राजभवन-सरकार के बीच टकराव : मंत्री रविंद्र चौबे एक सप्ताह में दूसरी बार राज्यपाल से की मुलाकात, कहा- नए कृषि कानून से कराया अवगत…

शिवम मिश्रा, रायपुर। कृषि मंत्री एवं संसदीय कार्यमंत्री रविंद्र चौबे ने आज राज्यपाल अनुसुइया उइके से सौजन्य मुलाकात की. इस दौरान उन्होंने छत्तीसगढ़ में नए कृषि कानून बनाने को लेकर चर्चा की. उनके सवालों का जवाब दिया. बता दें कि संसदीय कार्य मंत्री ने एक सप्ताह में दूसरी बार राज्यपाल से मुलाकात की है.

इसे भी पढ़े-बड़ी खबर- राजभवन-सरकार के बीच टकराव बढ़ा, कृषि कानून के विरोध में विधानसभा का विशेष सत्र बुलाए जाने पर राज्यपाल ने उठाए सवाल, फाइल लौटाकर पूछा, क्या-क्या काम होगा?

मंत्री रविंद्र चौबे ने बताया कि महामहिम राज्यपाल और हमारी सौजन्य भेंट हुई है. आज सुबह पुलिस स्मृति दिवस कार्यक्रम में भी राज्यपाल और मुख्यमंत्री की मुलाकात हुई थी. भेंट कर बताया कि हम लोग जिस तरीके से छत्तीसगढ़ में नए कृषि कानून बनाने के दिशा में आगे बढ़ रहे हैं. तो हमारे कानूनों के संदर्भ में राज्यपाल जानना चाहती थी, कि आखिर छत्तीसगढ़ में इनकी जरूरत और आवश्यकता क्यों पड़ी है. इसके साथ ही नए कानून में प्रावधान किस तरीके से बनाया गया है. मैंने उन सारी बातों को अवगत कराने के लिए मुलाकात करने आया था. और उन्हें अवगत करा कर लौट रहा हूं.

इसे भी पढ़े- बड़ी खबर : राज्यपाल विधानसभा सत्र बुलाने से नहीं रोक सकती, उनके सवाल का जवाब दिया जाएगा- भूपेश बघेल

बता दें कि छत्तीसगढ़ सरकार केंद्र सरकार द्वारा पारित तीन कृषि कानून के विरुद्ध अलग से कानून बनाने विधानसभा का दो दिवसीय विशेष सत्र बुलाया है. इसकी मंजूरी के लिए सरकार ने पिछले दिनों राज्यपाल को प्रस्ताव भेजा था. जिसे राज्यपाल ने लौट दिया था. इसके बाद सरकार ने उसी दिन शाम को राज्यपाल को जवाब प्रेषित किया था. सरकार ने बताया था कि चूंकि केंद्र सरकार द्वारा बनाये गए तीनों कानून से छत्तीसगढ़ के किसानों के हित प्रभावित हो रहे है, इसलिए राज्य के किसानों के हितों के लिए कानून बनाने विशेष सत्र आहूत किया जा रहा है. राज्य सरकार के दायरे में आने वाले कृषि सम्बन्धी कानून बनाने सत्र बुलाया जा रहा है.

इसे भी पढ़े– विधानसभा का विशेष सत्र बुलाना सरकार का विशेषाधिकार, कैबिनेट जब चाहे, जितने चाहे सत्र बुला सकती है- जानकार

loading...

Related Articles

loading...
Back to top button
error: Content is protected !!
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।