केजरीवाल सरकार दिल्ली में बना रही देश का सबसे बड़ा सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट

इस प्लांट की रोजाना 564 लाख लीटर सीवेज ट्रीट करने की होगी क्षमता

नई दिल्ली। केजरीवाल सरकार दिल्ली में देश का सबसे बड़ा सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट बना रही है. यह एसटीपी 110 एकड़ क्षेत्रफल में फैला होगा और रोजाना 564 मिलियन लीटर (एमएलडी) की क्षमता से सीवेज को साफ करेगा. यह एसटीपी 2022 के अंत तक पूरा कर दिया जाएगा. सरकार इस परियोजना को समय से पहले पूरा करने के लिए अत्याधुनिक तकनीक का उपयोग कर रही है. इस एसटीपी के पूरा होने के बाद यमुना में बहने वाले सीवेज का एक बड़ा हिस्सा साफ हो जाएगा. इस ट्रीटेड पानी का उपयोग भू-जल को फिर से जीवंत करने के लिए किया जाएगा, जबकि बाकी पानी को यमुना में छोड़ा जाएगा.
मंत्री सत्येंद्र जैन ने किया निरीक्षण
दिल्ली के जल मंत्री एवं दिल्ली जल बोर्ड (डीजेबी) के अध्यक्ष सत्येंद्र जैन ने ओखला में बन रहे भारत के सबसे बड़े सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) के निर्माण स्थल का दौरा करने के दौरान यह जानकारी दी.

गरियाबंद के ग्रामीणों में दहशत… देखिए Video रात में कैसे गांव के भ्रमण पर निकले ‘गजराज’

दिल्ली के जल मंत्री सत्येंद्र जैन ने ओखला में बन रहे भारत के सबसे बड़े एसटीपी के निर्माण स्थल का दौरा किया. इस दौरान उन्होंने कहा कि केजरीवाल सरकार भारत में सबसे बड़ा सिंगल एसटीपी का निर्माण कर रही है. इस एसटीपी की क्षमता 564 एमएलडी है. इसका मतलब है ये कि निर्माण के बाद यह एसटीपी 564 एमएलडी सीवेज को यमुना में बहने से रोकेगा.

Kejriwal Government building Indias largest Sewage Treatment Plant
दिल्ली में बन रहा देश का सबसे बड़ा सीवेज प्लांट

दिसंबर 2022 तक काम पूरा होने की उम्मीद

 

साथ ही ये एसटीपी बायो केमिकल ऑक्सीजन डिमांड (बीओडी) और टोटल सस्पेंडेड सॉलिड (टीएसएस) को 10 मिलीग्राम प्रति लीटर करेगा, जो कि ट्रीट किए गए पानी का मानदंड हैं. ट्रीट किए गए दूषित पानी का इस्तेमाल विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जाएगा. जैसे- बागवानी, झीलों का कायाकल्प, धुलाई, फ्लशिंग. दिल्ली सरकार अतिरिक्त संसाधनों का उपयोग करके कोविड-19 के कारण हुई देरी की भरपाई के लिए अपने पूर्ण समर्पण के साथ काम कर रही है. इस एसटीपी का काम दिसंबर 2022 तक पूरा होने की उम्मीद है.

BREAKING: ब्रिटेन की रेड लिस्ट से हटा भारत, वैक्सीन की दोनों डोज वालों के लिए उड़ान प्रतिबंधों में ढील

 

इस एसटीपी में दक्षिण और मध्य दिल्ली के विभिन्न नालों और सीवरेज नेटवर्क से सीवेज मिलेगा. अत्याधुनिक तकनीकों का उपयोग करते हुए उन्नत प्रणालियों को इस एसटीपी के साथ एकीकृत किया जा रहा है. इस एसटीपी में 12 एकड़ में फैले लगभग 150 टन कीचड़ को सुखाने के लिए सोलर-ड्राइंग की व्यवस्था भी होगी. दूषित पानी से ठोस कणों को हटाने के लिए उन्नत सक्शन प्रणाली का उपयोग किया जा रहा है. इस एसटीपी के पूरा होने के बाद यमुना में बहने वाले दूषित पानी को रोका जा सकेगा.

Country largest sewage plant being built in Delhi
दिल्ली में बन रहा देश का सबसे बड़ा सीवेज प्लांट

इस एसटीपी से साफ हुए दूषित पानी का उपयोग विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जाएगा. जैसे कि असोला भट्टी की खदानों और उसके आसपास के क्षेत्रों में भूजल पुनर्भरण के लिए, झीलों और जल निकायों के कायाकल्प के लिए आदि. साथ ही अतिरिक्त पानी को यमुना में छोड़ा जाएगा.

Raghav Chadha Calls Navjot Singh “Rakhi Sawant Of Politics”

इसके अलावा मौजूदा समय में ओखला एसटीपी परिसर में 72 एमएलडी और 136 एमएलडी के दो एसटीपी काम कर रहे हैं. इसके बाद ओखला एसटीपी कॉम्प्लेक्स की कुल क्षमता 771 एमएलडी हो जाएगी. इनमें से 136 एमएलडी पानी बायो केमिकल ऑक्सीजन डिमांड (बीओडी) और टोटल सस्पेंडेड सॉलिड (टीएसएस) 10 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम पहले ही किया जा चुका है.

NGT के तय किए गए मानकों के अनुसार होगा सुधार

 

72 एमएलडी दूषित पानी को जल मंत्री सत्येंद्र जैन के निर्देश पर दिल्ली जल बोर्ड द्वारा कुशलता से शोधित किया गया है. यह 72 एमएलडी पानी डोजिंग के बाद 10-12 मिलीग्राम प्रति लीटर की बायो केमिकल ऑक्सीजन डिमांड और 16-18 मिलीग्राम प्रति लीटर की टोटल सस्पेंडेड सॉलिड प्राप्त कर रहा है. इस परियोजना के पूरा होने के बाद पुराने एसटीपी से आने वाले दूषित पानी की गुणवत्ता में राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT- national green tribunal) के तय किए गए मानकों के अनुसार सुधार होगा.

India Administered 2 Crore Vaccines; Smashed Cumulative Records

 

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।