जीवन में अगर उत्पन्न हो रहा है आर्थिक कष्ट, तो करें गजेंद्र मोक्ष का पाठ और मंगल का व्रत, समस्याओं से मिलेगी मुक्ति …

रायपुर. अर्थस्य अर्थोलोके अर्थात् इस अर्थ युगीन दुनिया में कहीं ना कहीं धन की बड़ी महत्ता समझ में आती है. चाहें वें पारिवारिक रिश्तें हों या सामाजिक जिम्मेदारिया सबकुछ पैसों पर आश्रित होता है. आर्थिक पक्ष के कमजोर होने पर सभी आवष्यक कार्य में रूकावट आती हैं तो वहीं रिश्तें भी खराब होते ही हैं.

कुंडली में लग्नेश एवं सप्तमेष का 6, 8 या 12 भाव में हो तो आर्थिक कष्ट या धन संबंधित कमी से जीवन बाधित होता है. 6, 8 या 12 भाव के स्वामी होकर द्वितीय या एकादश भाव से संबंध स्थापित होने पर धन सुख में बाधा के कारण परिवार परेशान होता है. इसके अलावा लग्नेश या तृतीयेश का निर्बल होकर क्रूर स्थान या क्रूर ग्रहों के साथ होना भी जीवन में दुख तथा कष्ट का कारण बनता है. द्वितीय, पंचम, सप्तम, अष्टम या द्वादष भाव पर क्रूर ग्रह का होना भी जीवन में कष्ट का कारण घरेलू या आर्थिक कमी बनता है.

इसे भी पढ़ें – ट्रोल होने के बाद हसन अली ने पाकिस्तान की आवाम से मांगी माफी, कहा- अपनी अपेक्षाओं को मुझ पर से … 

यदि किसी के जीवन में आर्थिक कष्ट उत्पन्न हो रहा हो गजेंद्र मोक्ष का पाठ तथा मंगल का व्रत करना चाहिए. गजेंद्र मोक्ष को अपने आप में एक अद्भुत स्तुति कहा जाता है. इसके प्रयोग से किसी भी प्रकार के कष्टनिवारण में आशातीत सफलता प्राप्त होती है. कलयुग में गजेंद्र मोक्ष की स्तुति हर प्रकार के सुख सौभाग्य हेतु तथा हर प्रकार के समस्याओं से मुक्ति में पूरी तरह से सफल है. गजेंद्रमोक्ष के प्रयोग हेतु किसी शुभ मुहूर्त में स्वार्थ सिद्धि योग या अमृत सिद्धि योग में प्रातःकाल स्नान आदि से निवृत्त होकर विष्णुजी की प्रतिमा के समक्ष, उन या कुश के आसन पर पूर्व की ओर मुख कर बैठ जाए.

इसे भी पढ़ें – जल्द ही वेब सीरीज में नजर आएंगी एक्ट्रेस Sandeepa Dhar, इम्तियाज अली के साथ कर रहीं हैं काम, देखिए Photos … 

धूप-दीप आरती के उपरांत गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र-श्रीमद्भागवत का पाठ कर भगवान विष्णुजी की आरती कर हवन आदि करें, उसके उपरांत नित्य एक माला गजेंद्र मोक्ष का पाठ करने से जीवन में अर्थ, कर्ज के तनाव से मुक्ति प्राप्त की जा सकती है, जिससे जीवन सुचारू रूप से सुखपूर्वक बीतता है.

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!