Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

नई दिल्ली। केजरीवाल सरकार दिल्ली के बाजारों को ग्लोबल प्लेटफॉर्म देने जा रही है. इसके मद्देनजर केजरीवाल सरकार 10 हजार विक्रेताओं के साथ दिसंबर से ‘‘दिल्ली बाजार’’ ई-पोर्टल की शुरुआत करेगी और उसके अगले 6 महीने में एक लाख से अधिक विक्रेताओं को जोड़ने का लक्ष्य रखा है. इस संबंध में DDC के उपाध्यक्ष जस्मिन शाह ने सीएम अरविंद केजरीवाल के समक्ष एक प्रेजेंटेशन दिया. प्रेजेंटेशन की सराहना करते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि यह देश का पहला ऐसा पोर्टल होगा, जहां दिल्ली के सभी बाजार एक पोर्टल पर होंगे. दिल्ली का हर व्यापारी और दुकानदार पोर्टल पर अपना प्रोडक्ट प्रदर्शित कर सकेगा, जिसे दुनिया देख सकेगी और उनका सामान पूरी दुनिया में बिक सकेगा. दिल्ली सरकार पहले एक लाख विक्रेताओं को पोर्टल से जोड़ने में मदद करेगी और मार्केट एसोसिएशन इनका सत्यापन करेंगी.

सीएम केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार की तरफ से एक एजेंसी नियुक्त की जाएगी, जो दिल्ली बाजार पोर्टल का सारा काम देखेगी. वहीं, दिल्ली सरकार ई-कॉमर्स कंपनियों से भी बात कर रही है, जिससे कि वहां भी दिल्ली बाजार पोर्टल के प्रोडक्ट प्रदर्शित हो सके और उसकी खरीदारी की जा सके. जीरो खर्च होने के कारण दिल्ली बाजार पोर्टल पर उपलब्ध प्रोडक्ट ई-कॉमर्स कंपनियों की तुलना में सस्ते मिलेंगे.

ये भी पढ़ें: कांग्रेस के विरोध-प्रदर्शन के दौरान 197 में से 18 सांसद हिरासत में, पुलिस पर थूकने वाली कांग्रेस नेता पर दर्ज होगा मुकदमा : दिल्ली पुलिस

दिल्ली बाजार पोर्टल की टीम बाजारों में जाएगी और ब्रांडिंग करेगी

दिल्ली बाजार पोर्टल पर दिल्ली के सभी बाजार और सभी दुकानें उपलब्ध होंगी. दिल्ली बाजार पोर्टल इन बाजारों का प्रमोशन भी करेगा. मसलन, चांदनी चौक को अगर किसी को देखना है और वो किसी दूसरे शहर में बैठा है, तो वो ऑनलाइन दिल्ली बाजार पोर्टल की वेबसाइट पर जाएगा और चांदनी चौक बाजार में अपने पसंद के सामान के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकेगा, साथ ही वर्चुअल नेविगेशन के जरिए बाजार की विस्तृत जानकारी ली जा सकती है. ई-पेमेंट के जरिए भुगतान कर सामान खरीदा जा सकता है. दिल्ली बाजार पोर्टल की एक टीम होगी, जो बाजारों में जाएगी और उसकी पूरी ब्रांडिंग करेगी.

प्रेजेंटेशन में बताया गया कि दिल्ली देश की पहली राज्य सरकार है, जो ओपन नेटवर्क फॉर कॉमर्स (ओएनडीसी) को इनेबल करने जा रही है. दिल्ली सरकार चाहती है कि दिल्ली के बाजार यूनिक हों और बाजार का प्लेटफॉर्म ग्लोबल हो, जहां पर खरीददार अलग हों और विक्रेता अलग हों. किसी भी प्रोडक्ट को दिल्ली बाजार की वेबसाइट पर जाकर खोजा जा सकता है. दिल्ली सरकार की ई-पेमेंट प्लेटफॉर्म से भी बातचीत चल रही है, ताकि इस पर जाकर भी कोई दिल्ली बाजार पोर्टल से सामान खरीद सके और ऑनलाइन भुगतान कर सके. सरकार की योजना है कि जितने भी ई-पेमेंट प्लेटफार्म उलब्ध हैं, वहां पर भी दिल्ली बाजार पोर्टल के प्रोडक्ट को प्रदर्शित किया जाए.

ये भी पढ़ें: ऑटो पंजीकरण और ट्रासंफर प्रक्रिया में बदलाव, लोन डिफॉल्टर होने पर फाइनेंसरों के कब्जे में लिया गया ऑटो एक से दूसरे व्यक्ति को अब नहीं होगा सीधा ट्रांसफर

पहले 5 मार्केट में मुहैया कराई जाएगी वर्चुअल नेविगेशन की सुविधा

प्रजेंटेशन में बताया गया कि कोई व्यक्ति अगर वर्चुअल नेविगेशन की मदद से किसी मार्केट खोलता है, तो वो अपने कम्प्यूटर के जरिए ऑनलाइन पूरी मार्केट में घूम सकता है. मसलन, अगर हम चाहें तो अपने घर के कम्प्यूटर से चांदनी चौक की गलियों में घूम सकते हैं. वर्चुअल नेविगेशन के जरिए हम पूरी मार्केट का अनुभव ले सकते हैं. दिल्ली बाजार पोर्टल को जब आप खोलेंगे, तो वहां पर वर्चुअल नेविगेशन का विकल्प होगा. अगर आपको चांदनी चौक घूमना है, तो आपको नेविगेशन विकल्प पर क्लिक करने पर चांदनी चौक की पूरी गलियों का दृश्य दिख जाएगा कि कहां पर क्या-क्या दुकानें हैं.

दिल्ली बाजार का ई-पोर्टल इस तरह काम करेगा

दिल्ली बाजार एक डिस्कवरी प्लेटफॉर्म होगा. इसका उद्देश्य यह है कि दिल्ली के सभी छोटे-बड़े दुकानदारों को ऑनलाइन जीरो सेटअप पर लाया जाएगा. चाहें उनका जीएसटी में पंजीकरण हुआ हो या नहीं हुआ हो, सभी को दिल्ली बाजार पोर्टल पर अनुमति दी जाएगी. दिल्ली बाजार पर दुकानदार अपनी एक माइक्रो साइट बना सकते हैं. जिसके बाद उनकी दुकान में जितने भी प्रोडक्ट हैं, वो सारे प्रोडक्ट दिल्ली बाजार ई-पोर्टल पर सूचीबद्ध हो जाएंगे. जब कोई ग्राहक दिल्ली बाजार पोर्टल पर जाएगा, तो वो दुकानदार के नाम, बाजार के नाम और प्रोडक्ट के नाम से सर्च कर सकता है.

ये भी पढ़ें: भ्रष्टाचार के आरोप में सीनियर IAS अफसर गिरफ्तार, सीवरेज बोर्ड में रहते हुए 7 करोड़ के प्रोजेक्ट में 1 फीसदी कमीशन की मांग की थी, ले चुके थे पहली किश्त

दिल्ली बाजार पोर्टल एक अत्याधुनिक ई-मार्केट प्लेस होगा

उल्लेखनीय है कि दिल्ली बाजार पोर्टल दिल्ली में स्थित व्यवसायों को बढ़ाने और विविधता लाने में मदद करने के लिए केजरीवाल सरकार द्वारा बनाया जा रहा एक अत्याधुनिक ई-मार्केट प्लेस होगा. दिल्ली बाजार पोर्टल को व्यापारियों, विक्रेताओं, थोक विक्रेताओं, सेवा प्रदाताओं आदि सहित दिल्ली के व्यवसायों की डिजिटल उपस्थिति को बढ़ाने के लिए सर्वश्रेष्ठ तकनीक से डिजाइन किया जाएगा.

दिल्ली बाजार पोर्टल पर दिल्ली के सभी विक्रेता का अपना स्टोर होगा

केजरीवाल सरकार द्वारा विकसित किए जा रहे दिल्ली बाजार पोर्टल पर दिल्ली के प्रत्येक विक्रेता का अपना स्टोर होगा, जहां वे विस्तृत उत्पाद कैटलॉग के माध्यम से अपनी दुकानों और उत्पादों को प्रदर्शित कर सकेंगे. यह जीरो खर्च पर 24 घंटे चलने वाला एक अतिरिक्त वर्चुअल स्टोर होगा, जो बड़े बाजारों में विक्रेताओं की पहुंच का विस्तार करेगा. जिससे विक्रेताओं को घरेलू और अंतरराष्ट्रीय ग्राहकों तक पहुंचने में मदद मिलेगी. यह पोर्टल के भारत सरकार के डिजिटल कॉमर्स ओपन नेटवर्क (ओएनडीसी) पहल के तहत पहला और सबसे बड़ा ई-कॉमर्स मार्केट प्लेस बनाने की कल्पना की गई है, जिससे विक्रेता को आसानी से खोजा जा सके और उन्हें कई खरीदार प्लेटफॉर्म पर अपने कारोबार का संचालन करने की अनुमति मिल सके.

स्टार्टअप के लिए भी फायदेमंद साबित होगा दिल्ली बाजार पोर्टल

दिल्ली बाजार पोर्टल स्टार्टअप के लिए भी काफी फायदेमंद साबित होने वाला है. स्टार्टअप अगर अपना कोई नया काम शुरू कर रहा है, तो वो भी अपने सामान को इस पोर्टल पर जाकर बेच सकता है. दुनिया में पहली बार इस तरह का पोर्टल बनाया जा रहा है कि दिल्ली की जितनी भी आर्थिक गतिविधियां हैं, दिल्ली की जितनी भी सेवाएं हैं, वो सब एक पोर्टल पर होंगी और वह पूरी दुनिया के सामने होंगे. उसे दिल्ली वाले भी खरीद सकते हैं, मोहल्ले वाले भी खरीद सकते हैं, देश के लोग भी खरीद सकते हैं और दुनिया के लोग भी खरीद सकते हैं. इससे दिल्ली की जीडीपी बहुत तेजी से बढ़ेगी.

दिल्ली बाजार पोर्टल का विजन

– वर्चुअल प्लेटफॉर्म पर दिल्ली के बाजारों का प्रदर्शन करना

– दिल्ली के बाजार को खरीदारों के सामने पेश करना और वैश्विक स्तर पर पहचान दिलाना

– व्यवसायों को स्थापित करने, विकसित करने और विविधता लाने के लिए सुविधा प्रदान करना

– दिल्ली के व्यापार के साथ-साथ खुदरा उपभोक्ताओं के लिए स्थानीय स्तर पर खरीदारी के लिए पारिस्थितिकी तंत्र बनाना

– व्यवसायों को विश्वसनीय और किफायती ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म प्रदान करना