मूसेवाला हत्याकांड : बंदूकों से काम नहीं चलता तो निशानेबाज हथगोले का करते इस्तेमाल, 6 हमलावरों में से 2 गुजरात के रहने वाले

पंजाब/दिल्ली। जाने-माने पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में एक चौंकाने वाला खुलासा करते हुए दिल्ली पुलिस ने सोमवार को कहा कि अगर बंदूकें काम नहीं करतीं, तो हमलावरों ने गायक को मारने के लिए हथगोले का इस्तेमाल किया होता. विशेष पुलिस आयुक्त (विशेष प्रकोष्ठ) एचएस धालीवाल ने मीडिया ब्रीफिंग में ये बात कही. स्पेशल सेल ने यह खुलासा दो मुख्य निशानेबाजों और उनके सहायक को गिरफ्तार करने के बाद किया, जो 29 मई को सिद्धू मूसेवाला के नाम से मशहूर पंजाबी गायक शुभदीप सिंह सिद्धू की हत्या में शामिल थे.

दो मुख्य शार्प शूटर्स और उसका सहयोगी गिरफ्तार

पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल दो मुख्य शूटर्स को गिरफ्तार कर लिया गया. हरियाणा के सोनीपत निवासी प्रियव्रत उर्फ फौजी (26) और कशिश उर्फ कुलदीप (24) को रविवार को गुजरात के कच्छ जिले से गिरफ्तार किया गया. सिद्धू मूसेवाला की 29 मई को पंजाब के मानसा जिले के जवाहरके गांव में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. उस वक्त वे अपनी बीमार मासी को देखने के लिए जा रहे थे. वे थार जीप में सवार थे, जो बुलेटप्रूफ नहीं थी, वहीं उनके साथ गनमैन भी नहीं थे. मूसेवाला पर 30 से ज्यादा राउंड फायरिंग की गई थी. वे महिंद्रा थार एसयूवी की ड्राइविंग सीट पर खून से लथपथ पाए गए, जबकि कार में सवार दो अन्य लोगों गुरविंदर सिंह और गुरप्रीत सिंह को भी गोली लगी.

शार्प शूटर्स प्रियवर्त फौजी, कशिश और सहयोगी केशव

मूसेवाला की हत्या में कुल 6 शार्प शूटर्स शामिल

मूसेवाला की हत्या के मामले में शार्प शूटर प्रियवर्त फौजी और कशिश को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया. यह दोनों अपने तीसरे साथी केशव के साथ गुजरात के मुंद्रा पोर्ट के नजदीक एक किराए के मकान में छिपे हुए थे. दिल्ली पुलिस ने यह भी खुलासा किया कि मूसेवाला की हत्या में कुल 6 शार्प शूटर्स शामिल थे, जो कोरोला और बोलेरो में सवार होकर आए थे.

ये भी पढ़ें: कनाडाई गायक ड्रेक ने रेडियो शो में दिवंगत सिंगर सिद्धू मूसेवाला के हिट गाने बजाकर दी उन्हें श्रद्धांजलि, 29 मई को गोली मारकर कर दी गई थी हत्या

भारी मात्रा में हथियार और गोला बारूद बरामद

इस बीच, मॉड्यूल प्रमुख प्रियव्रत के बताने पर पुलिस को हरियाणा के एक गांव में भारी मात्रा में हथियार और गोला बारूद छिपा हुआ मिला. विशेष पुलिस आयुक्त (विशेष प्रकोष्ठ) एचएस धालीवाल ने कहा कि हमने एक अंडर बैरल ग्रेनेड लॉन्चर के साथ 8 ग्रेनेड बरामद किए हैं. उच्च विस्फोटक ग्रेनेड लॉन्चर के साथ उपयोग के लिए डिजाइन किए गए हैं. ग्रेनेड लॉन्चर को एके-47 असॉल्ट राइफल्स पर लगाया जा सकता है. पुलिस को ग्रेनेड के अलावा 9 इलेक्ट्रिक डेटोनेटर, 20 राउंड के साथ एक असॉल्ट राइफल, 30 बोर की 3 अत्याधुनिक स्टार पिस्टल, 7.62 एमएम स्टार पिस्टल के 36 राउंड और एके सीरीज असॉल्ट राइफल के कुछ हिस्से भी मिले हैं.

मूसेवाला की हत्या करने वाले 6 हमलावरों में से 2 गुजरात से थे

दिल्ली पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ ने जानकारी दी कि पंजाबी गायक शुभदीप सिंह उर्फ सिद्धू मूसेवाला की निर्मम हत्या में शामिल 3 लोगों जिनमें दो मुख्य शार्प शूटर्स और उनके सहायक हैं, उन्हें गिरफ्तार किया गया है. दो आरोपी शूटरों की पहचान हरियाणा के सोनीपत निवासी प्रियव्रत उर्फ फौजी (26) और हरियाणा के झज्जर निवासी कशिश उर्फ कुलदीप (24) के रूप में हुई है. मीडिया को संबोधित करते हुए विशेष पुलिस आयुक्त (विशेष प्रकोष्ठ) एचएस धालीवाल ने कहा कि प्रियव्रत शूटरों की टीम का नेतृत्व करने वाले गैंगस्टरों के मॉड्यूल का मुखिया था. घटना के वक्त वह कनाडा के गैंगस्टार गोल्डी बराड़ के सीधे संपर्क में था.

ये भी पढ़ें: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने काबुल गुरुद्वारे पर हुए हमले की निंदा की, PM नरेंद्र मोदी से सिखों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का किया आग्रह

प्रियव्रत फौजी था मेन शूटर, गैंगस्टर गोल्डी बराड़ के था लगातार संपर्क में

धालीवाल ने कहा कि वह मुख्य शूटर था, जिसे घटना से ठीक पहले फतेहगढ़ में एक पेट्रोल पंप के सीसीटीवी फुटेज में देखा जा सकता है. प्रियव्रत पहले हत्या के दो मामलों में शामिल था और उसे 2015 में गिरफ्तार किया गया था. धालीवाल ने कहा कि दूसरा आरोपी शूटर कशिश उर्फ कुलदीप भी पेट्रोल पंप के सीसीटीवी फुटेज में देखा गया. गिरफ्तार किए गए तीसरे व्यक्ति की पहचान पंजाब के बठिंडा निवासी केशव कुमार (29) के रूप में हुई है.

केशव था शार्प शूटर्स का सहयोगी

केशव घटना के दिन रेकी के दौरान और पिछले प्रयासों के दौरान भी मानसा तक इन शार्प शूटर्स के साथ ही था. पुलिस ने दोनों आरोपी शूटरों को गिरफ्तार करने के अलावा भारी मात्रा में हथियार और विस्फोटक भी बरामद किया है. विशेष पुलिस आयुक्त (विशेष प्रकोष्ठ) एचएस धालीवाल ने कहा कि जिस बोलेरो कार में 4 हमलावर आए, उसे कशिश चला रहा था, जिसके साथ प्रियव्रत, अंकित सिरसा और दीपक मुंडी भी थे. दूसरी कार जगरूप रूपा चला रहा था और उसमें मनप्रीत मन्नू नाम का एक और हमलावर था. अधिकारी ने कहा कि संदीप केकड़ा नाम के एक व्यक्ति ने बिना सुरक्षा के मूसेवाला के मूवमेंट के बारे में प्रारंभिक सूचना दी, जिसके बाद हमलावरों को हत्या को अंजाम देने के लिए अंतिम रूप दिया गया. जिस कार में जगरूप रूपा और मनप्रीत मन्नू यात्रा कर रहे थे, उसने पहले मूसेवाला की कार को ओवरटेक किया और अचानक उसके सामने रुक गई.

ये भी पढ़ें: मूसेवाला हत्याकांड: सिंगर की रेकी करने वाले मोहना को अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग ने कराया था कांग्रेस में शामिल, पार्टी पर उठे सवाल

मूसेवाला पर की गई अंधाधुंध फायरिंग

धालीवाल ने कहा कि मनप्रीत मन्नू पहले कार से बाहर आया और अपनी एके-47 राइफल से अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी, जिससे मूसेवाला घायल हो गया, जो अपनी कार को आगे नहीं चला सका. उसी समय बोलेरो कार में सवार अन्य चार हमलावर प्रियव्रत, कशिश, अंकित सिरसा और दीपक मुंडी भी मौके पर पहुंच गए. अधिकारी ने कहा कि चारों हमलावरों ने कार से बाहर कदम रखा और मूसेवाला को कई बार गोली मारी. इस भीषण हत्या को अंजाम देने के बाद जगरूप रूपा और मनप्रीत मन्नू अपनी कोरोला कार में मौके से फरार हो गए, जबकि अन्य चार हमलावर अपनी बोलेरो कार में फरार हो गए.

Related Articles

Back to top button