दिल्ली में प्रदूषण को देखते हुए अगले आदेश तक निर्माण कार्यों पर रोक, मालवाहक ट्रकों का प्रवेश 7 दिसंबर तक बंद

नई दिल्ली। केजरीवाल सरकार ने प्रदूषण को देखते हुए निर्माण कार्यों पर आगामी आदेश तक रोक लगा दी है. दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि दिल्ली में मालवाहक ट्रकों का प्रवेश 7 दिसंबर तक बंद रहेगा. आवश्यक वस्तु वाले एवं सीएनजी-इलेक्ट्रिक ट्रक दिल्ली आ सकते हैं. रेड लाइट ऑन गाड़ी ऑफ अभियान का तीसरा चरण 18 दिसंबर तक चलेगा. सरकारी कर्मचारियों ‌के वर्क फ्रॉम होम को खत्म कर दफ्तरों को खोल दिया गया है. कर्मचारी निजी वाहनों ‌से‌ ऑफिस‌ ना आएं, इसके लिए 14 कॉलोनियों से विशेष बस शुरू की गई है. प्रदूषण पैदा करने वाली गाड़ियों की जांच का अभियान जारी रहेगा. दो महीने में 14 हजार वाहन चालकों पर 10-10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया है.

अगर राज्य प्रदूषण पर दिशा-निर्देश नहीं मानेंगे, तो हम टास्क फोर्स का गठन करेंगे : सुप्रीम कोर्ट

 

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने सिविल लाइन में प्रेसवार्ता को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि दिल्ली के अंदर प्रदूषण के हालात को लेकर सभी संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की गई है. इसमें विशेषज्ञों ने सुझाव दिया कि दिल्ली के अंदर प्रदूषण के स्तर के आगे भी बहुत खराब श्रेणी में बने रहने की संभावना है. मौसम विभाग ने पूर्वानुमान जताया है कि बारिश हो सकती है, ऐसे में प्रदूषण में तब्दीली हो सकती है. इन परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए आज निर्णय लिया गया है कि दिल्ली के अंदर निर्माण और डिमोलिशन के कार्य आगामी आदेश तक बंद रहेंगे. इसके अंदर इलेक्ट्रिक वर्क, इंटीरियर डेकोरेशन, प्लंबरिंग, कारपेंटर का काम जारी रहेगा. इसके अलावा निर्माण श्रमिकों को सरकार की तरफ से 5 हजार रुपए देने का काम शुरू किया गया है.

‘SEX’ वाली स्कूटी बनी छात्रा के लिए मुसीबत, घर से बाहर निकलना हुआ मुश्किल

 

उन्होंने कहा कि दिल्ली के अंदर सभी गाड़ियों का प्रवेश बंद नहीं है. मालवाहक ट्रकों का प्रवेश 7 दिसंबर तक बंद रहेगा. सीएनजी-इलेक्ट्रिक ट्रक दिल्ली आ सकते हैं. करीब एक हजार इलेक्ट्रिक वाहनों का रजिस्ट्रेशन है. इलेक्ट्रिक और सीएनजी ट्रकों को प्रवेश मिलेगा. इसके अलावा रेड लाइट ऑन गाड़ी ऑफ अभियान का दूसरा चरण 3 दिसंबर को पूरा हो रहा है. इसका तीसरा चरण 15 दिन के लिए बढ़ाया जा रहा है. ऐसे में 18 दिसंबर तक रेड लाइट ऑन गाड़ी ऑफ अभियान का तीसरा चरण चलेगा. दिल्ली के अंदर 29 नवंबर से स्कूल-कॉलेज खुल गए हैं.

दिल्ली की सड़क पर अफगानिस्तान का नागरिक मिला मृत, गोली मारकर हत्या की आशंका

 

इसके साथ ही सरकारी कर्मचारियों ‌के वर्क फ्रॉम होम को खत्म कर दफ्तरों को खोल दिया गया है. ऐसे में कर्मचारी आज से दफ्तर आ रहे हैं. प्रमुख कॉलोनियों में जहां पर कर्मचारी ज्यादा संख्या में रहते हैं, वहां से विशेष बस सुविधा शुरू की गई है. दिल्ली के अंदर सोमवार से 14 मुख्य कॉलोनियों गुलाबी बाग, मयूर विहार फेस टू, मोतिया खान, शालीमार बाग ब्लॉक ए, तिमारपुर, हरी नगर, सेक्टर 3 द्वारका, निमडी कॉलोनी, अशोक विहार,‌ सेक्टर 11 रोहिणी, कड़कड़डूमा, मॉडल टाउन फेस वन, विकास पुरी, पश्चिम विहार और वसंत कुंज की 14 कॉलोनियों से बस की सुविधा शुरू की गई है, ताकि वह दफ्तर में आकर काम कर सकें और वाहन प्रदूषण को भी इसी तरह से कम कर सकें. इन कॉलोनियों से बस सुबह 8 बजे चलेगी, जो कि सचिवालय आएगी और शाम को 5 बजे से उनके घर छोड़ेगी.

CM चन्नी का अनोखा अंदाज, अपने ‘उड़नखटोले’ पर बिठाकर बच्चों को कराई आसमान की सैर, कहा- ‘इन्हें देख बचपन की ख्वाहिश याद आ गई’

 

गोपाल राय ने कहा कि एंटी ओपन बर्निंग अभियान दिल्ली के अंदर जारी रहेगा. अभी तक एंटी ओपन बर्निंग अभियान के तहत 8,480 साइट का टीमों ने निरीक्षण किया है. जिसमें लगभग 1 हजार जगहों पर नियमों का उल्लंघन पाया गया था. नियम उल्लंघन करने वाली एजेंसी, संस्थाओं और लोगों पर 28.76 लाख का जुर्माना लगाया गया है. इसके अलावा पीडब्ल्यूडी, एमसीडी, फायर बिग्रेड के जरिए पानी के छिड़काव का अभियान जारी रहेगा. सभी विभागों को निर्देश दिए गए कि आगामी आदेश तक अभियान को जारी रखें.

श्री करतारपुर साहिब में बिना सिर ढंके मॉडल ने कराया फोटोशूट, सिख संगठन ने पाकिस्तान सरकार से की मांग- ‘तीर्थ को पिकनिक स्पॉट न बनने दें’

 

उन्होंने कहा कि दिल्ली में प्रदूषण पैदा करने वाली गाड़ियों के पीयूसी सर्टिफिकेट की जांच का अभियान भी यातायात विभाग और पुलिस मिलकर जारी रखेगी. अभी तक अक्टूबर और नवंबर में 18 लाख पीयूसी सर्टिफिकेट जारी किए गए हैं. इन दो माह में 14 हजार वाहन चालकों को बिना पीयूसी सर्टिफिकेट के नियम उल्लंघन करते पकड़ा गया, जिनके ऊपर 10-10 हजार रुपए का चालान किया गया है. इसके साथ ही यातायात विभाग को जागरूकता अभियान के लिए भी निर्देश दिया गया था. अभी तक अभियान के जरिए 30 लाख लोगों को एसएमएस भेजा गया है कि वाहन का पीयूसी बनवा लें, नहीं तो 10 हजार का जुर्माना लगाया जाएगा. प्रदूषण को देखते हुए यह सभी अभियान जारी रहेंगे.

डूटा चुनाव: सभी ‘AAP’ प्रत्याशियों की हार, 12 कॉलेजों की सैलरी में देरी बना मुद्दा

 

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने दिल्ली के लोगों से अपील की है कि अभी प्रदूषण को लेकर किसी भी तरह की ढिलाई बरतने की जरूरत नहीं है. अगर आपको पता लगता है कि कहीं चोरी-छिपे नियम उल्लंघन कर निर्माण कार्य चल रहा है, ट्रकों की एंट्री हो रही है, कोई आग जला रहा है, तो इसकी सूचना ग्रीन दिल्ली APP के माध्यम से दे सकते हैं, जिसके आधार पर हम कार्रवाई करेंगे.

 

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!