कार मार्केट में मारूति की बादशाहत खत्म होने की कगार पर, बिक्री में हो रही है कमी

दिल्ली. मारुति सुजुकी पिछले 8 महीनो से भारत में बिक्री में कमी से जूझ रहा है। कंपनी के अनुसार, पिछले कुछ सालो की तुलना में इस साल कार के मांग में कमी आयी है।

कंपनी के कम बिक्री के बारे में बताते हुए कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर केनिची अयुकावा ने कहा कि इसका प्रमुख कारणों में से एक आने वाले 2019 आम चुनाव है, उन्होंने यह भी कहा कि कंपनी ग्राहकों को अपने उत्पादों की ओर खींचने में नाकाम रही है।

उन्होनें कहा “पिछले कुछ सालों के मुकाबले मांग में कमी आयी है। जो सच है। हम सही ग्राहकों को कैसे ढूंढेंगे, वह महत्वपूर्ण मुद्दा है। समय लगता है, हम उम्मीद करते है कि आम चुनाव के बाद बाजार एक बाजार फिर से उठेगा।”

मारुति सुजुकी आशा करती है कि खासकर नयी मारुति वैगन आर हैचबैक के लॉन्च होने के बाद, चौथे तिमाही में बिक्री 5 परसेंट तक बढ़ेगी। बाजार की सुस्त रफ्तार की वजह से जनवरी में कंपनी ने 1.1 परसेंट तथा फरवरी में 0.9 परसेंट का ग्रोथ दर्ज किया है।

मारुति सुजुकी ने भारतीय बाजर में 6वीं बार पैसेंजर वाहनों की बिक्री में भी गिरावट दर्ज किया है। ग्राहकों की दुविधा और अधिक बीमा कीमतों की वजह से भी बिक्री में गिरावट आयी है।

मारुति सुजुकी के अनुसार कार निर्माता कंपनियों को वित्तीय वर्ष के बिक्री अनुमान को फिर से बदलने की जरूरत है। मारुति सुजुकी ने पहले ही अपने ग्रोथ टारगेट को काम करके 8 परसेंट किया है।

विज्ञापन

धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।