Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

कर्ण मिश्रा, ग्वालियर। चंद मिनट में लोन देने का दावा करने वाले Instant Loan App (मोबाइल एप) से अगर आप कर्ज लेने के लिए सोच रहे हैं तो सावधान…. ये खबर आपके लिए ही हैं। एप से आपके खाते में रुपये तो चंद मिनिट में आ जाएंगे लेकिन इसकी वसूली आपको भारी पड़ सकती है। ताजा मामला ग्वालियर से सामने आया है। यहां की क महिला ने एक डिजिटल लोन एप कंपनी (digital loan app company) के माध्यम से लोन इतना महंगा पड़ गया कि उसने सपने में भी नहीं सोची थी।

बॉयफ्रेंड को लेकर बीच सड़क पर भिड़ी लड़कियांः बार में पहले शराब पी, फिर बाहर निकलकर एक दूसरे पर जमकर बरसाए लात-थप्पड़, VIDEO वायरल

महिला ने Instant Loan App से कर्ज तो सात दिन के लिए लिय़ा लेकिन कंपनी 6वें दिन ही 40 फीसदी ब्याज के साथ अपना रकम वापस मांगने लगी। महिला ने जब इसका विरोध किया तो उसकी सोशल आईडी हैक कर ली। इसके बाद उसके करीबियों को महिला से संबंधित गलत मैसेज कर दिए। जिसमें को चरित्रहिन बताया गया। महिला मानसिक रूप से इतनी प्रताड़ित हो गई की उसने खुद को एक कमरे में बंद कर लिया। परिजनों की समझाइश के बाद अब महिला ने स्वजनों के साथ एएसपी क्राइम से शिकायत की है। क्राइम ब्रांच इसकी जांच कर रही है।

राजधानी में Hypnotize करके महिला से ले उड़े सोने की चूड़ी और अंगूठी..CCTV फुटेज में कैद हुई घटना

एडिशनल एसपी क्राइम राजेश दंडोतिया ने कहा कि बाजारों में सस्ते लोन देने के नाम पर बड़ा फर्जीवाड़ा चल रहा है। ये लोग पहले ही ग्राहक से कमीशन ले लेते हैं। इसके बाद उसे गुमराह करते रहते हैं। कभी सिविल कम तो कभी बैंक की औपचारिकता के नाम पर गुमराह करते रहते हैं। इसी तरह एक फोन काल पर लोन और लोन एप के माध्यम से ठगी की जा रही है। इसलिए इनसे बचने पूरी सावधानी रखना चाहिए,फिलहाल पीड़िता की शिकायत पर आगे की जांच शुरू कर दी गई हैं।

मां के बर्थडे के दिन बोली शाम में सरप्राइज दूंगी आपको, थोड़ी देर बाद फांसी लगा ली 10वीं क्लास की छात्रा, सुसाइड नोट नहीं मिलने से आत्महत्या कारणों में उलझी पुलिस

इस तरह करते हैं ब्‍लैकमेल

साइबर ठग ऑनलाइन लोन लेने वाले के फोन में सबसे पहले ऐप डाउनलोड कराते हैं। जिसके माध्‍यम से वे लोन लेने वाले के मोबाइल में मौजूद पूरे डाटा को हैक कर लेते हैं। इसके बाद वे पीड़ित के फोन बुक से नंबर व गैलरी से फोटो चोरी कर उन्हें एडिट कर अतिरिक्‍त पैसे देने के लिए दबाव डालते हैं। अगर कोई पैसे देने से इंकार कर देता है, तो उसके फोन में सेव नंबरों एडिट फोटो व अश्लील सामग्री भेजकर ब्‍लैकमेल करते हैं। हाल फिलहाल में ऐसे करीब दर्जन भर मामले सामने आए हैं।

BIG BREAKING: नगर परिषद के अध्यक्ष और सीएमओ को 7-7 साल कैद की सजा, कोर्ट ने 2-2 लाख अर्थदंड भी लगाया, कंटेनर और जनरेटर की खरीदी में 13 लाख भ्रष्टाचार का मामला

ऐसे करें अपना बचाव

सबसे पहले यह जान लें कि कोई भी लोन ऐप आरबीआई के अंतर्गत नहीं आती है। ऐसे में लोन से संबंधित किसी भी तरह का ऐप डाउनलोड न करें। यदि डाउनलोड करना भी है, तो मोबाइल में एंटी वायरस साफ्टवेयर डाउनलोड करें। ऐप में से कांटेक्ट, गैलरी, कैमरा समेत अन्य जरुरी एक्सेस डिसेबल कर दें। अगर बहुत ज्‍यादा जरूरी न हो तो ऑनलाइन लोन ले ही नहीं। क्‍योंकि यह फायदा से ज्‍यादा मुसीबत देगा।

ओरल सेक्स और अप्राकृतिक सेक्स से परेशान पत्नी पहुंची थानेः बोली- पॉर्न मूवी देखकर पति हर दिन करता है अननेचुरल सेक्स, दहेज के लिए भी कर रहा प्रताड़ित, FIR दर्ज

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus