वरिष्ठ आईएएस अधिकारी एन.बैजेन्द्र कुमार हुए सेवानिवृत्त,मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ सहित भारत सरकार में अहम पदों पर किया काम

रायपुर- भारतीय प्रशासनिक सेवा के वरिष्ठ अधिकारी एन बैजेन्द्र कुमार आज अपने 35 वर्षों के दीर्घ प्रशासनिक जीवन की सफलता पूर्वक पारी पूरी कर जीवन की नई दिशा में चलने को तैयार हैं. राष्ट्रीय खनिज विकास निगम के मुखिया की महती जिम्मेदारी का सफल कार्यकाल छत्तीसगढ़ और पूरे देश के लिए उल्लेखनीय है.
मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में IAS के तौर पर कार्य करते हुए एन बैजेन्द्र कुमार ने हमेशा नए प्रतिमान स्थापित किये. केंद्र में विभिन्न विभागों में सेवा देते हुए अपनी पहचान बनाई. अटल बिहारी वाजपेयी जी के शासन काल में सुषमा स्वराज के साथ कार्य करते हुए एम्स के निदेशक,सूचना प्रसारण मंत्रालय में संयुक्त सचिव रहे.वहीं डॉ मनमोहन सिंह के शासन में अर्जुन सिंह के साथ मानव संसाधन मंत्रालय में उनके साथ रहे. योग्यता तो सभी की पसंद रहती है सो उन्हें डॉ रमन सिंह अपना सचिव बनाकर छत्तीसगढ़ ले आये. स्पष्टवादी होते हुए भी सत्ता प्रमुख के दस वर्षों तक वे प्रमुख अधिकारी रहे. सचिव,प्रमुख सचिव और अतिरिक्त मुख्य सचिव का निष्कलंक रूप से दायित्व निभाया.उनकी इस साफ छवि का मूल्यांकन केन्द्र की तीसरी आँख भी कर रही थी और केंद्र में सचिव संसूचित होते ही उन्हें नवरत्न कंपनी एनएमडीसी के सीएमडी की जिम्मेदारी दी गई जो उनके लिए भी बड़े गौरव और सम्मान का अवसर रहा.
लगभग तीन वर्षों तक इस कंपनी की सेवा पूरी करते हुए एन बैजेन्द्र कुुमार अपने प्रशासनिक जीवन यात्रा की आधिकारिक आखिरी पड़ाव में पहुँचे हैं. यह किसी भी व्यक्ति के लिए अत्यंत भावुक अवसर होगा जिसने किसी काम को संवेदनशीलता के साथ किया हो तो संवेदना का प्रस्फुटन अवसरों पर हो ही जाता है. एक भावनात्मक लगाव के बगैर किसी काम की सफलता संभव भी नहीं,,, ऐसा ही एक काम अपने जीवन में बैजेन्द्र कुमार ने नया रायपुर के संबंध में किया, उपाध्यक्ष और अध्यक्ष के तौर पर पूरे शिद्दत से जुड़े,आज शहर आकार ले चुका है,अब शहर के जीवंत होने की दिशा में काम जारी है.
एन बैजेन्द्र कुमार अपने हरफनमौला अंदाज़ के लिए अपने मित्रों, IAS बिरादरी और अपने अधीनस्थों के बीच जाने जाते हैं. IAS एसोसिएशन के अध्यक्ष के तौर सबके प्रिय बने रहे, युवा साथियों को गाइड करते हुए आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करना,,,,यही अंदाज़,,लोगों के स्नेह की पूंजी उन्हें आगे भी ऊर्जा देती रहेंगी.

Related Articles

Back to top button
Close
Close
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।