोनी में रहने वाली आसमां अजीज ने अपने पति मियां फैसल पर गंभीर आरोप लगाया है। आसमां ने कहा कि उसके पति ने अपने दोस्तों के सामने उसे डांस करने के लिए कहा, जब उसने मना किया तो उसके पति फैसल ने पिटाई की और उसके सिर के बाल मुंड दिए.

वीडियो पोस्ट कर आसमां ने दी जानकारी

इन सारी बातों की जानकारी 26 मार्च को आसमां ने एक वीडियो बनाकर सोशल साइट के जरिए दिया. सोशल मीडिया पर वीडियो पोस्ट करने के चंद मिनटों में यह वायरल हो गया. आसमां ने वीडियो में लोगों से मदद करने की गुज़ारिश की. वीडियो शेयर होने के बाद आसमां के सपोर्ट में कई लोग आ गए.

आसमां ने वीडियो में कहा- “मेरे पति ने नौकरों के सामने मेरे कपड़े उतार दिए. नौकरों ने मुझे पकड़े रखा और मेरे बाल काट कर उसे जला दिया. मेरे कपड़े खून से सन गए. मुझे एक पाइप से बांधा गया और एक पंखे से लटका दिया गया. उन्होंने मुझे नंगा लटका देने की धमकी दी.”

शिकायत के बाद भी पुलिस ने नहीं की कार्रवाई

आसमां ने कहा कि वो पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराने गईं लेकिन उन्हें लौटा दिया गया. हालांकि इस मामले में पुलिस ने अपने ऊपर लगे इस आरोप से इनकार कर दिया है. वीडियो उप गृहमंत्री शहरयार अफरीदी ने देखा तब उन्होंने पुलिस को शिकायत दर्ज करने का आदेश दिया.

शिकायत दर्ज होने के बाद पुलिस ने आसमां के पति मियां फैसल और नौकर राशिद अलि को कस्टडी में ले लिया है फैसल ने अपने ऊपर लगे आरोपों को बेबुनियाद बताया. उसने कहा कि आसमां ने ड्रग्स के नशे में खुद ही अपने बाल काटे हैं. उन्होंने बस उनके काम में मदद की थी.

एमनेस्टी इंटरनेशनल ने तस्वीर के साथ ट्वीट कर लिखा, “हम इस बात को लेकर खुश हैं कि आसमां अजीज पर अत्याचार करने वालों के खिलाफ कठोर और त्वरित कार्रवाई की गई लेकिन एक व्यवस्थित बदलाव की सख्त जरूरत है”

आतंक निरोधी कानून के तहत कार्यवाई की मांग

इधर मेडिकल रिपोर्ट में भी आसमां के चेहरे पर कई जख्म, सूजन, गाल पर खरोंच और चोट के निशान मिले हैं. आसमां के वकील ने सामान्य आपराधिक प्रक्रिया के बजाय आतंक निरोधी कानून के तहत कार्यवाई करने की मांग की है.

विज्ञापन

धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।