राष्ट्रीय विज्ञान प्रदर्शनी में व्याख्यान, वे दिन दूर नहीं जब आइडिया और प्रोडक्ट दोनों होंगे हमारे

रायपुर। राजधानी रायपुर के शंकर नगर स्थित बी.टी.आई. मैदान में बच्चों के लिए 46वीं जवाहर लाल नेहरू राष्ट्रीय विज्ञान, गणित एवं पर्यावरण प्रदर्शनी के तृतीय दिवस आज वैज्ञानिक व्याख्यान में अतिथि डॉ. अरिन्दम बोस, एसोसिएट प्राध्यापक, सी.ई.आई.ए.आर. टाटा, इंस्ट्रीटयूट ऑफ सोशल साइंस मुबंई द्वारा गणित विषय पर व्याख्यान दिया गया. उनका व्याख्यान नृवंश-गणित सामाजिक संस्कृति प्राथाओं पर गणित अधिगम पर अधिक्तर व्याख्यान दिए जिसमें हमारी पुराने पारंपरिक प्राथाओं सांस्कृतिक भूमिका विचार धाराओं प्राक्रियाओं व्यवहारों में गणित कि क्रियाओं के सम्मिलित होने की जानकारी दी। यह सभी गणित कि प्रक्रियाओं को समझने का एक व्यापक दृष्टिकोण प्रदान करता है। नृवंश-गणित के फलस्वरूप संज्ञानात्मक प्रक्रिया और अधिगम क्षमता पर बहुत सारे प्रामाणित सबूत मिलते है.

यह सभी कक्षाओं में होने वाले गणित शिक्षण को प्रभावित करते है. हमारे देश में गणितीय पहेलिया हमारे लोक संस्कृति का एक अहम हिस्सा है. अपने व्याख्यान में उन्होंने बिहार राज्य के मुसहर समुदाय के द्वारा उपयोग की जाने वाली प्राचीन पांरपरा एवं पहेलियों का भी उदाहरण दिया. गिनने की पुरानी पांरपरा जैसे कि रस्सी में गाठों के माध्यम से गिनती, शरीर के अंगों से गिनती का भी उल्लेख किया. उन्होंने बच्चों से आग्रह किया कि अपने घर के बड़े बुर्जुगों से चर्चा कर उनके समय में गणित की अपनाए जा रहे विभिन्न तरीकों की जानकारी प्राप्त करें जो कि कॉफी रोचक होगा.

व्याख्यान के दूसरे वक्ता अतिथि डॉ. संजय तिवारी, विभागाध्यक्ष, इलेक्ट्रानिक एंव फोटोनिक्स विभाग, पं. रविशंकर विश्वविद्यालय, रायपुर ने अपना व्याख्यान ’’वह दिन दूर नहीं जब आइडिया और प्रोडक्ट दोनों हमारें होंगे’’ के उद्बोधन वाक्य से प्रारंभ किया। उन्होंने वैज्ञानिक नवाचार भारत के संदर्भ में प्रस्तुत करने पर जोर दिया अपने व्याख्यान में डॉ. तिवारी ने उम्मीद जताई की राष्ट्रीय बाल विज्ञान मेले में प्रतिभागी अपने मौलिक विचारों के साथ प्रादर्श लेकर उपस्थित हुए है इनसे देश को काफी उम्मीदे है आमतौर पर हमारे विचार से ही अन्य देश प्रोडक्ट बनाकर विश्व में व्यवसाय कर रहे है।

हमारा भारत ग्लोबल इनोवेश इंडेक्स 2019 के सर्वे में 52 वे नबंर पर है जिसे हमे 10 नबंर पर लाना है ऐसी प्रेरणा दी इसके साथ ही उन्होंने बताया कि प्राचीन काल से ही हमारा भारत वैज्ञानिक क्षेत्र में पूरे विश्व में आगे है फिर भी आविष्कार के क्षेत्र में कमी कहॉ से आई इसका कारण बताया कि हमारा देश आइडिया देता है पर उसका उपयोग पूरा विश्व करके धन अर्जित करता है। जैसे कि रमन प्रभाव जो हमारे देश की देन है जबकि उससे संबंधित प्रोडक्ट बनाकर विदेश धन अर्जित कर रहा है और वही प्रोडक्ट हमारा देश भी खरीदता है उन्होंने कहॉ कि वह समय कब आएगा जब हमारा देश निर्यात न कर आयात करेंगा। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि हमारा देश कम कीमत पर महत्वपूर्ण आविष्कार करने में पूरे विश्व में प्रथम स्थान पर है हमारे देश में ऐसा वैज्ञानिक चमत्कार होता है जो अविश्वसनीय है। साथ ही उन्होंने बच्चों को विभिन्न प्रकार के कम कीमत पर एवं कबाड़ से नए आविष्कार करने के सुझाव दिए। और कुछ महत्वपूर्ण क्षेत्र बताए जहॉ पर वैज्ञानिक समाधान की आवश्यकता है साथ ही उन्होंने कहॉ कि हमे समावेशी विकास करने की आवश्यकता है जिसमे पर्यावरण को बिना नुकसान पहुचाएं ऐसे आविष्कार करने है जिसका लाभ सबको मिल सके। उन्होंने कहॉ कि पूरे विश्व में हमारे देश की चर्चा है कि भारत वह करता है जो कोई नहीं करता.

इसके साथ ही उन्होंने कम कीमत पर बने मॉडल जैसे फोल्ड स्कोप, मिट्टी कुल, फ्रिज, बॉस से बने पवन चक्की, सोलन पैनल, अगरबत्ती मशीन, डस्टबीन को झूले के रूप में, मोटर सायकल से टैªक्टर का काम आदि का मॉडल दिखाकर इस प्रकार के उपयोगी मॉडल बनाने का काम किया गया है.

Related Articles

Back to top button
survey lalluram
Close
Close
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।