वर्किंग कमेटी की बैठक में मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने रखा कृषि प्रस्ताव, बोले- किसानों की बढ़ती समृद्धि ही सरकार के विकास कार्यों का जीता-जागता दस्तावेज है…

रायपुर. छत्तीसगढ़ राज्य में कृषि के क्षेत्र में आए क्रांतिकारी बदलावों को किसानों के लिए कल्याणकारी बताते हुए इसे भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश कार्यसमिति ने केंद्र और राज्य सरकार की ऐतिहासिक उपलब्धि माना है। शुक्रवार को यहां एकात्म परिसर में हुई कार्यसमिति की बैठक में कृषि क्षेत्र में अर्जित उपलब्धियों, कार्यक्रमों व योजनाओं की विस्तार से चर्चा करते हुए प्रदेश के कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने प्रस्ताव रखा।

प्रस्ताव का समर्थन वरिष्ठ भाजपा किसान नेता संदीप शर्मा ने किया। किसानों के धान के समर्थन मूल्य में हुई 200 रूपए प्रति क्विंटल की वृद्धि और प्रदश सरकार द्वारा प्रति क्विंटल बोनस राशि बढ़ाकर 300 रुपए किये जाने का प्रदेश कार्यसमिति ने करतल ध्वनि से स्वागत किया। बाद में किसान नेता और भाजपा किसान मोर्चा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष श्री शर्मा ने इस क्षेत्र में हुई प्रगति व किसानों को मुहैया कराई गई सुविधाओं का आंकड़ेवार ब्योरा रखकर प्रस्ताव का समर्थन किया।

कृषि प्रस्ताव में कहा गया है कि…
भारतीय जनता पार्टी की यह प्रदेश कार्यसमिति छत्तीसगढ़ के किसान भाईयों के हित में लिए गये निर्णय पर प्रदेश शासन का अभिनंदन करती है। भाजपा शासन द्वारा विधानसभा का विशेष सत्र आहूत कर किसानों को उनकी उपज का मूल्य और बोनस एक साथ दीपावली से पहले उनके खाते में भेजने की कार्रवाई की जितनी प्रशंसा की जाए वह कम है। भाजपा शासन द्वारा धान खरीदी के लिए एक नवम्बर तिथि घोषित करना प्रशंसनीय है भाजपा सरकार द्वारा उठाए गये इस किसान कल्याणकारी कदम से पूरे राज्य के किसानों में हर्ष व्याप्त है।

अपने पूरे तीन कार्यकाल के दौरान सरकार ने केवल धान के बोनस के मद में 9 हजार करोड़ रुपये की राशि किसानों को दी है। धान की फसल का अधिकतम कीमत 2070 रुपया कर भाजपा अपनी घोषणाओं पर शतप्रतिशत खरी उतरी है। प्रदेश की यह कार्यसमिति इन उपलब्धियों के लिए अपनी सरकार के प्रति गर्व का अनुभव कर रही है। शासन ने किसानों को विभिन्न आपदा राहत के रूप में 1300 करोड़ एवं फसल बीमा की क्षतिपूर्ति के रूप में 2200 करोड़ उपलब्ध कराए हैं।

प्रदेश सरकार ने पिछले तीन कार्यकाल के दौरान किसानों के हित में इतनी सारी उपलब्धियां हासिल की है जिससे धान का यह कटोरा आज धन धान्य से संपन्न हुआ है। प्रदेश को चार बार कृषि कर्मण पुरस्कार समेत दर्जनों पुरस्कार मिलना यहां के किसानों के समृद्धि की राष्ट्रीय स्वीकृति है। शासन की विभिन्न प्रोत्साहन योजनाओं के कारण आज प्रदेश के किसान धान के अलावा अन्य नगदी फसलों की उत्पादन के लिए भी प्रेरित हुए हैं। आज प्रदेश में उद्यानिकी फसलों का रकबा सात गुना से ज्यादा बढ़ कर 7.25 लाख हेक्टेयर हो गया है। खाद-बीज की उपलब्धता, मुफ्त सिंचाई सुविधा, ड्रिप-स्प्रिन्क्लर आदि पर अनुदान, अन्य कृषि उपकरणों के लिए भी सहज ऋण उपलब्धता, न्यूनतम समर्थन मूल्य का अधिकतम भरोसा आदि ऐसे कदम हैं जिससे प्रदेश के किसान समृद्ध और खुशहाल हुए हैं।

प्रदेश की सरकार ने किसानों को अंतर्राष्ट्रीय पटल पर स्थापित किया है। आज प्रदेश के 5 जिले पूर्णतरू जैविक खेती कर रहे हैं। शेष 22 जिलों में भी जैविक खेती का यह प्रयोग जारी है। प्रदेश में सिंचाई का रकबा 22 प्रतिशत से बढ़कर 36 प्रतिशत हो गया है आज 3 हजार से अधिक लघु सिंचाई योजनाएं और भैसाझार, केलो, सुतियापाट और मोहड़ जैसे बड़ी योजनाओं पर ध्यान देकर यह उपलब्धियां हासिल हुई है। प्रदेश शासन की किसान कल्याणकारी नीतियों के कारण प्रदेश के किसानों की स्थिति सुधरी है। किसानों के जीवन स्तर में उल्लेखनीय बदलाव आया है। प्रदेश के लिए यह गर्व की बात है कि छत्तीसगढ़ का कोई भी किसान सामान्यतरू आज डिफाल्टर नहीं है। हमारे किसान बंधु आज कांग्रेस सरकार के उस युग से मुक्त हो गये हैं जब उनकी बहुमूल्य सम्पत्ति कौड़ी के मोल नीलाम कर दिए जाते थे। कांग्रेस की नीतियों के कारण जहां किसानों की दुर्दशा थी वहाँ आज कृषक बंधुओं का सुखी-समृद्ध होना वास्तव में अटल जी के सपनों का प्रदेश बन जाने की तरफ एक स्वर्णिम कदम के रूप में माना जा रहा है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विचारों के अनुरूप छत्तीसगढ़ किसानों की आय दुगुनी करने के अपने अभियान में तेजी से अग्रसर है। प्रदेश की यह कार्यसमिति प्रधानमंत्री मोदी एवं मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के प्रति आभार व्यक्त करती है कि सुखा आपदा के समय किसानों के साथ दृढ़ता से खड़े होकर उन्हें सहायता प्रदान की। यही कारण है कि 15 वर्ष में प्रदेश में धान का उत्पादन बढ़कर 1 करोड़ टन को पार कर गया है। शासन द्वारा धान के अतिरिक्त मक्का, अरहर, उड़द, मूंग, सोयाबिन, तिल, मुंगफली, ढेचा, सनई के प्रमाणित बीज भी किसानों को उपलब्ध कराये जा रहे हैं। प्रदेश में मछली उत्पादन में भी तीन गुना से ज्यादा वृद्धि हुई है। दुग्ध उत्पान में प्रदेश अव्वल साबित हो रहा है। प्रदेश आज प्रमुख सब्जी और फल का निर्यातक हो गया है। शासन द्वारा कृषि उपकरणों में 75 प्रतिशत तक अनुदान देकर लगातार किसानों को प्रोत्साहित कर रही है। प्रदेश के किसान बन्धु शासन से सहयोग पाकर नित नये नवाचार को अपना रहे हैं। प्रदेश में अनेक फसलों के दर्जनों नई किस्मों को विकसित किया जा रहा है।

पूर्व की यूपीए सरकार के किसान विरोधी नीतियों के कारण जहां खाद बीज के दाम लगातार बढ़ रहे थे। छत्तीसगढ़ में कांग्रेस शासन में जिस तरह किसानों के धान को पानी में भिगोया जाता था, उसे आज भी किसान बंधू भूले नहीं हैं। उस समय जहां खेती करना एक दुरूह कार्य था. किसानों का धान बिना बिके सड़ जाता था, किसान बंधु ऋण के भार से दबे अपनी संपत्ति को खोने की कगार तक पहुच जाते थे, वहीं प्रदेश में आज किसान होना सम्मान की बात है। भाजपा की यह प्रदेश कार्यसमिति इस बात के लिए गौरवान्वित है कि आज प्रदेश में खेती एक लाभकारी और सम्मानित उद्यम के रूप में परिणत हुआ है।

भाजपा सरकार ने किसानों को हर तरह की समस्याओं से निजात दिलाने में ऐतिहासिक भूमिका का निर्वहन किया है। अगर तमाम आंकड़ों की बात न भी करें तो प्रदेश के किसानों की बढ़ती समृद्धि ही प्रदेश शासन के कार्यों का जीता-जागता दस्तावेज है। समृद्धि प्रदेश की यह कार्यसमिति इन तमाम उपलब्धियों को लिए अपने किसान बन्धुओं को बधाई और प्रदेश की भाजपा सरकार के प्रति हार्दिक कृतज्ञता व्यक्त करती है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के किसान हितैषी नीति के कारण खाद, बीज, कीटनाशक के दाम स्थिर है बल्कि एमओपी एवं डीएपी खाद के दाम कम हुए हैं। कृषि दवाओं के दाम में भी 10 से 18 प्रतिशत तक गिरावट दर्ज की है। सरकार द्वारा स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश को लागू कर किसानों को लागत का डेढ़ गुना मूल्य देने से काफी लाभ हुआ है। दलहन के उत्पादन में बढ़ोतरी से बहुमूल्य विदेशी मुद्रा की बचत हो रही है। केन्द्र सरकार की किसान समर्थक नीतियों का परिणाम है कि पहली बार जीडीपी में कृषि की भागीदार बढ़कर 14 प्रतिशत से 19 प्रतिशत हो गयी है।

भारतीय जनता पार्टी की यह प्रदेश कार्यसमिति फिर से छत्तीसगढ़ की भाजपा सरकार और केन्द्र की नरेन्द्र मोदी जी की सरकार के प्रति हार्दिक कृतज्ञता व्यक्त करती है। प्रदेश भाजपा इस बात के प्रति और ज्यादा आश्वस्त है कि प्रदेश के किसान बंधु इस बार भी समूची दमदारी के साथ अपनी सरकार के पक्ष में खड़ा होकर चौथी बार भी भाजपा की सरकार बनाने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन करेगी।

विज्ञापन

धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।