सब्जी-भाजी की खेती से परिवार हुआ खुशहाल, हर माह 14 हजार कमा रही महिला …

आजीविका मिशन बना आय का जरिया

रायपुर. ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाओं को घरों और गांव के आस-पास रोजगार उपलब्ध कराकर उन्हें आत्मनिर्भर बनाने के लिए संचालित राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन, बस्तर जिले के बकावण्ड विकासखण्ड के ग्राम पंचायत डिमरापाल की मुरई बाई के परिवार के लिए आजीविका का आधार बन गया है. अपने गांव के जय मां लक्ष्मी स्व-सहायता समूह से ऋण के रूप में मिली राशि और कुंआ निर्माण के लिए मिले अल्पकालीन कृषि ऋण का लाभ उठाकर उन्होंने अपने खेती-किसानी की दशा और दिशा बदल दी है.

इसे भी पढ़ें – टी-20 वर्ल्ड कप : पाकिस्तान की हार से रोता बिलखता दिखा ये नन्हा फैन, पूर्व क्रिकेटर शोएब अख्तर ने किया शेयर … 

कुंआ का निर्माण कराने से बारहमासी सिंचाई की सुविधा उपलब्ध हुई है. इसका लाभ उठाकर उन्होंने अपने खेतों में बारहमासी फसलों के साथ-साथ सब्जी की खेती को अपनाकर अतिरिक्त आमदनी का जरिया खोज लिया है. अतिरिक्त आमदनी से मुरई बाई के परिवार के जीवन स्तर में सकारात्मक बदलाव आया है.

इसे भी पढ़ें – रेल यात्रियों के लिए बड़ी खबर: कोरोना काल से पहले की तरह दौड़ेंगी ट्रेनें, स्‍पेशल ट्रेनों का दर्जा हुआ खत्म, किराया भी होगा कम …

मुरई बाई स्व-सहायता समूह से जुड़ी है. उन्होंने अपने समूह से अब तक 4 बार में एक लाख 26 हजार रूपए ऋण लिया है. उनके पास जमीन उपलब्ध तो थी परंतु पानी की सुविधा नहीं होने कारण बाड़ी में कुछ नहीं लगाते थे. उन्होंने कुंआ निर्माण के लिया गया ऋण भी वापस कर दिया है और अब साग सब्जी की खेती से हर महीने लगभग 14 हजार की आमदनी हासिल कर रहीं है. इनके द्वारा मौसम आधारित फसल में पत्तागोभी, फूलगोभी, गवारफली, सेम, रबी फसल में आलू, प्याज, बैगन, मिर्ची, ग्रीष्मकालीन फसल में कद्दू, खीरा, लौकी, बरबटी की खेती करने से अतिरिक्त आय होने लगी है.

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।